चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, November 03, 2011

उगो हो सुरुज देव अर्घ के बेर…( चर्चा मंच - 687)

       आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
                IMG_1924
अब एक सूचना कि चौथा अंतर्राष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन थाईलैंड में 15 से 21 दिसम्बर तक आयोजित हो रहा है. 
अब चलते हैं चर्चा की ओर 
गद्य रचनाएं 

पद्य रचनाएं 

                 अंत में एक बाल कहानी राजा का फैसला
              आज की चर्चा में बस इतना ही 
                                    धन्यवाद 
                               दिलबाग विर्क 

                                                  * * * * *

26 comments:

  1. विर्क जी आज की एक पोस्ट ने बहुत उपयोगी जानकारी दी है |अच्छी और सार्थक चर्चा |
    आशा

    ReplyDelete
  2. गद्य-पद्य का बहुत सुन्दर सम्मिश्रण किया है आपने!
    बढ़िया चर्चा!

    ReplyDelete
  3. आज पढ़ने के लिये कई नये सूत्र।

    ReplyDelete
  4. naari blog ki post ko shamil karnae kae liyae thanks par aap ne apne vichaar khud to wahaan diyae hi nahin

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर लिंक्स संजोये हैं।सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  7. अच्छे लिंक्स, सुंदर चर्चा

    ReplyDelete
  8. sarthak charcha v upyogi links se bhari charcha prastutikaran hetu hardik dhanyvad .

    ReplyDelete
  9. सुव्यवस्थित, टू द पॉइंट चर्चा.
    अच्छे लगे लिंक्स
    बहुत आभार.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर..
    बढ़िया लिंक्स....
    मेरी रचना को स्थान देने का आभार ..

    ReplyDelete
  11. सार्थक और सुंदर चर्चा, आभार !

    ReplyDelete
  12. मेरी पोस्ट को यहाँ स्थान देने के लिए आभार साथ ही अच्छे लिंक को सुव्यवस्थित तरीके से लगाकर प्रस्तुत करने के लिए भी आपका बहुत-बहुत शुक्रिया।

    ReplyDelete
  13. सुन्दर लिंक्स... सादर आभार...

    ReplyDelete
  14. "माडरेशन का विकल्प कैसे हटाएँ" नामक पोस्ट को अपनि चर्चा में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद व इसके साथ अच्छे लिंक्स दे कर जानकारी बढाने के लिए भी धन्यवाद |

    ReplyDelete
  15. पठनीय लिंक्स की सुव्यवस्थित प्रस्तुति...मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार|

    ReplyDelete
  16. charcha manch me shamil karne ki badaulat kuchh aur visiters pahunche hai ...shukriya . aapne likha ki Sharda arora ji ko apne jaisa koi nahi mila hai ...actually ye har kisi ko lagta hai ki apne man ke jaisa koi kabhi nahi milta ...

    ReplyDelete
  17. बहुत हि शानदार रही चर्चा चर्चाकार दिलबाग विर्क जी को धन्यवाद!

    ReplyDelete
  18. बढिया चर्चा।
    बेहतर लिंकस।

    आभार.....

    ReplyDelete
  19. virk ji shukriya meri post ko yaha sthan dekar jo samman diya. aabhari hun.

    sunder charcha. sunder prayas.

    ReplyDelete
  20. बेहतरीन चर्चा जिसमें हर तरह के पोस्टों का समावेश है।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin