Followers

Tuesday, July 26, 2016

लोकमान्य बाल गंगाधर टिळक ; चर्चा मंच 2415

"कुछ कहना है"
बूढ़ा-खूसट मर गया, घर वाले बेचैन।
चलो वसीयत देख लें, क्यों काली हो रैन।
है कमीनी आदमी की जात रे।
आदमी की दिख गई औकात रे।। 

मुझे छोड़ न जाना | 

Asha Saxena 
रखे परस्पर ख्याल, नजर फिर कौन लगाता 
जल के जल रक्षा करे, जले नहीं तब दुग्ध। 
गिरे अग्नि पर उबलकर, दुग्ध कर रहा मुग्ध। 
दुग्ध कर रहा मुग्ध, मूल्य जल का बढ़ जाता। 
रखे परस्पर ख्याल, नजर फिर कौन लगाता। 
आई बीच खटास, दूध फट जाय उबल के। 
जल भी मिटता जाय, आग पर रविकर जल के।। 

अब डिग्री क्यों नहीं पूछते  

neelam Mahendra 

क्षणिकाएं 58 (791-800) 

Ish Mishra 
 RADICAL  

बनो ऐसे कि मंजिल को हो इन्तजार तुम्हारे पहुंचने का... 

विशाल चर्चित 

मूर्ख दुनिया सड़ा आटा खाती है 

smt. Ajit Gupta 

'इन्द्रप्रस्थ' ... मेरी नज़र से 

vandana gupta 

Untitled 

Anil Kumar 'Aksh' 

Untitled 

Satyendra Gupta  

महफ़ूज़ रहे मुल्क हिफ़ाज़त की बात कर 

Naveen Mani Tripathi 

वि‍मलमि‍त्र और चक्रधरपुर 

रश्मि शर्मा 

कुंभ दर्शन की अभिलाषा लिए  

उज्जैन की ओर 

ब्लॉ.ललित शर्मा 

बता फिर तेरी क़ीमत और क्या है 

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’

गीत  

"सितारों में भरा तम है"  

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

बहारों में नहीं दम है, नज़ारों में भरा ग़म है
फिजाओं में नहीं दम हैं, सितारों में भरा तम है
हसीं दुनिया बनाने की, हमें फुरसत नहीं मिलती।

नहीं आभास रिश्तों का, नहीं एहसास नातों का
हमें तो आदमी की है, नहीं विश्वास बातों का
बसेरे को बसाने की, हमें फुरसत नहीं मिलती। 

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...