Followers

Saturday, July 09, 2011

"लगता है अहसास कोई जिन्दा है कहीं":-(शनिवासरीय चर्चा)....Er. सत्यम शिवम

*ॐ साई राम*
"वह रात कैसे भूलूँ मै जहाँ,
दिल को सुकून देते है,
बस तेरी ही कमी है एक जिन्दगी में।"
----सत्यम शिवम----
"स्पेशल काव्यमयी चर्चा"
ब्लॉगः"विचार प्रवाह"
ब्लॉगरःप्रियंका राठौड़ जी

नमस्कार दोस्तों....मै सत्यम शिवम हर शनिवार की तरह आज भी आ गया हूँ...बारिश की कुछ फुहारों के साथ...मौसम बहुत सुहाना है,कही बूँदा बाँदी हो रही है,तो कही निरंतर बारिश...पर भीगने का मजा तो कुछ और ही है...।

मै भी करा रहूँ आज इस मंच पर कुछ साहित्य बूँदों की बारिश...बस आप बताये कि कितना भीगा आपका ह्रदय इनका श्रवण कर....।


आज की "स्पेशल काव्यमयी चर्चा" में प्रस्तुत है प्रियंका राठौड़ जी की "विचार प्रवाह" की कुछ झाँकिया....


"स्पेशल काव्यमयी चर्चा" के बारे में अधिक जानकारी हेतु इस लिंक पर जाये...
आप भी अपनी काव्यमयी प्रस्तुति आज ही मुझे भेज दे....
मेरा ईमेल है :-satyamshivam95@gmail.com

चर्चा आरम्भ करने से पहले एक प्रश्न मेरी "गद्य सर्जना" से...आप अपने विचार जरुर दे इस विषय पर.....?????

अब शुरु करते है साहित्य की बारिश....
कविताओं की कुछ बूँदा बाँदी
*काव्य-रस*
1.)नूतन जी की "मौन" से
2.)रश्मि प्रभा जी की "मेरी भावनायें" पर 
3.)के.के.यादव जी के "शब्द सृजन की ओर" पर याद आये
4.)शालिनी कौशिक जी का "! कौशल !" आकर्षित 
5.)मेरी "*काव्य-कल्पना*" से हो रहा है अद्भूत
6.)कैलाश सी.शर्मा जी की "Kashish -My Poetry" पर 
7.)"क्योंकि मैं झूठ नहीं बोलती...." पर शबनम खान जी का शेष है
8.)पूनम जी की "JHAROKHA" को देखो अपने अपने
9.)बाबुषा जी की "कुछ पन्ने..." पर हो रहा है
10.)मृदुला हर्षवर्धन जी की "अभिव्यक्ति" के बारे में 
11.)अनिता जी की "श्रद्धा सुमन" पर 
12.)रिचा जी की "लम्हों के झरोखे से" देखिये
13.)वंदना जी की "जख्म...जो फूलों ने दिये!" पर   
14.)"साहित्य प्रेमी संघ" पर नीरज जी कहते है
15.)ईं.प्रदीप कुमार साहनी जी खुश रहे 
16.)मदन मोहन बहेटी जी के साथ 
17.)नीलम जी की "क्या अमरों का लोक मिलेगा तेरी करुणा का उपहार" पर भारी है
18.)विद्या जी की "Love Everybody" पर 
19.)दीपशिखा वर्मा जी की "इंतिहा" पर हो रहा है 
20.)"उच्चारण" पर
अब कुछ किस्से कहानियों के ओले....
*गद्य-रस*
21.)"झरोखा" पर निवेदीता जी की 
22.)"रश्मि रविजा" जी "अपनी,उनकी,सबकी बातें" करते हुये कहती है
23.)अशोक कुमार शुक्ला जी लेकर आये है
24.)अख्तर खान अकेला जी पूछ रहे है 
हँसी की रिमझीम फुहारें....
*हास्य-रस* 
25.)"हास्य फुहार" पर रोना

अब बरसात में हो जाये थोड़ी फुल्कियाँ....
*स्वाद-रस*
27.)"स्वाद" पर स्वर्ण लता जी बना रही है
बच्चे तो भीगेंगे ही....
*बाल-रस*
28.)"बच्चों का कोना" पर 
अब तकनीकी छींटे और बौछारें...
*तकनीक-रस*
29.)"छींटे और बौछारे" पे
30.)"Computer Duniya" ने बताया 
अंत में भींग जाइये प्रभु प्रेम में.....
*अध्यात्म-रस*
31.)"ॐ शिव माँ" पर
"माँ तारा":-(ममतामयी माँ सबको तारने वाली)

हो गयी बंद अब तो बारिश....अब आप ही बताइये कितना भीगे आप.....साथ ही "स्पेशल काव्यमयी चर्चा" के लिए अपनी प्रस्तुति भेजते रहे....।

मिलते है अगले शनिवार को नयी जोरदार चर्चा ले कर......धन्यवाद।
----सत्यम शिवम----

21 comments:

  1. आपकी चर्चा की इस बारिस में सचमुच अन्तर्मन भींग कर आह्लादित हो उठा है । बहुत ही सुन्दर चर्चा । कुछ लिंक्स भी देखे,बहुत अच्छे थे । दिन भर बाकि लिंक्स पर जायेंगे । विश्वास है कि वो भी उम्दा होंगे । आभार ।
    अंत में मेरी रचना "कि मैं साथ हूँ" को शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  2. हमेशा की तरह अच्छी चर्चा .....
    ’झरोखा’को स्थान देने के लिये आभार ..... शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  3. शनिवासरीय चर्चा बहुत बढ़िया रही!
    --
    आप बहुत परिश्रम करते हैं चर्चा को सँवारने में!

    ReplyDelete
  4. वाह ! माँ तारा का चित्र अनोखा है, ढेर सारे लिंक्स के साथ आज की चर्चा में मुझे शामिल करने के लिये आभार !

    ReplyDelete
  5. Sachmuch aap bahut mehnat karte hai. Mere yatra vritant ko sthan dene ke liye aabhar...

    ReplyDelete
  6. Sachmuch aap bahut mehnat karte hai. Mere yatra vritant ko sthan dene ke liye aabhar...

    ReplyDelete
  7. varsha ki fuharon se bhari aaj ki charcha vastav me is mausam ka anokha aanand de gayee.mere blog kaushal ko sthan dene ke liye aabhar.badhai.

    ReplyDelete
  8. सभी रंगों को समेटे एक सम्पूर्ण चर्चा. मेरी २ रचनाओं को स्थान देने के लिये शुक्रिया.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर लिंक दिया है,तुमने पढकर अच्छा लगा।मेरा पोस्ट देने के लिए आशिर्वाद।

    ReplyDelete
  10. बहुत ही मनमोहक चर्चा।

    ReplyDelete
  11. Bahut hi acchi rachnayein, padkar aanand aya. Dhanybaad

    ReplyDelete
  12. चर्चा लाजवाब रही ...

    ReplyDelete
  13. bahut khoobsurat charcha satyam ji...aur isme meri rachnaoo ko jagah dene ke liye bahut bahut dhanybad....aabhar...

    ReplyDelete
  14. पूरे भीगे...बहुत सुन्दर लिंक्स...धन्यवाद और बधाई

    ReplyDelete
  15. बढ़िया चर्चा. खासकर दिल को छू लिया .. उड़ना तो होगा ही और तिलिस्म ने. बढ़िया!

    ReplyDelete
  16. भुत सुंदर लिक्स पढने को मिले... बहुत बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  17. bahut achche links padhne ko mile.....

    ReplyDelete
  18. Bahut sundar charcha...kai naye mitron se aur unki lekhni se parichay...abhar..
    Poonam

    ReplyDelete
  19. बहुत अच्छे लिंक्स का चयन ..और विस्तृत चर्चा ... बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  20. प्रियंका जी को बहुत बहुत बधाई..."स्पेशल काव्यमयी चर्चा" में उनके ब्लाग की चर्चा हेतु।

    ReplyDelete
  21. आप सभी को बहुत बहुत धन्यवाद...शुभरात्रि।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"लाचार हुआ सारा समाज" (चर्चा अंक-2820)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...