चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, July 14, 2011

चर्चा मंच - 575


                           जाने वाले जब छोडकर चले जाते हैं 
               आंसू आँखों से फिर बेहिसाब आते हैं .
इस सच से रू-ब-रू हुआ हूँ ,पिछले वीरवार चर्चा प्रस्तुत न करने की वजह चचेरी बहन का निधन था ,हालांकि मेरी तबियत भी ठीक नहीं थी फिर भी शारीरिक रूप से ज्यादा मानसिक रूप से मैं चर्चा करने के लिए तैयार नहीं था .आज दुःख कम हो गया है ,ऐसा नहीं है ,लेकिन जिन्दगी कब रूकती है किसी के जाने के साथ और कब जाया जाता है किसी के साथ ,हाँ जिन्दगी से मिले जख्म वक्त के साथ भर जाते ,इसी मरहम का इतंजार है ,फिलहाल तो बिछड़ा हुआ चेहरा आँखों के सामने घूमता है .

ये तो रही मेरी दुःख गाथा ,अब चलते हैं चर्चा की तरफ 

सबसे पहले बात करते हैं पद्य रचनाओं की 
अब देखते हैं गद्य रचनाएं 

                                  अंत में एक पेनाल्टी स्ट्रोक.  
                    आज की चर्चा में बस इतना ही .
                                     धन्यवाद 
                                                                   दिलबाग विर्क 

31 comments:

  1. शुभप्रभात दिलबाग जी ..आपकी बहन के निधन पर शोक प्रकट करती हूँ ...ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें ...
    जीवन आगे चलता है और उसी में भलाई भी है ..
    बहुत बढ़िया चर्चा है आज की ...कुछ लिंक्स जो हमेशा पढ़ती हूँ छूट गए थे ...आज पढ़ लेती हूँ ...शुक्रिया..

    ReplyDelete
  2. हार्दिक श्रद्धांजलि दिवंगता को।

    ReplyDelete
  3. प्रिय विर्क जी !
    आपकी बेदना के साथ ,मेरी गहरी संवेदना है ,हुतात्मा को परमात्मा शांति दे ,पीछे परिवार को सहन शक्ति बख्से .../बावजूद आपकी दिलेरी ,आपने अपने साहित्य -धर्म को निबाहा , जो प्रशंसनीय है / आपके कर्त्तव्य -निर्वहन ,व सुन्दर प्रस्तुति दोनों को सम्मान .../

    ReplyDelete
  4. सचमुच समय सबसे बडा मरहम है। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करे!

    ReplyDelete
  5. दिवंगत आत्मा के लिए श्रद्धा-सुमन ||

    अच्छी चर्चा ||
    आभार ||

    ReplyDelete
  6. आपके चचेरी बहन के निधन की खबर पढ़कर दुःख हुआ.ईश्वर के आगे किसी की नहीं चलती,ये सोच कर तसल्ली करनी ही पड़ती है .उन्हें हार्दिक श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  7. दिवंगत आत्‍मा के लिये विनम्र श्रद्धां‍‍जलि ..।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही दुखद समाचार है यह.
    भगवन उनकी आत्मा को शांति दे

    अच्छी रचना| आभार ||

    ReplyDelete
  9. हार्दिक श्रद्धांजलि दिवंगता को।

    ReplyDelete
  10. बहुत ही दुखद समाचार है यह.
    भगवन उनकी आत्मा को शांति दे..हार्दिक श्रद्धांजलि..

    ReplyDelete
  11. बहुत ही अच्‍छी चर्चा .. आभार ।

    ReplyDelete
  12. प्रथमतः आपकी बहन को भावभीनी श्रद्धांजलि और आपने आज जो लिंक लगाया पूरा पढ़ गया बहुत सुन्दर लिंक थे सभी...आभार और बधाई

    ReplyDelete
  13. दिवंगत आत्मा के लिए श्रद्धा-सुमन ||

    अच्छी चर्चा ||
    आभार ||

    ReplyDelete
  14. dukh ki is ghadi me bhi aapki ye prastuti sarahniy hai.aapki chacheri bahan ke bare me padhkar bahut dukh hua bhagwan kare unki aatma ko shanti mile.

    ReplyDelete
  15. चर्चा बहुत अच्छी रही बधाई |आभार मेरी रचना शामिल करने के लिए
    आशा

    ReplyDelete
  16. आज पूरे चौबीस घंटे के बात नेट पर आया हूँ।
    --
    सुन्दर और संतुलित चर्चा के लिए आभार!

    ReplyDelete
  17. आशा करता हूँ की एक दिन मुझे भी आपके इस प्रष्ठ मे स्थान मिलेगा

    ReplyDelete
  18. ईश्वर आपको और समस्त परिजनों को धैर्य दें...

    आपकी कर्मठता वन्दनीय है....

    ReplyDelete
  19. दिलबाग जी, आपकी बहन के निधन पर गहरी संवेदना,हार्दिक श्रद्धांजलि. श्रद्धा-सुमन अच्छी चर्चा..सुन्दर लिंक, आभार

    ReplyDelete
  20. आपके चचेरी बहन के निधन की खबर पढ़कर दुःख हुआ.हार्दिक श्रद्धांजलि.

    ऐसे दुखद समय में भी आपके कर्त्तव्य -निर्वहन के प्रति श्रद्धानत हूं.


    मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  21. भाई दिलबाग विर्क जी!
    आपकी बहन के निधन का दुखद समाचार सुन कर मन व्यथित हो गया!
    --
    परमपिता परमात्मा से उनकी आत्मा की शान्ति और सदगति की प्रार्थना करता हूँ!
    --
    आपके दुख में मैं भी बराबर का साझीदार हूँ!

    ReplyDelete
  22. आपकी बहन के निधन पर शोक प्रकट करती हूँ ...ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें ...
    हार्दिक श्रद्धांजलि...

    ReplyDelete
  23. श्रद्धांजलि....
    अच्छी रही चर्चा....

    ReplyDelete
  24. बहुत ही दुखद समाचार है.
    हार्दिक श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  25. धन्यवाद ,
    अब सबको टीवी और बीबी में फर्क पता चल गया होगा
    परिवार में हुयी क्षति के लिए मेरी हार्दिक श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  26. बहुत ही दुखद समाचार है यह...
    हार्दिक श्रद्धांजलि...

    ReplyDelete
  27. आपके चचेरी बहन के निधन की खबर पढ़कर दुःख हुआ|परमात्मा से उनकी आत्मा की शान्ति की प्रार्थना करती हूँ!

    मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद!

    ReplyDelete
  28. tonsils ko charcha manch par lakar vistaar dene ke liye dhanwad virak ji .dukhbhare samay m paramatama divangat atama ke sath ho,aapko ye sadama sahan karane ki taqat bakshe .

    ReplyDelete
  29. श्रद्धांजलि

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin