समर्थक

Thursday, October 20, 2011

अन्ना नहीं, जातिवाद जीता ( चर्चा मंच - 673 )

    आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
                           
गत दिनों हिसार संसदीय क्षेत्र का चुनाव परिणाम घोषित किया गया. इस चुनाव में अन्ना टीम ने कांग्रेस का विरोध किया था इसलिए पूरे देश की निगाह इस परिणाम पर लगी हुई थी, लेकिन हिसार में अन्ना फैक्टर पूरी तरह से विफल रहा. इन चुनावों में फिर भारी पड़ा जातिवाद का मुद्दा


चलते हैं आज की चर्चा की तरफ 

गद्य रचनाएं 

पद्य रचनाएं

अंत में प्रस्तुत है डॉ. नूतन गैरोला जी की कविता और एक संस्मरण -- एक ही पोस्ट में. 
            आज की चर्चा में बस इतना ही 
                                     धन्यवाद
                                              दिलबाग विर्क 


                        * * * * *

19 comments:

  1. बहुत ही संयत और संतुलित चर्चा लगाई है आपने!
    सभी लिंकों का चयन बहुत उत्तम है!
    आभार!

    ReplyDelete
  2. ब्लॉगजगत की महक समेटे यह चर्चा।

    ReplyDelete
  3. संतुलित चर्चा ||
    उत्तम ||
    आभार ||

    ReplyDelete
  4. अच्‍छी चर्चा।
    बेहतर लिंक के लिए आभार.....

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर और सन्तुलित चर्चा...बहुत-बहुत बधाई

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन लिंक्‍स संयोजन के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन लिंक्‍स संयोजन के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर लिंक्‍स .

    ReplyDelete
  9. ्बहुत सुन्दर लिंक्स संजोये हैं…………बढिया चर्चा।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर चर्चा.... बढ़िया लिंक्स...
    सादर आभार...

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्‍छी चर्चा ..

    सुंदर लिंक्‍सों से सजी ..

    मेरी कहानी 'मिथ्‍या भ्रम' को स्‍थान देने के लिए शुक्रिया !!

    ReplyDelete
  12. सारे लिंक्स अच्छे हैं|कविता की परिभाषा देने के लिए आभार|

    ReplyDelete
  13. meri kavitao ko shamil karne ka shukriya ...........

    ReplyDelete
  14. भाई दिलबाग जी बहुत सुंदर और रंग विरंगी पोस्ट आपने सजाया है बधाई और चर्चा मंच को दीवाली की शुभकामनायें |क्योंकि कल के बाद एक सप्ताह के लिए मैं अंतर्जाल से दूर रहूँगा |

    ReplyDelete
  15. उत्तम चर्चा ..आभार...

    ReplyDelete
  16. धन्यवाद दिलबाग जी...छंदों को स्थान देने के लिए ..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin