Followers

Tuesday, July 23, 2013

मंगलवारीय चर्चा 1315----तस्मै श्री गुरुवे नमः !

आज की मंगलवारीय  चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते , आप सब का दिन मंगल मय हो अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लॉग्स पर 

तस्मै श्री गुरुवे नमः !

रेखा श्रीवास्तव at hindigen
--------------------------------------

इब है कहाँ जातिवाद !!!-लघु कथा

shikha kaushik at WORLD's WOMAN BLOGGERS
--------------------------------------

आधा पागल ?

उदय - uday at कडुवा सच 
--------------------------------------

----- ॥ हर्फ़े-शोशां ॥ -----

Neetu Singhal at NEET-NEET -
--------------------------------------

थी क्या जन्मों की तरसीं ...??

Anupama Tripathi at anupama's sukrity
---------------------------------------------

मंहगाइयां नहीं होतीं

Suresh Swapnil at साझा आसमान - 
--------------------------------------

बन जाओ न नीला समंदर.....

रश्मि शर्मा at रूप-अरूप 
--------------------------------------

जग-जीवन

त्रिवेणी at त्रिवेणी 
--------------------------------------

कुछ साधारण सा अनुभव... :-)

---------------------------------------------

चल और अचल लम्हों के बीच जिन्दगी कुछ ऐसी है

संध्या आर्य at हमसफ़र शब्द
पी.सी.गोदियाल "परचेत" at अंधड़ !
---------------------------------------

एक मुक्तक --

shashi purwar at sapne
--------------------------------------

संतोष त्रिवेदी और मुकेश सिन्हा को परिकल्पना ब्लॉग गौरव युवा सम्मान

रवीन्द्र प्रभात at परिकल्पना
--------------------------------------

धूल गुरु-चरणों की मुझको आज मिल जाए

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार at शस्वरं
--------------------------------------

फिर घूँघट की शान बढाता है पल्लू

Rajesh Kumari at HINDI KAVITAYEN ,AAPKE VICHAAR
--------------------------------------

शुभ संकल्प जगे हर अंतर

--------------------------------------

........... हादसों के शहर में :)

संजय भास्‍कर at शब्दों की मुस्कुराहट - 

.

--------------------------------------

मानव वेश में अक्सर फिरें, शैतान दुनिया में -सतीश सक्सेना

सतीश सक्सेना at मेरे गीत
--------------------------------------

सम्मुख पीढ़ी तीन, करें क्या टोका टोकी-

--------------------------------------
दोहा छंद :
अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) at अरुण कुमार निगम (हिंदी कवितायेँ) - 
--------------------------------------

junbishen 46

Munkir at Junbishen
--------------------------------------------

तुम्हारी दी हुई रौशनी …

--------------------------------------

ऐ मेरे हम-नशीं चल कहीं और चल....क़मर जलालवी

डा. मेराज अहमद at समय-सृजन (samay-srijan)
--------------------------------------

पंचायत का निर्णय.

प्रतिभा सक्सेना at लालित्यम् -
--------------------------------------

भव्या वृष्टि

प्रतुल वशिष्ठ at ॥ दर्शन-प्राशन ॥ -  
--------------------------------------

माँ

noreply@blogger.com (दिगम्बर नासवा) at स्वप्न मेरे...
--------------------------------------

मगर हारा नहीं था

शारदा अरोरा at गीत-ग़ज़ल 
--------------------------------------
आज की चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ  फिर चर्चामंच पर हाजिर होऊँगी  कुछ नए सूत्रों के साथ तब तक के लिए शुभ विदा बाय बाय ||
--------------------------------------
आगे देखिए..."मयंक का कोना"
(1)
जापान और शाकाहार : आइए इक नज़र डालें जापानी शाकाहारी थाली पर 

मुसाफ़िर हूँ यारों ... पर Manish Kumar 

(2)
नकार देता है
 आईनों की क्या कहें सारे नकाब उतार देता है 
मेरा चेहरा अब मुझको ही नकार देता है....
Zindagi se muthbhed पर Aziz Jaunpuri 

(3)
BJP के लिए खतरा बन रहे आडवाणी !

आधा सच...पर महेन्द्र श्रीवास्तव 

(4)
गुरु पूर्णिमा [सार छंद]
 'गुरु' मतलब समझाएं 'गु' से होता अज्ञान तिमिर का, 
'रु' से उसको हटाएँ गुरु का आओ सम्मान करें ,
गुरु पूर्णिमा आई अज्ञान तिमिर का जो हर रहे ,
सबके मन का भाई गुरु का आओ सम्मान करें,....
गुज़ारिश पर सरिता भाटिया

(5)
"मन मन्दिर में दीप जलाएँ "
माँ की आराधना
अपनी बालकृति "हँसता गाता बचपन" से
अन्धकार को दूर भगाएँ
मन मन्दिर में दीप जलाएँ।।
जागो अब हो गया सवेरा,
दूर हो गया तम का घेरा,
शिक्षा की हम अलख जगाएँ।
मन मन्दिर में दीप जलाएँ।।
हँसता गाता बचपन

30 comments:

  1. बहुत सुन्दर लिंकों के साथ स्तरीय चर्चा!
    --
    आपका आभार...!

    ReplyDelete
  2. विवध विषयों पर सजग चर्चा हेतु आभार स्वीकारें राजेश जी .
    संजय भस्कर जी के ब्लाग पर यह लिखा मिला-
    'क्षमा करें, इस ब्लॉग में जिस पृष्ठ को आप खोज रहे हैं वह मौजूद नहीं है.'
    अभी कुछ बाकी हैं .

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर लिंकों के साथ चर्चा !

    ReplyDelete
  4. किसी गड़बड़ी के कारण यह पोस्ट दो बार प्रसारित हो गयी थी इसी कारण से यह परेशानी आई ...पर अब सब ठीक है .........ब्लॉग सब की प्रतिक्रिया के इंतज़ार में

    @ संजय भास्कर

    ReplyDelete
  5. रोचक व पठनीय सूत्र..

    ReplyDelete
  6. राजेश जी, ढेर सारे पठनीय लिंक्स से सजी चर्चा में मुझे स्थान देने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  7. आभार दीदी-
    चर्चा मंच की सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. सुन्दर सूत्रों से सजी सुन्दर चर्चा !!
    सादर आभार !!

    ReplyDelete
  9. हुत बढ़िया लिंक्स, सार्थक चर्चा मुझे स्थान देने के लिए
    बहुत बहुत आभार राजेश जी, !

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया लिंक्स, सार्थक चर्चा मुझे स्थान देने के लिए
    बहुत बहुत आभार राजेश जी, !

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति, आभार राजेश कुमारी जी !

    ReplyDelete
  12. गुरु जी प्रणाम
    दी सुंदर प्रस्तुति के लिए बधाई
    मेरी पोस्ट लगाने के लिए आभारी हूँ

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर फूलों से सजे गुलदस्ते की तरह चर्चा मंच है...बधाई...हमें भी इसमें शामिल किया आपने, इसके लिए आपका हृदय से आभार!
    स्वस्थ जीवन की मंगल कामनाओं सहित,
    सादर/सप्रेम
    सारिका मुकेश

    ReplyDelete
  14. चर्चा में हर रंग शामिल है।
    मयंक का कोना में मुझे भी शामिल करने के लिए आभार..

    ReplyDelete
  15. बहुत विस्तार से आज की चर्चा ...
    आपका आभार मेरी रचना को स्थान देने का ...

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर चर्चा, आभार

    ReplyDelete
  17. सुन्दर चर्चा, आभार

    ReplyDelete
  18. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ....आभार!

    ReplyDelete
  19. सुन्दर और सार्थक प्रविष्टि में शामिल करने के लिए तहे दिल से शुक्रिया और आभार @राजेश कुमारी जी !

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर लिंक्स, आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  21. वाह बहुत बढ़िया लिंक्स संयोजन ....आभार मेरी रचना को स्थान दिया राजेश कुमारी जी ...!!

    ReplyDelete
  22. अत्यंत सुन्दर प्रस्तुति... मेरी ग़ज़ल सम्मिलित करने हेतु बहन राजेश कुमारी जी को तहे-दिल से शुक्रिया !

    ReplyDelete
  23. पहले तो ढेर सारे लेख और कविता पढ़ने के लिए धन्यवाद ! फिर मुझे शामिल करने के लिए भी बहुत बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर लिंक्स, आभार....

    ReplyDelete
  25. बहुत अच्छी रही चर्चा...

    ReplyDelete
  26. बहुत अच्‍छी चर्चा...;मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  27. मयंक के कोने में मेरी प्रविष्टि को जगह देने के लिए धन्यवाद शास्त्री जी !

    ReplyDelete
  28. सुंदर सूत्रों से सुसज्जित मोहक चर्चा मंच....

    ReplyDelete
  29. आप सभी मित्रों का हार्दिक आभार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...