Followers

Saturday, April 06, 2019

"नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएँ" (चर्चा अंक-3297)

स्नेहिल  अभिवादन  के साथ
नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएँ।
शनिवारीय चर्चा में आप का हार्दिक स्वागत है|
देखिये मेरी पसंद की कुछ रचनाएँ |
 -अनीता सैनी 
--

दोहे  

"नवसम्वत्सर आ गया"  

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’) 

--

13 comments:

  1. सुंदर रचनाओं का सुंदर संकलन ...नववर्ष की सभी को शुभेच्छा.. मेरी रचना को शामिल चर्चा में करने के लिए हृदयतल से आभार प्रिय अनीता।

    ReplyDelete
  2. हिन्दू नववर्ष की आप सभी को शुभकामनाएं.......

    प्रथम महीना चैत से गिन
    राम जनम का जिसमें दिन।।

    द्वितीय माह आया वैशाख।
    वैसाखी पंचनद की साख।।

    ज्येष्ठ मास को जान तीसरा।
    अब तो जाड़ा सबको बिसरा।।

    चौथा मास आया आषाढ़।
    नदियों में आती है बाढ़।।

    पांचवें सावन घेरे बदरी।
    झूला झूलो गाओ कजरी।।

    भादौ मास को जानो छठा।
    कृष्ण जन्म की सुन्दर छटा।।

    मास सातवां लगा कुंआर।
    दुर्गा पूजा की आई बहार।।

    कार्तिक मास आठवां आए।
    दीवाली के दीप जलाए।।

    नवां महीना आया अगहन।
    सीता बनीं राम की दुल्हन।।

    पूस मास है क्रम में दस।
    पीओ सब गन्ने का रस।।

    ग्यारहवां मास माघ को गाओ।
    समरसता का भाव जगाओ।।

    मास बारहवां फाल्गुन आया।
    साथ में होली के रंग लाया।।

    बारह मास हुए अब पूरे।
    छोड़ो न कोई काम अधूरे।।

    *नव संवत्सर की शुभकामनाए*
    ☀☀☀☀☀☀☀☀☀☀☀

    अनिता बहन आपके श्रम को भी प्रणाम।
    साथ ही पथिक की रचना को प्रमुखता देने के लिये भी आभार।

    ReplyDelete
  3. बहुत उम्दा प्रस्तुतिकरण
    सुंदर रचनाएँ
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा। नवसम्वत्सर शुभ हो।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर प्रस्तुति शानदार रचनाएं मेरी रचना को चर्चा मंच पर स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार अनिता जी

    ReplyDelete
  7. मेरी रचना को रचना मंच पर स्थान देने के लिए आपका तहे दिल से आभार प्रिय दी ।

    ReplyDelete
  8. बहुत बढियां चर्चा ,नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर प्रस्तुति , आप सभी को नवसंवत्सर की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  10. नव संवत्सर शुभ हो.
    सजग और सहृदय हो.
    सृजन तरल सरल हो.
    संवाद परस्पर सहज हो.

    ReplyDelete
  11. नव संवत्सर सबके लिए शुभता और सम्पन्नता के साथ उत्तम स्वास्थ्य लेकर आये | सभी को हार्दिक शुभकामनायें | माँ जगदम्बे का उपासना पखवाड़ा सभी में ऊर्जा और आत्म शक्ति का संचार करे यही कामना है | उत्तम लिंक संयोजन प्रिय अनीता | मेरी रचना को यहाँ स्थान मिला | आभारी हूँ | मंच को सादर नमन | आपको विशेष प्यार और शुभकामनायें रचना यात्रा के इस पडाव के लिए |

    ReplyDelete
  12. नवसंवत्सर की चर्चामंच परिवार को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !!!

    ReplyDelete
  13. प्रिय अनीता सैनी जी, आपने चर्चामंच का बहुत सुंदर और भावपूर्ण संयोजन किया है।
    मेरी ग़ज़ल को चर्चामंच में शामिल करने के लिए आपका हार्दिक आभार !!!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।