Followers

Monday, November 28, 2011

आ गये फ़कीर हैं (सोमवारीय चर्चामंच-712)

मेरा फोटो
दोस्तों मैं चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ एक अर्सा बाद आप लोगों से मुख़ातिब हो रहा हूँ। दरअसल मेरी चाची जी का इन्तकाल हो जाने के नाते उनके क्रियाकर्म की व्यस्तता से आज निज़ात पाया हूँ, आख़िर एकमात्र मैं ही उनका वारिस जो ठहरा। इस दौरान मेरे सेड्यूल पर चर्चामंच लगाने के लिए अपने चर्चामंच के सहयोगियों का आभार व्यक्त करता हूँ और शुरू करता हूँ आज की चर्चा-
 नं. 1-
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ उच्चारण 'आ गये फ़कीर हैं'
उच्चारण
_______________________
2-
ये ब्लॉग अच्छा लगा...बस एक थप्पड़ !!??
My Photo
_______________________
3-
ये लीजिए साहब! मेथी की भाजी 
My Photo
_______________________
4-
परशुराम राय जी प्रस्तुत कर रहे हैं कुछ बच्चन जी के जन्मदिन पर
_______________________
5-
_______________________
6-
_______________________
_______________________
8-
_______________________
9-
_______________________
10-
भगवती शांता परम-सर्ग-4, शिक्षा और संस्कार-भाग-1, शान्ता के चरण
My Photo
_______________________
11-
"मोती के लाल" -निवेदिता
मेरा फोटो
_______________________
12-
_______________________
13-
_______________________
_______________________
15-
_______________________
16-
_______________________
17-
_______________________
18-
_______________________
19-
_______________________
20-
_______________________
21-
"भूभल" उपन्यास से कथा अंश 
मेरा फोटो
_______________________
22-
मौनी बाबा 
My Photo
_______________________
23-
इस देस में वापस आकर -आशा जोगळेकर
My Photo
_______________________
24-
बात बेचारी
मेरा फोटो
_______________________
और अन्त में
________________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

26 comments:

  1. सोमवासरीय चर्चा पच्चीसी बहुत अच्छी रही!
    आभार!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा , बढ़िया लिंक्स ..

    सादर

    ReplyDelete
  3. बड़े ही पठनीय सूत्र।

    ReplyDelete
  4. आदरणीय चंद्रभूषण जी !आपकी चाचीजी के आकस्मिक निधन का दुखद समाचार आपके माध्यम से आज के चर्चामंच पर मिला.हम सबकी संवेदनाएं आपके और आपके शोक-संतप्त परिवार के साथ हैं . पारिवारिक दुःख से समय निकाल कर आपने आज चर्चा मंच पर कई ज्ञानवर्धक लिंक्स दिए हैं.आभार.

    ReplyDelete
  5. अपने प्रिय जनों का जाना सच में बहुत व्यथित करता है |
    हमारी संवेदना आपके पूरे परिवार के साथ है |
    आपने बहुत अच्छी लिंक्स दी हैं |
    आशा

    ReplyDelete
  6. ईश्वर आपकी चाची जी की आत्मा को शान्ति प्रदान करे और आप सब परिवारी जनों को दुख सहने की शक्ति दे !
    अच्छी चर्चा सजायी है ,आभार !

    ReplyDelete
  7. abhaar aapka meri likhi rachna ko aapne is manch pe rakha

    ReplyDelete
  8. आप की चाची जी की आत्मा को भगवान शांति प्रदान करे और उन के अपनों को ऐसा दुख सहन करने की शक्ति

    एक एक कर के सारे लिंक देखूंगी
    मेरी रचना चर्चा मंच में शामिल करने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर चर्चा,
    ईश्वर से प्रार्थना है दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान कर, पूरे परिवार को इस दुख से उबरने की शक्ति प्रदान करें।

    ReplyDelete
  10. मृतात्मा की शांति के लिए प्रभु से प्रार्थना है ...!!
    बहुत अच्छी चर्चा है आज की ...
    मुझे स्थान दिया ..बहुत बहुत आभार ..!!

    ReplyDelete
  11. बेहतर लिंक्स संयोजन .....!

    ReplyDelete
  12. गजब की चर्चा गजब का मंच , गाफिल जी शुक्रिया.......

    ReplyDelete
  13. ईश्वर चाची जी की आत्मा को शान्ति प्रदान करे ||

    अच्छी चर्चा ||

    ReplyDelete
  14. दिवंगत आत्मा को भगवान शांति प्रदान करें, यही प्रार्थना है!

    सुन्दर चर्चा!

    ReplyDelete
  15. सुन्दर चर्चा , बढ़िया लिंक्स ..
    बहुत बहुत आभार ..

    ReplyDelete
  16. हमारी संवेदना आपके पूरे परिवार के साथ है |
    आपने बहुत अच्छी लिंक्स दी हैं |
    -----------
    इस्लामी नए साल को मनाने का तरीका यह है कि बेबसों, बेवाओं (विधवाओं), बेसहारा लोगों की मदद करना, जरूरतमंदों और यतीमों (अनाथ बच्चे-बच्चियों) की दिल से सहायता करना और जुबान से चुप रहना यानी सहायता करके प्रचार के ढोल नहीं पीटना, बीमारों, बूढ़ों और अपंगों-अपाहिजों यानी विकलांगों तथा निःशक्तों की मदद करना, बुजुर्गों का सम्मान करना अपना कर्तव्य (फर्ज) पूरी मुस्तैदी और ईमानदारी से निभाना। इस्लामी नया साल यानी सब रहें खुशहाल!
    http://hbfint.blogspot.com/2011/11/19-happy-islamic-new-year.html

    ReplyDelete
  17. सुन्दर चर्चा , बढ़िया लिंक्स .

    ReplyDelete
  18. बेहतरीन लिंक्‍स संयोजन ।

    ReplyDelete
  19. सुव्यवस्थित चर्चा.

    ReplyDelete
  20. मृतात्मा की शांति के लिए प्रभु से प्रार्थना है ...!!
    बहुत अच्छी चर्चा है आज की ...
    मुझे स्थान दिया ..बहुत बहुत आभार ..!!

    ReplyDelete
  21. आपने कहानी पढी और यहाँ लिया भी । धन्यवाद । यहाँ और भी उत्कृष्ट रचनाएं पढने मिलीं । अच्छा लगा ।

    ReplyDelete
  22. Bahut Bahut aabhaar aapka meri rachna ko yahan sanjone ke liye! .... sabhi links bahut achche hain... !

    ReplyDelete
  23. सुन्दर चर्चा... सार्थक सूत्र...
    सादर आभार....

    ReplyDelete
  24. आपके परिवार के इस दुखद प्रसंग में हम साझेदार हैं समवेदना के साथ । ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करे ।
    इस दुख के रहते आपने चर्चा का काम निभाया और
    आप की इस सुंदर चर्चा में आपने ,"इस देश में वापिस आकर" को लिया अनेक धन्यवाद ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...