Followers

Monday, July 04, 2011

आज का अंदाज़-ए-बयाँ कैसा लगा ?......... चर्चा मंच

सोमवार की चर्चा में 
आपका स्वागत है 
आपके पेश-ए-खिदमत है 
आज की चर्चा 


मीठी यादें आ गयीं
मन को मेरे लुभा गयीं 
 

जब तक न कोई सवेरा होगा 

आज वादे और इंतजार में ठन गयी
और माशूक की जान पर बन गयी  


आना जाना यहाँ निरंतर
कोई न परमानेंट   
तू भज ले राम नाम अर्जेंट


रोज तस्वीर जिसकी उधडती है
रोज ही नयी तस्वीर फिर बनती है  



 सितारों से आगे जहाँ और भी है


देख तेरे संसार की हालत क्या हो गयी भगवान
किसको ठहराएँ दहेज़ का जिम्मेदार 
 


 देने के कायदे हमको आते नहीं
व्यंग्य सन्देश दुनिया को भाते नहीं 


 अरे दीवानों मुझे पहचानो 
ब्लोगिंग की ताकत को ज़रा आजमा लो 


यह नहीं अभिमान मेरा
ये तो है समर्पण भाव मेरा  



हर चीज यहाँ पर बिकती है
खरीदार के हाथों में सजती है 



उड़न गति न रुक पाती है
मन से न कभी जीत पाती है   


 हम यथार्थ कहते रहे
और बहरी दुनिया सुनती रही  


 कब एकांत पाया है
एकांत में भी खुद से न बच पाया है  


यादों की धरोहर बना लिया
ऐसे पिता का जन्मदिन मना लिया  



कहिये दोस्तों 
आज का अंदाज़-ए-बयाँ कैसा लगा ?
पसंद आये तो टिपण्णी दे देना
नहीं आये तो बिना दिए चल देना
हम समझ जायेंगे 
हुजूर आये तो थे 
मगर खातिरदारी पसंद नहीं आई 
तो अगले सोमवार तक 
हमें इंतजार रहेगा 
आपके आगमन का


 

27 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. अंदाज-ए-बयां बढ़िया रहा...

    ReplyDelete
  3. चर्चा का अन्दाजे बयान बहुत अच्छा रहा!
    सुबह-सुबह पढ़ने के लिए लिंक मिल गये!

    ReplyDelete
  4. आभार अच्छी चर्चा के लिये

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन कलेवर, ख़ूबसूरत अंदाज़।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर रचनाओं का संकलन , सराहनीय है , बधाई जी /

    ReplyDelete
  7. बढ़िया चर्चा....
    अच्छे लिंक्स .....आभार

    ReplyDelete
  8. YAH ANDAJTO AAPKA BAHUT ACHHA LAGA
    ARE MAIN YAHAN BHI HUN SHUKRIYA MUJHE LANE KA

    ReplyDelete
  9. nice links, thanks. and thanks -meree post ko shaamil kiya aapne ... :)

    ReplyDelete
  10. बधाई |
    सुन्दर अभिव्यक्ति ||

    ReplyDelete
  11. बधाई |
    सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  12. आप का बहुत-बहुत धन्यवाद वंदना जी ,कि आप ने मेरा ब्लॉग चर्चा मंच के लिए चुना... और हार्दिक धन्यवाद उन सभी पाठकों का भी जिन्होने मेरे ब्लॉग को पसंद किया और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियों देकर मेरा होंसला बढ़ाया।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर चर्चा...अच्छा अंदाज।

    ReplyDelete
  14. सुन्दर चर्चा, आभार।

    ReplyDelete
  15. बढ़िया रहा अंदाजे बयाँ.

    ReplyDelete
  16. Bahut badiya link ke saath charcha ke liye aabhar!

    ReplyDelete
  17. बढ़िया अंदाज...अच्छे लिंक्स!!!

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर चर्चा...

    ReplyDelete
  19. बढ़िया अंदाज
    अच्छे लिंक्स

    ReplyDelete
  20. वंदना जी... आज की चर्चा भी उतनी खास सादगी भरी सुन्दर ..लिंक्स भी बहुत अच्छे.. :))

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।