Followers

Wednesday, July 13, 2011

"ऐसा क्यूँ होता है " (चर्चा मंच-574)

मित्रो बुधवासरीय चर्चा में आपका स्वागत है आज विषय मुख्यतः सरकार द्वारा अल्पसंख्यकों के लिये सरकार द्वारा लाये  अल्पसंख्यक सुरक्षा कानून और भ्रष्टाचार पर है ।

अक्षय कुमार जी का कहना  है अल्प्संख्यकों पर हमारी धर्मनिरपेक्ष सरकार    का तरीका सही नही है वही नये बिल आने के बाद कोई भी मुसलमान  इंस्पेक्टर इसने मुझे मुसलमान कहा इसे गिरफ़्तार कीजिये   का आरोप लगा सकता है ऐसे मे शास्त्री जी का कहना है कि हम बिखर जायेंगे"  । राजे_शा  जी ने कहा समझदार चुहि‍या, खानदानी कैदी  का राज है भाई हमने कहा देश प्यासा का गुरूदत्त हो रहा है और इनको  प्यारी मम्मी आज भी   चौदहवीं का चाँद  नजर आ रही हैं । शालिनी कौशिक जी का कहना था कि भाई  फेरबदल में भ्रष्ट मंत्री कैसे हटायें ? वे सब भेद खोल देंगे वही अनिल पुसदकर जी ने कहा मारन राजा निर्दोष साबित होना है तो कांग्रेस प्रवेश कर लो बात तो सही भी है । रेल दुर्घटना मे मंत्री जा नही रहे इस पर ललित शर्मा जी को पीठ में दर्द  रेल दुर्घटना  याद आ गयी उनकी पीठ आज भी दुखती है ।इस पर सुशील बाकलीवाल  कमर-दर्द (पीठ के दर्द) से बचाव के लिये-  नुस्खे बता दिये । वन्दना जी ने कहा  देखा है तुमने कहीं जलता आशियाँ?  नहीं तो और नजर घुमा लो । इस पर आशा जी ने पूछा  ऐसा क्यूँ होता है  इस पर मनीश कुमार जी का कहना था कि दिल्ली के सत्ता के गलियारे   विश्व की सबसे चर्चित हेयरपिन बेंड्स (Hairpin Bends) वाली घुमावदार सड़कें !  हैं । इस पर आनंद प्रधान जी ने कहा गलती मीडिया की है इनको कुछ दिखाना ही नहीं है  दिल्ली और उसके आसपास लाखों मजदूर काम करते हैं?  इस पर क्यों खबरें नहीं दिखाते गन्दे और घटिया गानो का फ़िल्मों का प्रचार करने से फ़ुर्सत नहीं। मैंने कहा भाई इन गंदे गानों का प्रयोग अब मन्नू और उसकी टीम पर ही करना चाहिये कुछ इस तरह SMS भाग भाग डी.के.बोस डी.के.बोस डी.के.बोस  ऐसा करने से ही सत्ता स्वरुप  बदलेगा और बिखरे से ख्वाब ..  पूरे होंगे इस पर अतुल श्रीवास्तव जी ने हिम्मत बंधाई कहने लगे वतन पर जो फिदा होगा अमर वो नौजवां होगा.........  । बात खत्म करने के पहले एक महत्वपूर्ण सूचना  मासूम भाई  ब्लॉग संसार: पंजीकरण   कर रहे हैं आप सभी अपना पंजीयन करवा लें ।

धन्यवाद जय हिंद !!

14 comments:

  1. क्या आप ब्लॉगप्रहरी के नये स्वरूप से परिचित है.हिंदी ब्लॉगजगत से सेवार्थ हमने ब्लॉगप्रहरी के रूप में एक बेमिशाल एग्रीगेटर आपके सामने रखा है. यह एग्रीगेटर अपने पूर्वजों और वर्तमान में सक्रिय सभी साथी एग्रीगेटरों से कई गुणा सुविधाजनक और आकर्षक है.

    इसे आप हिंदी ब्लॉगर को केंद्र में रखकर बनाया गया एक संपूर्ण एग्रीगेटर कह सकते हैं. मात्र एग्रीगेटर ही नहीं, यह आपके फेसबुक और ट्वीटर की चुनिन्दा सेवाओं को भी समेटे हुए है. हमारा मकसद इसे .सर्वगुण संपन्न बनाना था. और सबसे अहम बात की आप यहाँ मित्र बनाने, चैट करने, ग्रुप निर्माण करने, आकर्षक प्रोफाइल पेज ( जो दावे के साथ, अंतरजाल पर आपके लिए सबसे आकर्षक और सुविधाजनक प्रोफाइल पन्ना है), प्राइवेट चैट, फौलोवर बनाने-बनने, पसंद-नापसंद..के अलावा अपने फेसबुक के खाते हो ब्लॉगप्रहरी से ही अपडेट करने की आश्चर्यजनक सुविधाएं पाते हैं.

    सबसे अहम बात , कि यह पूर्ण लोकतान्त्रिक तरीके से कार्य करता है, जहाँ विशिष्ट कोई भी नहीं. :)

    कृपया पधारें.. और एक एग्रीगेटर. माइक्रो ब्लॉग जैसे ट्वीटर और सोशल नेट्वर्क..सभी की सुविधा एक जगह प्राप्त करें .. हिंदी ब्लॉग्गिंग को पुनः लयबद्ध करें.
    http://blogprahari.com
    टीम ब्लॉगप्रहरी

    ReplyDelete
  2. एक संतुलित और रोचक लिंकों से सजी चर्चा!
    --
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. प्रभावशाली संकलन विविध आयामों से रूबरू प्रतिदर्श कराता हुआ ,प्रशंसनीय है आभार जी /

    ReplyDelete
  4. सुन्दर और प्रभावी चर्चा ||

    ReplyDelete
  5. ्सुन्दर लिंक्स के साथ सटीक चर्चा।

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  7. एक संतुलित और रोचक लिंकों से सजी चर्चा!

    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  8. rochak charcha,
    bhadas se meri prastuti lene ke liye aabhar vaise ye prastuti SHIKHA KAUSHIK JI ki hai jo unke blog neta ji kya kahte hain par bhi hai.anya links bahut shandar hain .badhai ek aur safal charcha ke liye.

    ReplyDelete
  9. संतुलित और सुन्दर चर्चा. बधाई

    ReplyDelete
  10. सुन्दर और सार्थक चर्चा

    ReplyDelete
  11. अच्छी चर्चा के लिए बधाई
    आशा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"स्मृति उपवन का अभिमत" (चर्चा अंक-2814)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...