Followers

Monday, January 07, 2019

"मुहब्बत और इश्क में अंतर" (चर्चा अंक-3209)

मित्रों! 
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
--
--
--
--
--
--
--

एक ग़ज़ल :  

लोग क्या क्या नहीं -- 

लोग क्या क्या नहीं कहा करते  
जब कभी तुमसे हम मिला करते  
इश्क़ क्या है ? फ़रेब खा कर भी  
बारहा इश्क़ की दुआ करते... 
आनन्द पाठक 
--
--

अलसी महिमा 

Shri Sitaram Rasoi  
--

उलझन 

बोला गुरू से शिष्य, मेरी उलझन सुलझाइए। 
अंतरंग परिचय मेरा, मुझसे कराइये। 
मैं मन हूँ या तन हूँ, नूतन हूँ पुरातन हूँ। 
मैं अपने को समझ न सका... 
Jayanti Prasad Sharma 
--

अपेक्षा 

1  
बीज से वृक्ष की अपेक्षा  
वृक्ष से फल की अपेक्षा  
फल से पुनः बीज की अपेक्षा ... 
सरोकार पर Arun Roy 
--

ऐसा है उपहार कहाँ...... 

 नया वर्ष तम सारे हर ले  
ऐसा है उपहार कहाँ  
चले संग जो सदा हमारे  
वह जीवन का सार कहाँ  
धरती की ज्वाला ठंडी हो  
नदिया में वह धार कहाँ... 
ऋता शेखर 'मधु'  
--

3 comments:

  1. शुभ प्रभात..
    आभार..
    सादर....

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।
    मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद आपका।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।