Wednesday, June 05, 2019

"बोलता है जीवन" (चर्चा अंक- 3357)

मित्रों!
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

तुम्हारी ही बातें 

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा 
--
--

डॉ. वर्षा सिंह की ग़ज़ल  

@ अम्बालिका पत्रिका 

वो शख़्स मुझे छोड़ मेरे हाल पर गया ।
उसको न कभी मुझसे कोई वास्ता रहा।
दरिया-ए-इश्क़ में मैं डूबी न बच सकी,
मझधार में न उसका सहारा मुझे मिला... 
--
--

सावित्री 

Sweta sinha 
--
--

बोझ 

Sudhinama पर 
Sadhana Vaid  
--

जंगलों में लगी आग 

--

लघुकथा :  

घर का पता 

झरोख़ा पर 
निवेदिता श्रीवास्तव  

--
--

"मैं की बीमारी"   

अरुण कुमार निगम 

मैं मैं मैं की बीमारी है
खुद का विपणन लाचारी है।

मीठी झील बताता जिसको

देखा चख कर वह खारी है...
--
--
--

सबद भेद :  

समलैंगिक कामुकता की रवायत और ग़ालिब :  

सच्चिदानंद सिंह 

समालोचन पर arun dev  
--

चलते-चलते 

कहते-सुनते दुःख-दर्द बिसर जाते हैं  
चलते-चलते हम यहाँ-वहाँ ठहर जाते हैं  
तब मौन बोलता है जीवन  
अपने होने के अर्थ खोलता है! 
अनुशील पर अनुपमा पाठक 
--

8 comments:

  1. बहुत सुंदर और सराहनीय रचनाएँ है आज के अंक में सादर आभार सर मेरी रचना को स्थान देने के लिए।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति शानदार लिंकों का चयन सभी रचनाकारों को बधाई।

    ReplyDelete
  4. ईद की बधाइयाँ। विश्व पर्यावरण दिवस की शुभकामनाएँ। सुंदर लिंक्स। मेरे ब्लॉग को स्थान देने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति। ईद मुबारक!!

    ReplyDelete
  6. ईद की हार्दिक बधाइयाँ सभी साथियों को !सुन्दर सूत्रों का संयोजन आज की चर्चा में ! मेरी प्रस्तुति को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी!सादर वन्दे!

    ReplyDelete
  7. मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए हार्दिक आभार 🙏

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।