Followers


Search This Blog

Wednesday, January 09, 2019

"घूम रहा है चक्र" (चर्चा अंक-3211)

मित्रों! 
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  
--
--
--

पिक्सल 

इनदिनों 
हम सब गिने जा रहे हैं 
बाइट्स में 
पिक्सल में 
हमारी पहचान 
मापी जा रही है... 
सरोकार पर Arun Roy 
--

खुद मैं @52 

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा  
--
--

एकांत के इस उत्सव में... 

श्वेता सिन्हा 

साँझ को नभ के दालान सेपहाड़ी के कोहान पर फिसलकरक्षितिज की बाहों में समाता सिंदुरिया सूरज,किरणों के गुलाबी गुच्छेटकटकी बाँधें खड़े पेड़ों के पीछे उलझकरबिखरकर पत्तों परअनायास ही गुम हो जाते हैंं...
yashoda Agrawal 
--
--
--
--

6 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर चर्चा संकलन 👌
    उम्दा रचनाएँ, सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनायें
    सादर

    ReplyDelete
  3. सुंदर संकलन के लिये धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर चर्चा संकलन

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।