Followers

Saturday, January 26, 2019

"गणतन्त्र दिवस की शुभकामनाएँ" (चर्चा अंक-3228)

मित्रों!
शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

गीत  

"गणतन्त्र दिवस की शुभकामनाएँ" 

दशकों से गणतन्त्र पर्व परराग यही दुहराया है।
होगा भ्रष्टाचार दूरबस मन में यही समाया है।।
--
आयेगा वो दिवस कभी तोजब सुख का सूरज होगा,
पंक सलामत रहे ताल मेंपैदा भी नीरज होगा,
आशाओं से अभिलाषाओं कासंसार सजाया है।
दशकों से गणतन्त्र पर्व परराग यही दुहराया है।
होगा भ्रष्टाचार दूरबस मन में यही समाया है।।
--

गणतंत्र दिवस पर 15 शायरी  

(Republic day shayari in hindi) 

--

दमन अवसाद का 

गूँगी गुड़िया पर Anita Saini  
--

जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं 

व्याकुल पथिक  
--

हुकूमत इनके खून में बहती है 

टीवी से आवाज आयी – हुकूमत इनके खून में बहती है। तभी मेरे दिल ने कहा – गुलामी हमारे खून में बसती है। हमारे देश में कौन राजा होगा और कौन उसका सेवक बनेगा, यह भी हमारे खून में ही बहता रहता है। हमने राजवंशों को कितना ही दरकिनार किया हो लेकिन आज भी प्रजा उन्हें अपना मालिक मानती ही है... 
smt. Ajit Gupt 
--

शीर्षकहीन 

i b arora  

--
--

सूरज लूट गया 

Tere bin पर 
Dr.NISHA MAHARANA 
--

प्रियंका गांधी को  

खूब सोच-समझ कर ही निर्णय लेने होंगे   

विजय राजबली माथुर 

विजय राज बली माथुर 
--

फिर बसंत का हुआ आगमन 

कल्पना रामानी 
--

6 comments:

  1. गणतंत्र दिवस की सभी को शुभकामनाएँ,इस उम्मीद के साथ आगे बढ़ने का संकल्प लेते हूँ कि वर्ष भर कोई एक ऐसा कार्य करूँ जो समाज और राष्ट्र हित में हो,ताकि उसका वर्षगांठ मनाने की पात्रता रख सकूं और तिरंगे की डोर जब हाथ में हो, तो कथनी और करनी का द्वंद मन में न हो।
    जैसा की आमतौर पर हो रहा है, बापू और शास्त्री जी की तरह खुली किताब हम हो।
    सभी को सुबह का प्रणाम।

    मेरे विचारों को अपने मंच पर रखने के लिये हृदय से आभार शास्त्री सर जी।

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात आदरणीय
    गणतंत्र दिवस की सभी को शुभकामनाएँ,बेहतरीन चर्चा में मुझे स्थान देने के लिए ह्रदय तल से आभार ,सभी रचनाकारों को गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  3. उम्दा चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, आदरणीय शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  4. उम्दा चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, आदरणीय शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  5. गणतंत्र दिवस की सभी देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं ! सुन्दर सार्थक रचनाओं से सुसज्जित आज का चर्चामंच ! मेरी रचना को आज की चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! जय भारत !

    ReplyDelete
  6. गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं। सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।