Followers

Tuesday, July 16, 2013

मंगलवारीय चर्चा --1308--- भुंजे तीतर सा मेरा मन

आज की मंगलवारीय  चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते , आप सब का दिन मंगल मय हो अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लॉग्स पर 

                                           सुप्रभात

---------------------------------------------------------------------------------

चुहुल - ५४

noreply@blogger.com (पुरुषोत्तम पाण्डेय) at जाले 
-------------------------------------------------------------------------------

अपनी सोई हुई दुनिया को जगा लूँ तो चलूँ...मोईन हसन जज़्बी

डा. मेराज अहमद at समय-सृजन (samay-srijan) 
-------------------------------------------------------------------------------

मैं और मेरा उत्तराखंड

आशा बिष्ट at शब्द अनवरत...!!! 
--------------------------------------------------------------------------------

मुसाफ़िर

---------------------------------------------------------------------------------

Untitled

Dr. sandhya tiwari at परिंदा - 15 hours ago
* पहचान * * 
-------------------------------------------------------------------------------  

पर परिवर्तन नहीं सुहाए-

---------------------------------------------------------------------------------

किताबों की दुनिया - 84

नीरज गोस्वामी at नीरज 
--------------------------------------------------------------------------------

आडवाणी-पुराण

---------------------------------------------------------------------------------

बंद हो विधवाओं पर अत्याचार vidhva


---------------------------------------------------------------------------------

वक़्त किसका गुलाम होता है

Rajesh Kumari at HINDI KAVITAYEN ,AAPKE VICHAAR
---------------------------------------------------------------------------------

भुंजे तीतर सा मेरा मन

--------------------------------------------------------------------------------

सृष्टि रंगमंच है अद्भुत

---------------------------------------------------------------------------------

कपड़े काटती कैंची 'कुण्डलिया '

---------------------------------------------------------------------------------

The Story of immortality

---------------------------------------------------------------------------------

Trivendrum/Thiruvananthapuram (Kovalam Light house Beach) त्रिवेन्द्रम- कोवलम लाइट हाऊस समुन्द्र किनारा/बीच

---------------------------------------------------------------------------------

यदि तुम मुझसे सच्चा प्रेम करते हो [IF YOU REALLY LOVE ME ]

shikha kaushik at भारतीय नारी - 
---------------------------------------------------------------------------------

जिन्दगी..........

दिल की आवाज़ at दिल की आवाज
---------------------------------------------------------------------------------

दुश्मने - ख़ानुमां ...

Suresh Swapnil at साझा आसमान
---------------------------------------------------------------------------------

बॉसिज्म..

shikha varshney at स्पंदन SPANDAN
---------------------------------------------------------------------------------

मौसम पानी -पानी ।

त्रिवेणी at त्रिवेणी -
--------------------------------------------------------------------------------

अज़ीज़ जौनपुरी :क्या-क्या नहीं देखा

Aziz Jaunpuri at Zindagi se muthbhed
-------------------------------------------------------------------------------
आज की चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ  फिर चर्चामंच पर हाजिर होऊँगी

कुछ नए सूत्रों के साथ तब तक के लिए शुभ विदा बाय बाय ||
--
आगे देखिए..."मयंक का कोना"
(1)
*पाश में लो बांध मुझको, एक नया संसार ढालो |* 
*ना रहे अस्तित्व मेरा, अंक में मुझ को छुपालो |* ...
साहित्यिक सहचर पर DrRaaj saksena
(2)
ब्लाग संसद खचाखच भरी हुई थी. 
इस सत्र में कई बिल पास होने थे 
इनमें भी महत्वपूर्ण बिल यह था कि इस साल का *"सर्वश्रेष्ठ ब्लाग रत्न शिरोमणि" 
अवार्ड किसे दिया जाये? ....
ताऊ डाट इन पर ताऊ रामपुरिया 

(3)
मुस्तैद दिल्ली पुलिस या प्रेशर कुकर

दोस्तो कल का ही वाक्या है एक दोस्त के यहाँ जाना हुआ शाम 8 बजे का समय था |उनका कुछ सामान देने जाना था तो मैं भी यश जी के साथ चली गई |वहां जाकर देखा दोस्त के पास एक पुलिस वाला खड़ा था और एक गाड़ी को स्केल से खोलने की कोशिश कर रहा था पर गाड़ी क्योंकि सेंट्रली लॉक थी तो नहीं खुली |...
मेरी सच्ची बात पर सरिता भाटिया
(4)
इस सदी का एक ट्रेंड
*कम्प्यूटर के इस युग में* 
*अजीब आई आँधी* 
*दूर होते चले गए अपने* 
*खत्म हुआ मिलना-जुलना*...
अंतर्मन की लहरें पर Dr. Sarika Mukesh 

(5)
अब तुम भी पूछोगी क्या?
क्यों पूछती हो एक ही बात बार बार 
ये किस पर लिखा है क्या कुछ लिखा है 
मैने कभी क्या तुमसे कहा है 
मैं लिख रहा हूँ...
उल्लूक टाईम्स पर सुशील 

(6)
मोहब्बत और शादी

जिससे मोहब्बत की है 
अगर उसी के साथ 
जिन्दगी के लम्हात गुजारना नसीब हो जाये 
तो क्या ही अच्छी बात है। 
कहते हैं की वर्ना मोहब्बत का गम 
जिन्दगी भर सताता रहता है...
मोहब्बत नामा पर Aamir Dubai
(7)
‘‘रावण को जलाओ तो कोई बात बने’’

मीत का साथ निभाओ तो कोई बात बने।
गीत में साज बजाओ तो कोई बात बने।।

एक दिन मौज मनाने से क्या भला होगा?
रोज दीवाली मनाओ तो कोई बात बने।
(8)

घायल का घरौंदा पर dileep tiwari 

19 comments:

  1. आज की चर्चा पढ़कर तो मन प्रसन्न हो गया।
    --
    आपका आभार बहन राजेश कुमारी जी!

    ReplyDelete
  2. बढ़िया लिंक्स राज कुमारी जी |
    आशा

    ReplyDelete
  3. सार्थक और सुंदर रचनाओं का अनुपम प्रस्तुतिकरण | साधुवाद |

    ReplyDelete
  4. बहुत ही अच्छी रचनाएँ एक साथ पढ़ने के सुअवसर मिला...साधुवाद!
    हमारी पोस्ट "सुप्रभात" और "इस सदी का ट्रेंड" को स्नेहात्म्क प्रतिक्रिया और साथ ही मंगलवारीय चर्चा --1308--- भुंजे तीतर सा मेरा मन में "मयंक का कोना" पर स्थान देने हेतु आप दोनों का (श्रीमती राजेश दीदी और महोदय श्री शास्त्री जी का) हार्दिक आभार!
    सादर/सप्रेम,
    डॉ. सारिका मुकेश

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा-
    आपका आभार दीदी-

    ReplyDelete
  6. राजेश जी, ढेर सारे लिंक्स से सजी सुंदर चर्चा...आभार मुझे भी शामिल करने के लिए..

    ReplyDelete
  7. सुन्दर लिंक्स के साथ सुन्दर चर्चा ……आभार

    ReplyDelete
  8. सुंदर चर्चा सुंदर सूत्रों के साथ !
    मयंक जी का आभार !

    ReplyDelete
  9. मेहनता दिखाई दे रहा है.. आभार

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  11. बढिया लिंक्स
    अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  12. रंग विरंगी चर्चा रही.
    आभार

    ReplyDelete
  13. सुंदर चर्चा...आभार मुझे भी शामिल करने के लिए...

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन चर्चा, आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  15. सुन्दर लिंक्स, सुंदर चर्चा...आभार मुझे भी शामिल करने के लिए, राजेश कुमारी जी !.

    ReplyDelete
  16. आप सभी का हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  17. सुन्दर और रोचक चर्चा..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...