चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, April 16, 2015

"माँ आपको कभी नहीं भुला पाऊँगा" (चर्चा - 1948)

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
चलते हैं चर्चा की ओर 
My Photo
My Photo
My Photo
My Photo
My Photo
My Photo
My Photo
My Photo
मेरा फोटो
image
धन्यवाद 

11 comments:

  1. आदरणीय शास्त्री जी की पूज्य माता जी के निधन के कारण कल चर्चा नहीं हो पायी थी । लगा कुछ छूट गया । बहुत मुश्किल है निरंतरता को बनाये रखना । सच में एक लम्बे समय से किसी चीज को जिंदा रखना कितना मुश्किल होता है ऐसे ही समय में महसूस होता है । इस के लिये आदरणीय शास्त्री जी साधुवाद के पात्र हैं । दिलबाग जी का आभार उन्होने फिर कमान सँभाल कर आज चर्चा को आगे बढ़ाया । 'उलूक' आभारी है सूत्र 'दिमागों की बचत' को स्थान देने के लिये ।

    ReplyDelete
  2. आज की चर्चा की लिंक्स बहुत अच्छी लगीं |

    ReplyDelete
  3. बढ़िया लिंक्स-सह चर्चा प्रस्तुति...आभार!

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़ि‍या लिंक्‍स...चर्चा मंच में मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  5. बहुत रोचक चर्चा...

    ReplyDelete
  6. हमारी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए बहुत बहुत धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  7. सुंदर लिंक्स । स्थान देने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  8. बढ़िया लिंक्स ,रचना शामि‍ल करने के लि‍ए बहुत बहुत धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  9. बढियाँ चर्चा

    ReplyDelete
  10. चर्चा सार्थकता की पहचान बन पड़ी है.... बेहतरीन रचनायें, आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin