Followers

Wednesday, July 31, 2013

कीचड़ तो तैयार, मगर क्या कमल खिलेंगे-- चर्चा मंच 1323


 गुरुवर का आदेश, देश की हालत जाँचो -
करता चर्चा पेश, पाठकों प्रियवर बाँचो -


"माँ शारदा वंदन" (श्यामा अरोरा)


अम्ब शारदे वंदन तेरा 
हम करते अभिनन्दन तेरा 

दर पर आये है हम भिखारी 
पूरी कर दो आशा हमारी 
सुन लो करुण यह क्रंदन मेरा 
हम करते अभिनन्दन तेरा 
अम्ब शारदे वंदन तेरा

माँ मुझको वीणा का स्वर दो 
मेरा राग अमर माँ कर दो 
मस्तक कर दो चन्दन मेरा 
हम करते अभिनन्दन तेरा 
अम्ब शारदे वंदन तेरा



गीत तुम्हारे लिखती जाऊ 
मईया तुमसे यह वर पाऊ 
खिला  रहे मन नंदन मेरा 
हम करते अभिनन्दन तेरा 
अम्ब शारदे वंदन तेरा

उर में मेरे भाव समा दो 
श्वास श्वास में सुर बिखरा दो 
कहे ह्रदय स्पंदन मेरा 
हम करते अभिनन्दन तेरा 
अम्ब शारदे वंदन तेरा

सरिता भाटिया 

" तस्वीरें बोलती हैं "...........!!!!

PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.) 


pankhuri goel 

ईमान- नेताओं मे

Ghotoo 



रविकर 


कल्पना की लहरें .....


Yashwant Mathur 



चिट्ठियों से हुई चित्रा मुद्गल के लेखन की शुरूआत


Krishna Kumar Yadav 



सीधे सीधे बता पागल मन बना !

सुशील 


दिले नादान को बहला रहा हूँ

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu"  


Kailash Sharma 

परिवर्तन...


Pallavi saxena 



यही उपकार काफी है कि अब उपकार मत करना


Manoj Nautiyal 



भूल गया रोने के लिए अलग एक कमरा रखना..........निधि मेहरोत्रा


yashoda agrawal 



परछाइयाँ कब हुई अपनी ........


उपासना सियाग 



गृहणी

Rewa tibrewal


बच्चों की शिक्षा और हरिलाल गांधी


मनोज कुमार 



सच्चाई की हार, वोट कुछ दल ने जोड़े-


अखिलेश सरकार अपनी विफलताओं को तुष्टिकरण की आड़ में छुपाना चाहती है !!

पूरण खण्डेलवाल

 फलता है हर फैसला, फैला कारोबार |
अधिकारी का हौंसला, तोड़े बारम्बार |
तोड़े बारम्बार, शक्ति दुर्गा की तोड़े |
सच्चाई की हार, वोट कुछ दल ने जोड़े |
छलता सत्ता-असुर, सिंह रह गया उछलता |
हुवा फेल अखिलेश, छुपाता सतत विफलता |

बनाने वाले ने हमें भी अगर, ऐसा ऐ काश बनाया होता

पी.सी.गोदियाल "परचेत" 
खोजो शाला इक बड़ी, पढ़ते जहाँ अमीर  |
मनचाहा साथी चुनो, सुन राँझे इक हीर |

सुन राँझे इक हीर, चीर कर दिखा कलेजा |
सुना घरेलू पीर, रोज खा उसका भेजा |

प्रथम पुरुष को पाय, लगाए दिल वह बाला |
समय गया पर बीत, पुत्र हित खोजो शाला ||


कीचड़ तो तैयार, मगर क्या कमल खिलेंगे-

कमल खिलेंगे बहुत पर, राहु-केतु हैं बंकु |
चौदह के चौपाल  की, है उम्मीद त्रिशंकु |

है उम्मीद त्रिशंकु, भानुमति खोल पिटारा |
करे रोज इफ्तार, धर्म-निरपेक्षी नारा |

ले "मकार" को साध, कुशासन फिर से देंगे |
कीचड़ तो तैयार, 
मगर क्या कमल खिलेंगे--
*Minority
*Muthuvel-Karunanidhi 
*Mulaayam
*Maayaa
*Mamta 

अपना ही दामाद, क्लीन चिट छापे अप्पा-

गट्टा पकड़े जाँच-दल, पर पट्ठा की ट्रिक्स |
मैच फिक्स करता रहा, करे जाँच अब फिक्स |  

करे जाँच अब फिक्स, बड़े दाउद का बप्पा |
अपना ही दामाद, क्लीन चिट छापे अप्पा |

बी सी सी आई राज, लगा इज्जत पर बट्टा |
अपने क्लब पर नाज, छुड़ा के भागे गट्टा ||

 मयंक का कोना 
"कुछ अद्यतन लिंक"
गाथा हिंदुस्तान
आपका ब्लॉग


--
(एक अगस्त से हरि गीतिका छन्द का प्रारम्भ हो जायेगा)
सृजन मंच ऑनलाइन
सृजन मंच ऑनलाइन

--
"तितली रानी"
मन को बहुत लुभाने वाली,
तितली रानी कितनी सुन्दर।
भरा हुआ इसके पंखों में,
रंगों का है एक समन्दर।।
नन्हे सुमन
--
"जाम ढलने लगे" 

हो रहा सब जगहधन से धन का मिलन
रो रहा हर जगहभाई-चारा अमन,  
नाम है आचमनजाम ढलने लगे।  
करते-करते यजनहाथ जलने लगे।। 
उच्चारण

--
आख़िर मैंने चान (चाँद) लिख दिया
ग़ाफ़िल की अमानत
आख़िर मैंने चान (चाँद) लिख दिया। 
सागर में तूफ़ान लिख दिया...
ग़ाफ़िल की अमानत पर चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल

--
कौन टाइप के हो समीर भाई

जनम दिन मुबारक हो समीर भाई...!
नुक्कड़ पर Girish Billore
--
जिसकी नहीं कदर यहाँ पर ,ऐसी वो बेजान यहाँ है .

! कौशल ! पर Shalini Kaushik

--
कार्टून:- लो, और बना लो तेलंगाना

काजल कुमार के कार्टून

20 comments:

  1. शुभ प्रभात रविकर भैय्या
    रुचिपरक लिंक्स हैं आज
    आभार

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा के लिए रविकर जी आपका आभार!
    --
    समीर लाल समीर को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    --

    ReplyDelete
  3. बढिया लिंक्स, जाकर पढते हैं ।

    ReplyDelete
  4. धन्‍यवाद जी कार्टून को भी आज की सुघड़ चर्चा में सम्‍मि‍लि‍त करने के लि‍ए

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन चर्चा !

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete
  7. बढिया चर्चा
    अच्छे लिंक्स

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया चर्चा...सुन्दर रचनाएं पढने को मिलीं...
    आभार रविकर जी
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  9. समीर लाल जी को जन्मदिन पर हार्दिक बधाई |बढ़िया लिंक्स हैं पढ़ने के लिए |
    आशा

    ReplyDelete
  10. आदरणीय समीर सर जी को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई बहुत ही सुन्दर चर्चा आदरणीय रविकर सर हार्दिक आभार आपका.

    ReplyDelete
  11. कौन टाइप के हो समीर भाई

    जनम दिन मुबारक हो समीर भाई...!
    नुक्कड़ पर Girish Billore

    सदर सदारत जबर जबलपुर, लम्ब्रेटा की लम्बी चाल |
    कुदरत का खुबसूरत टुकड़ा, देखा समझा बाल-बवाल |
    खुश्बू वाला पान चबाये, होंठों को कर लेते लाल |
    दीवारों पर नई कलाकृति, अब भी क्या देते हैं डाल --

    ReplyDelete
  12. सुन्दर चर्चा के लिए आभार!

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुंदर लिंक्स, आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  14. आपकी चर्चा में विषयों का काव्यमयी बोध हो जाता है।

    ReplyDelete
  15. चर्चा करु तब चौहटे, ज्ञान करो तब दोय ।
    ध्यान धरो तब एकिला, और न दूजा कोय ॥
    ----- ॥ संत कबीर ॥ -----

    भावार्थ : -- सत्संग-चर्चा भरे चौराहे पर करो, जिससे सभी को उसका लाभ प्राप्त हो, जब विशेष ज्ञान-गोष्ठी आयोजन हो तो उसमें केवल जिज्ञासु एवं उपदेशक ही हों, चिंतन-मनन हेतु एकांत होना चाहिए,

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर लिंक्स ...मेरी रचना को शामिल करने के लिए शुक्रिया :-)

    ReplyDelete
  17. बहुत बहुत धन्यवाद अंकल


    सादर

    ReplyDelete
  18. उल्लूक का आभार सुंदर चर्चा में पोस्ट जो दिखाई
    साथ में समीर जी को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...