चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Sunday, November 20, 2011

संक्षिप्त चर्चा ( चर्चा मंच - 704 )

           आज की चर्चा में आप सबका स्वागत है
आज की चर्चा आदरणीय डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री जी ने लगानी थी, वे चर्चा तैयार भी कर रहे थे, लेकिन उनके छोटे मामा जी डॉ. धर्मवीर का देहावसान का समाचार उन्हें शाम को 5-30 पर मिला , ऐसे में चर्चा न लगाना उनकी विवशता थी , उनकी तरफ से यह दायित्व मैं निर्वहन कर रहा हूँ. साथ ही भगवान से प्रार्थना है कि वे परिवार को दुःख भरे पलों को सहने का सामर्थ्य दें. 
आज की चर्चा 
                          
                        शैलेश कुमार शैल को सिर्फ  तन्हाई मिली  
                               विचार व्यक्त करते- डा. रामलखन सिंह यादव, अपर जिला सत्र न्यायाधीश, मधेपुरा
                       ऋता शेखर 'मधु'
                हिंदी हाइगा पर देखिए जाड़े की रात -हाइगा में 
                     

                                     
  जन्म दिवस पर शत-शत नमन करते हैं डॉ. मयंक जी 
                         मेरा फोटो
                                            
                                     
                   
                                     
                                  
 कर्मनाशा ब्लॉग पर हैं स्मृतियां नैनीताल  की कविताओं में 
                           
                                  
लेखकीय मन: स्थिति बता रहे हैं प्रवीन पाण्डेय जी 
                                         मेरा फोटो
                  सर्द रातें हैं और कहने को हैं कितनी ही बातें 
                                    महान क्रांतिकारी मौलवी बरकतुल्लाह
                                   
                      
 गिरीश पंकज की ग़ज़ल- जख्म हरे हैं अब तक कल के 
                        
                 मिसाइल वोमेन ----- जय हो 
                           मेरा फोटो
                      जानिए अपने आपको 
                             

आज की चर्चा में बस इतना ही , यह चर्चा आनन -फानन में तैयार हुई अत: ज्यादा भ्रमण नहीं हो सका . आशा है आपको यह पसंद आएगी 
                                                 धन्यवाद 
                                      दिलबाग विर्क 

                              * * * * *

27 comments:

  1. अच्छी चर्चा और लिंक्स |
    आशा

    ReplyDelete
  2. छूट गए को पढ़वाने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. छोटी पर सार्थक चर्चा।

    ReplyDelete
  4. सार्थक चर्चा की सुन्दर प्रस्तुति...हिंदी हाइगा शामिल करने के लिए आभार|

    ReplyDelete
  5. बढ़िया लिंक्स के साथ बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete
  6. हमेशा की तरह अच्छे-प्यारे लिंक्स दिए हैं आपने. धन्यवाद...

    ReplyDelete
  7. लोग जो शाकाहार पसंद करते हैं,
    उन्हें जानकर ताज्जुब होगा कि आलू टमाटर को वैज्ञानिकों ने ख़ून पीते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया है।


    आज की चर्चा सचमुच अच्छी है।

    मालिक उन लोगों को सहन शक्ति दे और सन्मार्ग दिखाए जिनके प्रियजन अपना आयु चक्र पूरा करके इस जग से चले गए हैं।
    आमीन !

    ReplyDelete
  8. भगवान् दिवंगत आत्मा को शान्ति प्रदान करे |

    ReplyDelete
  9. अच्छी चर्चा..
    मन खुश हो गया!
    कुछ नहीं पढ़ पाई हूँ.
    जल्दी ही पढुगी!
    मेरे ब्लॉग पर भी आइये!

    ReplyDelete
  10. अच्छी चर्चा..
    मन खुश हो गया!
    कुछ नहीं पढ़ पाई हूँ.
    जल्दी ही पढुगी!
    मेरे ब्लॉग पर भी आइये!

    ReplyDelete
  11. अच्छी चर्चा और लिंक्स |
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री जी के मामा डॉ. धर्मवीर जी के देहावसान,हम सभी भगवान से प्राथना करते है कि उनकी आत्मा को शांति मिले

    ReplyDelete
  12. सार्थक चर्चा के लिए आभार.

    ReplyDelete
  13. धन्यवाद चर्चा में शामिल करने के लिए। भगवना शास्त्री जी औऱ उनके परिजनों को संबल दे..साथ ही भगवान दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं।

    ReplyDelete
  14. आदरणीय शास्त्री सर के मामा जी को सादर श्रद्धांजली....

    अच्छी चर्चा... सादर आभार...

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर चर्चा और लिंक्स...आदरणीय शास्त्री जी के मामा जी को विनम्र श्रद्धांजलि.

    ReplyDelete
  16. मेरे दुख के पलों में भी चर्चा मंच को अनवरत जारी रखने के लिए आभार।
    --
    सभी ब्लॉगर साथियों को धन्यवाद।

    ReplyDelete
  17. sateek v sarthak links se saji charcha prastut karne hetu aabhar

    ReplyDelete
  18. संक्षिप्त पर सार्थक चर्चा।

    ReplyDelete
  19. सटीक लिंक्स के साथ,संक्षिप्त चर्चा.आदरणीय श्री मयंक जी के मामीजी के देहवासन पर,
    श्रंधाजलि.

    ReplyDelete
  20. अच्‍छी चर्चा।

    ReplyDelete
  21. aapka bahut bahut shukriya Dilbag Jee...meri ghazal ko charcha manch mein shamil karne k liye :)

    ReplyDelete
  22. वाह बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स संजोये हैं आपने ..जिनके साथ मेरी रचना को स्‍थान देने के लिए आभार ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin