Followers

Saturday, January 27, 2018

"शुभकामनाएँ आज के लिये" (चर्चा अंक-2861)

मित्रों!
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
--
--

अपने ही घरों से  

शराफत की ठंड से सिहर गये हैं लोग  
दुश्मनी की आंच से बिखर गये हैं लोग... 
Jyoti Khare 
--
--
--
--
--
--

बलिहारी है भंसाली जी 

*पद्मावती का बवाल इतना विकट होता जा रहा है कि यह कब और कैसे थमेगा समझ ही नहीं आ रहा है ! संजय लीला भंसाली जी की प्रवृत्ति तथ्यों को तोड़ मरोड़ कर प्रस्तुत करने की है इसमें तो कोई शंका शुबहा है ही नहीं ! कलात्मक स्वतन्त्रता की आड़ लेकर वे मूल कथा की किस तरह गर्दन मरोड़ते हैं देवदास इसका ज्वलंत उदाहरण है... 
Sudhinama पर sadhana vaid 
--
--
--

बन्दर को मिला च्यवनप्राश 

श्रद्धेय नीरज से माफ़ी के साथ मानव होना पाप है गरीब होना अभिशाप बन्दर होना भाग्य है चिम्पेंजी होना सौभाग्य . एक टीवी के ऐड मैं चिम्पेंजी को च्यवनप्राश खाते दिखाया गया है .श्री राम दूरदर्शी थे उन्हें मालूम था एक बार फिर इन्सान बन्दर बनेगा बनेगा फिर चिम्पांजी वाही उसका लक्ष्य होगा कम से कम च्यवनप्राश तो खाने को मिलेगा मतलब इसे खाकर बन्दर बन जाओगे 
--

एक सब्र ... 

Sunehra Ehsaas पर 
Nivedita Dinkar 
--

शीर्षकहीन 

स्पर्श पर deepti sharma  
--
--
--
--

गणतंत्र फ़साना बना हे !  

हिन्दवासियों , 

republic day image के लिए इमेज परिणाम
फ़िरदौस इस वतन में फ़रहत नहीं रही ,
पुरवाई मुहब्बत की यहाँ अब नहीं रही .


नारी का जिस्म रौंद रहे जानवर बनकर ,
हैवानियत में कोई कमी अब नहीं रही .
! कौशल ! पर Shalini Kaushik 
--
--

9 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. पद्मावती व padamshri दोनों से सजी यह चर्चा बेहतरीन है, मेरे ब्लॉग को भी स्थान देने के लिए हार्दिक धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। अभार 'उलूक' के सूत्र गणों के तंत्र को स्थान देने के लिये।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर सूत्रों से सुसज्जित आज की चर्चा ! मेरी प्रस्तुति 'बलिहारी है भंसाली जी'को स्थान देने के लिए आपका हृदय से धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी !

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत आभार एवं धन्यवाद शास्त्री जी ' क्रांतिस्वर' की पोस्ट को स्थान देने हेतु।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  8. बढ़िया प्रस्तुति ..
    बहुत आभार और शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  9. अग्रज सादर प्रणाम
    बेहद खूबसूरत संयोजन
    साधुवाद आपको
    सभी रचनाकारों को बधाई
    मुझे सम्मलित करने का आभार

    सादर

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"गजल हो गयी पास" (चर्चा अंक-3104)

सुधि पाठकों!  सोमवार   की चर्चा में  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। राधा तिवारी (राधे गोपाल) -- दोहे   "गजल हो गयी पास&...