Followers


Search This Blog

Friday, November 04, 2011

वीर बहुटी स्वस्थ हो - चर्चा-मंच : 688

बचपन में सभी ने साबुन के घोल से बुलबुले उड़ाए हैं|

26 comments:

  1. बहुत सुन्दर सतरंगी चर्चा!
    सभी लिंक पठनीय हैं।

    ReplyDelete
  2. बहुआयामी चर्चा |
    आशा

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चर्चा!

    ReplyDelete
  4. सुंदर लिनक्स का संकलन .... चैतन्य को शामिल करने का आभार

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्‍छी प्रस्‍तुति !!

    ReplyDelete
  6. खुबशुरत सतरंगी चर्चा...
    चर्घा मंच में नए रचनाकारों को शामिल करे लोगो में उत्साह बना रहेगा...
    मेरे नये पोस्ट में आपका स्वागत है...

    ReplyDelete
  7. वाह ...बहुत ही बढि़या लिंक्‍स संयोजन ।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर लिंक्स से सुसज्जित रोचक चर्चा।

    ReplyDelete
  9. bahut badiya links ke saath sarthak charcha prastuti ke liye aabhar!

    ReplyDelete
  10. प्रिय रविकर जी ..अभिवादन ..सराहनीय ........

    जैसे काजल कोठरी
    डूबे काजल लगता
    ऐसे "भ्रमर" को घूमते
    दर्द भरा ही दीखता
    आओ मन को हम समझाएं
    कभी कभी कुछ रंग बिरंगा
    झोली अपनी भर के लायें
    जैसे सतरंगी- मित्रों की बगिया से
    हो कर आये
    इन्द्रधनुष ला ला कर हो यूं
    सुन्दर रचना मंच सजाये
    बरसे यूं ही हरियाली
    हो शान्ति निराली
    सदा सदा ही
    हम दौड़े इस मंच पे आएं

    आभार
    भ्रमर ५
    बाल झरोखा सत्यम की दुनिया

    ReplyDelete
  11. क्या बात है रविकर जी,आप अपनी सुन्दर
    छाप हमेशा ही छोड़ते हैं.

    मेरी पोस्ट को चर्चा मंच में शामिल करने के
    लिए बहुत बहुत आभार.

    ReplyDelete
  12. बढ़िया छंदबद्द चर्चा.

    ReplyDelete
  13. रंगीन और काव्यमयी चर्चा

    ReplyDelete
  14. सुंदर लिंक्स से सजी काव्यमयी चर्चा बहुत अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  15. आपके चर्चा मंच पर आना बड़ा ही सुखद लगता है । मेरे पोस्ट पर आकर मेरा भी मनोबल बढाएं।
    धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  16. आदरणीय रविकर सर,
    बचपन में सभी ने साबुन के घोल से बुलबुले उड़ाए हैं|
    हिन्दी-हाइगा पर प्रकाशित इस रचना को शामिल करने के लिए हार्दिक आभार किन्तु इसके लिंक खुल नहीं रहे|
    सादर
    ऋता शेखर मधु

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर सतरंगी चर्चा!

    ReplyDelete
  18. चर्चा मंच की चर्चा पढ़ा बहुत ही प्रसिद्ध और प्रख्यात हस्तियों की रचना से अवगत हुआ| आपका आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।