Followers

Monday, December 17, 2012

सोमवारीय चर्चामंच-1096

दोस्तों! चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ का नमस्कार! सोमवारीय चर्चामंच पर पेशे-ख़िदमत है आज की चर्चा का-
 लिंक 1- 
_______________
लिंक 2-
_______________
लिंक 3-
_______________
लिंक 4-
_______________
लिंक 5-
राम राम भाई! हम असली गाँधीवादी हैं -वीरेन्द्र कुमार शर्मा ‘वीरू भाई’
मेरा फोटो
_______________
लिंक 6-
जय हिन्दी जय भारत -अरुणा कपूर
My Photo
_______________
लिंक 7-
‘बैंडिट क्वीन’ से शुरुआत -सौरभ शुक्ला, प्रस्तुति- माधवी शर्मा गुलेरी
_______________
लिंक 8-
मिलन की आस -डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’
_______________
लिंक 9-
इक साल -रजनीश तिवारी
My Photo
_______________
लिंक 10-
साहब की कोठी -मनोज कुमार
मेरा फोटो
_______________
लिंक 11-
Girish Pande
_______________
लिंक 12-
मेरी डगर -डॉ. नूतन डिमरी गैरोला
[sad0012%255B6%255D.gif]
_______________
लिंक 13-
छोटी सी 'बड़ी बात' -पुरुषोत्तम पाण्डेय
मेरा फोटो
_______________
लिंक 14-
शब्द -ईश मिश्र
My Photo
_______________
लिंक 15-
आजा री निंदिया रानी तू आजा! -मृदुला हर्षवर्द्धन
_______________
और अन्त में
लिंक 16-
________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!


कमेंट बाई फ़ेसबुक आई.डी.

22 comments:

  1. बहुत अच्छे पठनीय सूत्रों से सजी चर्चा के लिए बहुत बहुत बधाई गाफिल जी

    ReplyDelete
  2. काफ़ी बढिया लिंक्स संजोये हैं ।

    ReplyDelete
  3. बढिया लिंक्स
    अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  4. अच्छे लिंकों के साथ बढ़िया चर्चा!
    आभार!

    ReplyDelete
  5. लिंक-15
    स्वप्न सलोने ले आती है, जब आती है निंदिया।
    प्रियतम तुम्हें रिझाने को ये, झिलमिल करती बिंदिया।।

    ReplyDelete
  6. लिंक-1
    दुश्मन की अरु मित्र की, मुश्किल है पहचान।
    जो गर्दिश में साथ दे, मित्र उसी को मान।।

    ReplyDelete
  7. लिंक-2
    अपनी पुस्तक में करो, भावनाओं को व्यक्त।
    कोरे कागज को भरो, हो करके अनुरक्त।।

    ReplyDelete
  8. लिंक-3
    हाथों की ये चूढ़ियाँ, जब करती हैं शोर।
    सुन कर इस संगीत को, नाचे मन का मोर।।

    ReplyDelete
  9. लिंक-4
    दूजों की कर चाकरी, मत होना बदनाम।
    भड़कीली छवि देखकर, जग जाता है काम।।

    ReplyDelete
  10. लिंक-5
    गांधी जी के नाम को, भुना रहे हैं लोग।
    गांधी के ही नाम से, चला रहे उद्योग।।

    ReplyDelete
  11. लिंक-6
    राष्ट्रभाषा हिन्दी की ओर प्रेरित करता बढ़िया लघुआलेख!

    ReplyDelete
  12. लिंक-9
    चमकेगा अब गगन-भाल।
    आने वाला है नया साल।।

    आशाएँ सरसती हैं मन में,
    खुशियाँ बरसेंगी आँगन में,
    सुधरेंगें बिगड़े हुए हाल।
    आने वाला है नया साल।।

    ReplyDelete
  13. लिंक-12
    मन में आशा का संचार करती सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  15. बढ़िया चर्चा । सभी लिंक्स बढ़िया ।

    ReplyDelete
  16. कैसे जानूं मैं -निरन्तर



    धीरज ,धर्म, मित्र अरु नारी ,आपद काल परखिये ही चारी .......जो आपके ब्लॉग पे निरंतर आये आप वहां न जाएँ ....निरंतर बस कलम चलायें ....

    ReplyDelete
  17. बिना लाल बत्ती वाला नेता ला -वारिश होता है श्रीमान बत्ती राखिये .....

    "लालबत्ती मुझे भी चाहिए" (कार्टूनिस्ट मयंक)

    ReplyDelete
  18. बढ़िया आद्र संस्मरण .एहसान हलाली हरेक को आती नहीं है यह एहसान फरामोसों का दौर है पहले लोग -नेकी कर दरिया में डाल ,का फलसफा लिए होते थे आपकी तरह .

    ReplyDelete
  19. बढ़िया रचना है कृपया अनुनासिक /अनुस्वार लगाएं रचना को शुद्ध करें ....मिलाएं कृपया ,आदर और नेहा से ....वीरुभाई ...

    (हाथों ,हैं ,धडकनें ,)
    Sunday, 16 December 2012
    मेरे हाथो की ये चूड़ियाँ न जाने क्या गुनगुना रही है....!!
    मेरे हाथो की ये चूड़ियाँ न जाने,
    क्या गुनगुना रही है....
    खनक-खनक मेरे हाथो में,

    याद तुम्हारी दिला रही है.....

    पूछ न ले कोई सबब इनके खनकने का,
    मैं इनको जितना थामती हूँ...
    नही मानती मेरी बे-धड़क
    शोर मचा रही है,
    मेरे हाथो की ये चूड़ियाँ
    न जाने क्या गुनगुना रही है.....

    मैं कुछ कहूँ न कहूँ मेरा हाल-ए-दिल...
    मेरी चूड़ियां सुना रही है.....
    आज भी तुम्हारी उँगलियों की छुअन से,
    मेरी चूड़ियाँ शरमा रही है...
    मेरे हाथो की ये चूड़ियाँ न जाने क्या गुनगुना रही है..

    मेरी हाथो से है लिपटी,
    एहसास तुम्हारा दिला रही है.....
    मैं कब से थाम कर बैठी हूँ,
    अपनी धडकनों को....
    जब भी खनकती है मेरे हाथो में,
    धड़कने तुम्हारी सुना रही है.....
    मेरे हाथो की ये चूड़ियाँ न जाने क्या गुनगुना रही है..

    तुम्हारी तरह ये मुझसे ये रूठती भी है,
    रूठ कर टूटती भी है....
    मैं इनको फिर मना रही हूँ....
    सहज कर अपने हाथो में सजा रही हूँ,
    ये फिर मचल कर तुम्हारी बाते किये जा रही है....
    मेरे हाथो की ये चूड़ियाँ न जाने क्या गुनगुना रही है..
    Posted by sushma 'आहुति' at 04:26

    ReplyDelete

  20. सड़क पे गाड़ी चलाने वाला हिन्दुस्तान में अपने आपको अफलातून समझता है और गाड़ी पुलिस की हो तो अफलातून का भी बाप मान लेता है स्साला खुद को .यह हमारे नागर बोध की एक झलक मात्र हैं पुलिसिया के तो कहने ही क्या .बढ़िया रिपोर्ताज ...

    लिंक 10-
    साहब की कोठी -मनोज कुमार

    ReplyDelete
  21. लिंक 10-
    साहब की कोठी -मनोज कुमार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सब कुछ अभी ही लिख देगा क्या" (चर्चा अंक-2819)

मित्रों! शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...