Followers

Tuesday, April 09, 2019

"मतदान करो" (चर्चा अंक-3300)

मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--

कहीं हम न हैं 

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा  
--

है तू इक भूल और ... 

आज  की  रात  तुझेनींद न  फिर  आई
  यादों   की   राह  मेंवो   दर्द  जो ले  आई... 

--
--

रात अभी बाकी हैं, 

कोई सितारा टिमटिमाया हैं.. 

दर्द में डूब कर कुछ करार आया हैं,
जुबां पर सच पहली बार आया हैं...

मंज़िले अभी दूर हैं करवा बढ़ता रहे,
बिजलिया गिरी नही,बस अंधेरा सा छाया हैं... 
tHe Missed Beat पर 
dr.zafar 
--
--

किसी के दर्द में तो यूँ ही छलक लेता हूँ ... 

हज़ार काम उफ़ ये सोच के थक लेता हूँ
में बिन पिए जनाब रोज़ बहक लेता हूँ  

ये फूल पत्ते बादलों में तेरी सूरत है
वहम न हो मेरा में पलकें झपक लेता हूँ... 
दिगंबर नासवा  
--

अब तो आ जाओ प्रियतम 


जूड़े का हार बुलाये  

कजरे की धार बुलाये    
बिंदिया सौ बार बुलाये  
अब तो आ जाओ प्रियतम... 
Sudhinama पर 
Sadhana Vaid 
--
--

हिमालय का श्रंगार--- 

देवदार 

Yeh Mera Jahaan पर 
गिरिजा कुलश्रेष्ठ 
--
--
--
--
--
--
--

तीनों गुणों के पार हुआ जो 

*चित्त* सत्व, रज व तम से बना है,  
जड़ है. चित्त में ज्ञान, क्रिया और स्थिरता तीनों हैं.  
सत्व से ज्ञान होता है, रज से प्रवृत्ति होती है 
तथा तम से स्थिति होती है.... 
Anita  

12 comments:

  1. विभिन्न सामग्रियों का संगम,सुंदर रचनाओं से सजा मंच। पथिक की अनुभूतियों को स्थान देने के आभार शास्त्री सर।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. मतदान हर व्यस्क नागरिक का कर्त्तव्य है जिससे उसके अधिकारों की रक्षा होती है, सुंदर सूत्रों से सजा चर्चा मंच.आभार !

    ReplyDelete
  4. सुंदर संकलन ... अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  5. उम्दा चर्चा। मेरी रचना को "चर्चा मंच" में स्थान देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, आदरणीय शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  6. सुन्दर सूत्रों से सुसज्जित आज का चर्चामंच ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन चर्चा प्रस्तुति 👌
    बहुत ही सुन्दर रचनाएँ
    सादर

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन अंक
    उम्दा पेशकश

    ReplyDelete
  9. बहुत ही कमाल का पूछते हैं आप हमारे वेबसाइट में भी आकर ऐसे पोस्ट पढ़ सकते हैं
    https://www.todaythinking.com/

    ReplyDelete
  10. सहृदय आभार सखी,मेरी रचना को स्थान देने के लिए,चर्चामंच में अपनी रचना पाकर हृदय से अभिभूत हूं।सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई। नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏🌷

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।