Followers

Wednesday, March 07, 2018

"फसलें हैं तैयार" (चर्चा अंक-2902)

सुधि पाठकों!
बुधवार की चर्चा में 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

स्टेट फ्यूनरल भी क्या अब  

स्टेटस सिम्बल बन गया है ? 

कुछ दिन पूर्व हर दिल अजीज़, बेहद खूबसूरत और बेहद प्रतिभाशाली अभिनेत्री श्रीदेवी का असमय ही संसार से विदा लेकर चले जाना उनके प्रशंसकों और चाहने वालों को बुरी तरह से झकझोर गया ! अभी उनकी उम्र नहीं थी अलविदा कहने की ! फिर वतन की मिट्टी से दूर जिन असामान्य स्थितियों में उनका निधन हुआ वह निश्चित रूप से और भी दर्दनाक था !* *भारत में उनके पार्थिव शरीर के आने के बाद उनके अंतिम संस्कार के लिए बहुत ही सुरुचिपूर्ण तरीके से भव्य आयोजन की व्यवस्था की गयी... 
Sudhinama पर sadhana vaid  
--
--
--
--
--
--
--
--

किताबों की दुनिया -167 

नीरज पर नीरज गोस्वामी  
--

6 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. सार्थक चर्चा। आपका आभार बहन राधा तिवारी।

    ReplyDelete
  3. मेरी रचना चर्चा मंच में शामिल करने हेतु बहुत बहुत धन्यवाद,राधा जी।

    ReplyDelete
  4. सुंदर संकलन. मेरी रचना को सम्मान देने के लिए शुक्रिया आदरणी‍या राधा जी. सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर सार्थक आज की चर्चा ! मेरे आलेख को आज की चर्चा में स्थान देने के लिए आपका बहुत बहुत आभार राधा जी !

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सुहानी न फिर चाँदनी रात होती" (चर्चा अंक-3134)

सुधि पाठकों! बुधवार   की चर्चा में  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। राधा तिवारी (राधे गोपाल) -- दोहे   "शरदपूर्णिमा रात...