समर्थक

Sunday, October 23, 2011

माया महा-ठगिन हम ...चर्चा-मंच 676




विकास के मामले में मोदी से पीछे नहीं हैं माया-रिपोर्ट

हाथी पर अब बैठ, ठगिन-माया को भोगो-

*लोगों ने हरदम किया, महापलायन खूब |  
*हाथी जो होता नहीं, यू पी जाता डूब |
*यू पी जाता डूब, बड़ी किरपा की बहना |
*यन यस पी डी खूब, सजे गुजराती गहना |
*हाथी पर अब बैठ, ठगिन-माया को भोगो |
*बढ़िया तर्क - रिपोट, लौट कर आओ लोगों ||

अ-हरिगीतिका -लिंक १ से 4


अ-हरिगीतिका -लिंक ९ से १२
अ-हरिगीतिका -लिंक 13 से 16
अ-हरिगीतिका -लिंक १७ से २०

21 comments:

  1. अन्तिम छन्द में तो आपने लिंकों को बहुत खूबसूरती से सजाया है!
    चर्चा क लिए आभार!
    सोमवार के लिए चर्चा भाई गाफिल साहिब लगा रहे हैं!

    ReplyDelete
  2. आ गया दीपों का त्यौहार ...
    बधाई और शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  3. सुंदर चर्चा...अच्छे लिंक दिये हैं आपने
    ...........धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर छन्दमय चर्चा...आभार एवं दीपावली की शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  5. संक्षिप्त और सुंदर ।

    ReplyDelete
  6. रविवार की प्रात निराली , प्रियवर रविकर संग
    हरिगीतिका छटा बिखेरे , चहुँ- दिक् नौ-नौ रंग .

    नहले पर दहला जैसे , हम रह गये उन्नीस
    बीस लिंक्स के साथ रविकर सदा सदा हैं बीस.

    ReplyDelete
  7. मुबारक दीप पर्व .सुन्दर प्रस्तुति मुबारक .बहुत बहुत आभार इस चर्चा सुपर मंच के लिए .

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर और सार्थक चर्चा की है…………दीप पर्व की शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  9. rajgir par likha lekh ...sundar lagaa ...//
    meri kavita ka link dene ke charcha manch ka aabhar

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर चर्चा बधाई...आपका और शास्त्री जी का सहयोग के लिए बहुत-बहुत आभार। सोमवार की चर्चा मैं लगा रहा हूँ।

    ReplyDelete
  11. सुंदर चर्चा/अच्छे लिंक

    ReplyDelete
  12. नए अंदाज में सुन्दर चर्चा....
    सादर आभार....

    ReplyDelete
  13. चर्चा का अंदाज निराला
    चंद छंद में सब कह डाला
    अलग अलग मनका है सुन्दर
    और अनोखी यह मणिमाला

    ReplyDelete
  14. लिंकस की सजी हुई थाली
    छंदमयी चर्चा बडी निराली ।
    आभार

    ReplyDelete
  15. सुन्दर प्रस्तुतीकरण,

    ReplyDelete
  16. ऐसे तो चर्चा मंच में हर रोज हि अच्छी रचनाएँ मिलती है पढ़ने को पर आज तो बस आनंद आ गया|
    अब से नियमित आता रहूंगा!
    आप सबों को दिवाली कि हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  17. धन्य हुए यह देखकर,हमहूँ पा गये स्थान,
    रविकर जी चर्चा करें और सुनें "बिहारी"लाल!

    ReplyDelete
  18. घ् अपने ब्लाग की काब्यमय चर्चा को इस पोस्ट में पाकर अनुग्रहीत हुआ हू
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाऐं!!

    ReplyDelete
  19. दीवाली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin