Followers

Thursday, January 25, 2018

"कुछ सवाल बस सवाल होते हैं" (चर्चा अंक-2859)

मित्रों!
गुरूवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--

मैं भीग भीग जाती हूँ 

बिना मौसम बरसात के 
जब बादल छा जाते हैं 
जब भी फुहार आती है 
मैं भीग भीग जाती हूँ .... 
Akanksha पर Asha Saxena  
--

गीत  

"ताल-लय उदास हैं"  

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’) 

सवाल पर सवाल हैं, कुछ नहीं जवाब है।
राख में ढकी हुई, हमारे दिल की आग है।।

गीत भी डरे हुएताल-लय उदास हैं.
पात भी झरे हुए, शेष चन्द श्वास हैं,
दो नयन में पल रहा, नग़मग़ी सा ख्वाब है।
राख में ढकी हुई, हमारे दिल की आग है... 
--
--
--
--
--
--
--
--

कामकुंठित लीला भंसाली 

कामकुंठित लीला भंसाली इन दिनों चैनलों पर कुछ ऐसे लोग गुटरगूँ में मुब्तिला हैं जिनमें से कइयों को इतिहास और काव्य (पद्मावत )का फर्क नहीं मालूम। पद्मावत सूफी दर्शन से प्रेरित एक महाकाव्य है इतिहास नहीं है। इतिहास का उल्लेख मोरक्को के आलमी घुमक्कड़ इब्नबतूता करते हैं जिन्होनें सोलह हज़ार वीरांगनाओं समेत महारानी पद्मनी के जौहर का ज़िक्र किया है। इस दौर में काम कुंठित रक्तरंगी (लेफ्टिए ),जेहादी तत्व और तमाम कांग्रेस द्वारा पोषित देशविरोधी ताकतें एक हो गए हैं.पहले ये मार्क्सवाद के बौद्धिक गुलाम भकुए म -कबूल फ़िदा हुसैन को पकड़के लाये थे बहुत अच्छे चित्रकार थे वह उनसे इन्होनें.... 
Virendra Kumar Sharma  
--
--

निगाहें 

डॉ. अपर्णा त्रिपाठी 
--

तन्हा 

Sunehra Ehsaas पर 
Nivedita Dinkar  
--

6 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. सुन्दर गुरुवारीय अंक। आभार 'उलूक' के वबाल और सवाल को जगह देने के लिये।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर सूत्रों से सुसज्जित आज का चर्चामंच ! ज़िंदगी के फलसफे को चर्चामंच के माध्यम से पाठकों तक पहुँचाने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

    ReplyDelete
  5. मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए बहुत बहुत आभार सहित धन्यवाद |

    ReplyDelete
  6. http://www.indiatourfood.com/2018/01/indian-vegetarian-spicy-kerala-acharrecipe.html

    सर आपका ब्लॉग अत्यंत ही प्रभावशाली लगा मुझे मैंने आप का ब्लॉग सब्सक्राइब भी कर लिया है और रीडिंग लिस्ट में भी ऐड किया है. अद्भुत प्रतिभा के आप धनि है. मैंने अपना ब्लॉग विश्व प्रसिद्ध लजीज शाकाहारी भोजन और भारत के दार्शनिये स्थलों के प्रचार हेतु बनाया है आशा करता हु आप मेरा ब्लॉग पसंद करेंगे जय श्री राम

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"गजल हो गयी पास" (चर्चा अंक-3104)

सुधि पाठकों!  सोमवार   की चर्चा में  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। राधा तिवारी (राधे गोपाल) -- दोहे   "गजल हो गयी पास&...