समर्थक

Thursday, November 10, 2011

मिटी धुंध, जग चानन होइया ( चर्चा मंच - 694 )

              आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
                          
                         सबसे पहले सबको गुरपर्व की शुभकामनाएँ 
अब चलिए चर्चा की ओर 

गद्य रचनाएं 

पद्य रचनाएं 
                       आज की चर्चा में बस इतना ही 
                                                      धन्यवाद 
                                         दिलबाग विर्क 

                               * * * * *

30 comments:

  1. बहुत बढ़िया लिंकों के साथ बढ़िया चर्चा

    Gyan Darpan

    ReplyDelete
  2. अच्छे लिंकों से सुसज्जित संतुलित चर्चा करने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  3. बढ़िया लिनक्स ...सुंदर चर्चा
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  4. मेरी नई पोस्ट को यहाँ पर स्थान देने के लिए दिल से धन्यवाद |
    प्रवीण पाण्डेय जी लेख "संदेश और कोलाहल" विषय से हटकर लगा |

    टिप्स हिंदी में

    ReplyDelete
  5. कार्तिक पूर्णिमा एवं प्रकाश उत्सव की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  6. सुंदर चर्चा प्रस्तुत की है आपने। समस्या पूर्ति मंच को स्थान देने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  7. गुरु पर्व की बहुत शुभकामनायें !
    अच्छी चर्चा !

    ReplyDelete
  8. इतने उम्दा लिंक्स में मुझे स्थान देने का शुक्रिया!

    ReplyDelete
  9. गुरु पर्व की बहुत शुभकामनायें संतुलित चर्चा के लिए आभार

    ReplyDelete
  10. अच्छी और संतुलित चर्चा

    ReplyDelete
  11. मेरी रचना को शामिल करने के लिये
    धन्यवाद !
    बढ़िया चर्चा और सभी अच्छे लिक्स ...
    आभार !

    ReplyDelete
  12. संयत व सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete
  13. चर्चा की प्रस्तुति बहुत सुन्दर और सभी लिक्स अच्छे ...हाइगा को शामिल करने के लिये आभार|
    कार्तिक पूर्णिमा एवं प्रकाश उत्सव की बधाई एवं शुभकामनाएं|

    ReplyDelete
  14. गुरु पर्व की बहुत शुभकामनायें..
    बहुत बढ़िया लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete
  15. dilbag ji thanks a lot to take this [AMRITA JI'S HOME'S RELATED ]post here .great job .THANKS ONCE AGAIN .

    ReplyDelete
  16. sari chrchaye padh dali...umda links

    ReplyDelete
  17. सुन्दर चर्चा!
    अनुशील को शामिल किया, आभार!

    ReplyDelete
  18. ढेर सारे लिंक्स के साथ बढ़िया चर्चा रहा! मेरी कविता का लिंक शामिल करने के लिए धन्यवाद!

    ReplyDelete
  19. बहुत बढ़िया लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा
    मुझे स्थान देने का शुक्रिया!
    गुरु पर्व की बहुत शुभकामनायें.....!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    पर आपका स्वागत है
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  20. वाह ... सुन्दर चर्चा सुन्दर लिंक ... शामिल करने का शुक्रिया ... गुरु पर्व की शुभकामनाएं ..

    ReplyDelete
  21. guru parv par apaar khushiyon ,safalataon ki kamana karate hain ....sundar sankalan kosamman , va samast blogaron ko guru parv ki badhayiyan .....

    ReplyDelete
  22. आज आने में देर अवश्य हुयी पर आनन्द पूरा आया।

    ReplyDelete
  23. सुन्दर सूत्र...
    बढ़िया चर्चा...
    सादर आभार....

    ReplyDelete
  24. बढ़िया चर्चा...
    सादर आभार.... !!

    ReplyDelete
  25. बहुत-बहुत धन्यवाद विर्क साहब!!

    ReplyDelete
  26. बहुत हि सार्थक चर्चा!

    ReplyDelete
  27. सुन्दर प्रस्तुति,बढ़िया चर्चा !

    अपने विचारों से अवगत कराएँ !
    अच्छा ठीक है -2

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin