Followers

Tuesday, October 18, 2011

"दिन का प्रारम्भ" (चर्चा मंच-671)

मित्रों!
प्रस्तुत है मंगलवार की चर्चा!
"सुलझ गयीं.. गांठें कितनी..
तेरी इक मुस्कराहट से..
व्यर्थ ही.. लुटती रही..
समाज के संकीर्ण फेरों में..!!"

21 comments:

  1. कार्टून को चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  2. चर्चा मंच पर श्रेष्ठ चर्चाओं के बीच आपने एक बार फिर से मेरी रचना को स्थान दिया बहुत - बहुत आभार आदरणीय श्री शास्त्री जी ।
    वन्दे मातरम्

    ReplyDelete
  3. रंग बिरंगी छायाओं में सजी चर्चा।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा में प्रेम पखरोलवी जी की रचना को स्थान देने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा ||

    आभार ||

    ReplyDelete
  6. शरद ऋतु में सुबह-सुबह ,लगी गुनगुनी धूप
    हमको वैसा ही लगा, चर्चा मंच का रूप.

    गोरे - गोरे मुखड़े पर, काला-काला तिल
    अहो-भाग्य मेरा रंग भी, इसमे है शामिल.

    ReplyDelete
  7. मुख्तसर और सारगर्भित पेशकश के लिए शुक्रिया !

    ReplyDelete
  8. कितने लिंक्स? इतने लिंक्स वाह! धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. चर्चा मंच पर सजी इन सुन्दर - सुन्दर लिंक्स के बीच मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका बहुत - बहुत आभार...

    ReplyDelete
  10. आपकी इस मेहनत से, सबने कुछ-न-कुछ पाया,
    आपका यह संकलन, प्रस्तुतिकरण सबको भाया,

    ReplyDelete
  11. अरे वाह!! नये अन्दाज़ में शानदार चर्चा. लिंक शामिल करने के लिये आभारी हूं.

    ReplyDelete
  12. चर्चा मंच पर एक बार फिर से मेरी रचना को स्थान दिया बहुत - बहुत आभार

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर लिंक्स संजोये है……………शानदार चर्चा।

    ReplyDelete
  14. ये पोस्ट बनारस के शानदार लोगों को समर्पित है ............चर्चा मंच में shaamil karne के लिए dhanyawaad

    ReplyDelete
  15. सदा की तरह सुंदर चर्चा

    आभार

    ReplyDelete
  16. ek naye kavyamay andaaj mein sundar links se saji charchamanch prastuti ke liye bahut bahut aabhar!!

    ReplyDelete
  17. आप का ध्यानाकर्षण न होता तो छूट ही जाते कुछ पोस्ट।

    ReplyDelete
  18. अच्छे लिंक्स ..

    ReplyDelete
  19. अच्‍छे लिंक्स।
    आभार..............

    ReplyDelete
  20. चर्चा मंच के माध्यम से अच्छे रचनाकारों को एक साथ जोड़ने का सराहनीय प्रयास,लाजबाब प्रसुतित...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...