साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Sunday, December 25, 2011

मैकाली शिक्षा और अंधी दौड़ : चर्चा मंच ७३९ :

माफ कीजियेगा , साँपला  से आने में लेट हो गया सो चर्चा अभी लगा रहा हूँ , चर्चा की शुरुआत से पहले सभी को क्रिसमस मुबारक हो , अब बात करते हैं उस  छोटी सी लव स्टोरी की जिसने   इतिहास रच दिया है,



एक ब्लागर .  का  वर्ष एक बीत गया ! जिसने  लिखा  क्यो   संत   -   शनि मांगे मनी 

आज का  फ़साना यही तक , 
सादर 

कमल 

15 comments:

  1. बहुत अच्छे लिंक ...

    ReplyDelete
  2. अच्‍छी चर्चा।
    बेहतन लिक्स।

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद कमल बाबू हमरा पोस्ट लगाने के लिए ... खुदा तुम्हे "इल्मी" की इनायत बक्शे हा हा हा

    ReplyDelete
  4. अच्छा प्रयाश सुंदर चर्चा,.....

    मेरी नई रचना...काव्यान्जलि ...बेटी और पेड़... में click करे

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छा प्रयास

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा.... बढ़िया लिंक्स...
    सादर आभार....

    मेरी क्रिसमस.

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. आप सभी का बहुत बहुत आभार चर्चा मंच पे आने के लिए , अगली बार जम के प्रयास करूँगा , दिमाग घर रख और दिल साथ ले के जरुर आयें :)

    सादर ,

    कमल

    ReplyDelete
  9. Nice links .

    इस समय पूरी दुनिया में दुर्भाग्य से आत्म-हत्या की मानसिकता बनती जा रही है। पश्चिमी देशों में सामाजिक व्यवस्था के बिखराव के कारण समय से आत्म-हत्या की मानसिकता बढ़ती जा रही है।
    http://hbfint.blogspot.com/2011/12/merry-christmas.html

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"आरती उतार लो, आ गया बसन्त है" (चर्चा अंक-2856)

सुधि पाठकों! आप सबको बसन्तपञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँ। -- सोमवार की चर्चा में  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। राधा तिवारी (र...