Followers


Search This Blog

Thursday, December 15, 2011

"भ्रष्टाचार की जड़ से-उठो भारत" (चर्चा मंच - 729)

  आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है
                       
भ्रष्टाचार के विरुद्ध अन्ना ने मुहिम चला दी है. अन्ना कितने सही हैं , अन्ना की टीम कितनी गलत है , इस पर मतभेद हो सकते हैं , लेकिन इस पर मतभेद नहीं होगा कि अब जागने का समय है तो चलो अब उठो भारत
                                 आज की चर्चा 
गद्य रचनाएं 


पद्य रचनाएं  
अंत में देखिए देव आनन्द जी को श्रद्धांजली एक अनोखे अंदाज में ब्लॉग हिंदी हाइगा पर. 
             आज  की चर्चा में बस इतना ही 
                                          धन्यवाद
                                    दिलबाग विर्क 

                        * * * * *

29 comments:

  1. बहुत शानदार चर्चा!
    आपकी नियमितता का कायल बूँ!

    ReplyDelete
  2. दिलबाग विर्क जी ..भ्रष्टाचार के विरुद्ध अन्ना ने मुहिम चला दी है. अन्ना कितने सही हैं अन्ना की टीम कितनी गलत है , इस पर मतभेद है पर बड़ी आफत में हम फसे से रह गये है ...पर सांच को आंच नहीं ये सोचकर देश हित में लिखे जा रहे है | वैसे कुछ दिन में अच्छे मित्रो ने सिर्फ इसलिए हुमारा साथ छोड़ दिया की हमने एक पोस्ट में अन्ना का समर्थन किया या विरोध ...पर खैर वो मित्र ही क्या जो मित्रता को ना समझे .... हमारे निजी मित्र हमे कभी नहीं छोड़ेगे हमारी फेसबुक से क्या मित्रता |

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया लिनक्स मिले...... आभार

    ReplyDelete
  4. पठनीय लिंक्स से सजी शानदार चर्चा...आभार|

    ReplyDelete
  5. आज के सूत्र बड़े ही स्तरीय लगे।

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन चर्चा मंच ....!

    ReplyDelete
  7. bahut badiya charcha prastuti.....aabhar!

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन चर्चा के साथ बेहतरीन लिंक |

    टिप्स हिंदी में

    ReplyDelete
  9. "दिलबाग जी" बहुत बढिया चर्चा मंच,रचना को मंच पर लाने के लिए आपका हार्दिक आभार....

    ReplyDelete
  10. चर्चामंच पर हमें स्थान देने का बहुत - बहुत शुक्रिया दोस्त | आपकी म्हणत और लगन को प्रणाम |

    ReplyDelete
  11. बढिया लिंक संयोजन्।

    ReplyDelete
  12. दिलबाग विर्क जी,
    बधाई. चर्च-मंच पर शानदार चर्चा और बढिया लिंक के साथ |
    चर्चा-मंच पर मेरी इंतज़ार का भी आभार !

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर लिंक्स के साथ सजी है ये चर्चा मंच.

    ReplyDelete
  14. अरे !
    अविनाश जी को हैप्पी बर्थ डे
    कहने से जब मिल गया
    मुझे ईनाम चर्चा मंच ने
    दे दिया मेरा नाम
    शुक्रिया अविनाश जी
    शुक्रिया दिलबाग जी
    कर दिया आपने तो दिल
    मेरा बाग बाग अगले वर्ष
    अविनाश जी को पकड़ कर
    अल्मोड़ा ले आउंगा
    और केक यहीं कटवाउंगा
    पूरा चर्चा मंच
    पर छा जाऊंगा।
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  15. सुंदर लिंक्स से सजी रोचक चर्चा...आभार

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर चर्चा , मजा आ गया ..

    ReplyDelete
  17. बढिया चर्चा।
    पढनीय लिंक्स।

    ReplyDelete
  18. सबसे पहले तो मेरे आलेख को चर्चा मंच पर शामिल करने के लिए तहे दिल से शुक्रिया, पर आपसे एक बात की शिकायत है भाई ! आपने लिखा की मैंने अपने आलेख में प्रियंका उमर की प्रेम कहानी लिखा है ! ऐसा नही है, मैंने अपने आलेख में आज की भारतीय लड़कियों की तुलना एक ऐसी लडकी से की है जिसके पूर्वज बरसों पहले हिंदुस्तान छोड़ विदेश में जा बसे थे ! बाबजूद इसके उस लड़की में अब भी वो सारे संस्कार हैं जिसकी उम्मीद हम अपनी लड़कियों से करते हैं ! उसकी तुलना में आप आज की हिंदुत्स्तानी लड़कियों को देख लें ! एक तरह से कहें तो ये तुलनात्मक आलेख है !

    ReplyDelete
  19. चर्चा-मंच पर उल्लेख के लिए धन्यवाद !

    ReplyDelete
  20. mere navgeet ko yahan sthan mila aapka bahut bahut dhnyavad .itne achchhe achchhe link aap humsabhi ke liye dhundh kar late hain abhar
    rachana

    ReplyDelete
  21. मेरी ब्लॉग पोस्ट ' साहब का कुत्ता ' को चर्चा मंच पर और इतना सम्मान देने के लिए आपका हार्दिक आभार.
    बहुत सारे और अच्छे लिंक मिले... आभार

    ReplyDelete
  22. बहुत सुंदर लीकों की चर्चा..बेहतरीन प्रस्तुति ...

    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    नेता,चोर,और तनखैया, सियासती भगवांन हो गए
    अमरशहीद मातृभूमि के, गुमनामी में आज खो गए,
    भूल हुई शासन दे डाला, सरे आम दु:शाशन को
    हर चौराहा चीर हरन है, व्याकुल जनता राशन को,

    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    ReplyDelete
  23. mere blog ko chrcha mein shamil karne ke liye dhanyawad.

    ReplyDelete
  24. बहुत बहुत धन्यवाद मेरी कविता को यहाँ प्रस्तुत करने के लिए...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।