Followers

Tuesday, November 01, 2011

"मूक चर्चा" (चर्चा मंच-६८५)

22 comments:

  1. बहुत सुन्दर सार्थक लिंक सटीक चर्चा
    आपका बहुत बहुत आभार शास्त्री जी
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. विद्या जी और शास्त्री जी प्रणाम इस तरह की चर्चा के पढ़ने के लिए तो कुछ अधिक प्रयास की आवश्यकता है |जब कोइ कम्पूटर का जानकार आएगा तभी इस तरह की लिंक्स का आनंद उठा पाएगे |
    खैर आप लोगों के सारे त्योहा अच्छे रहे होगे ऐसी आशा है ||
    आशा

    ReplyDelete
  3. बढ़िया चर्चा ...
    आभार !

    ReplyDelete
  4. अच्छे-अच्छे लिंक्स की सुन्दर प्रस्तुति!
    मेरी रचना शामिल करने के लिए हार्दिक आभार|

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर सार्थक लिंक|

    मेरी रचना शामिल करने के लिए हार्दिक आभार|

    ReplyDelete
  6. आज तो गुगली ही मार दी।

    ReplyDelete
  7. सुंदर और अनोखी चर्चा

    ReplyDelete
  8. आज तो कुछ अलग सा अंदाज है।

    ReplyDelete
  9. वाह ...बहुत बढि़या ।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर अन्दाज़ मे चर्चा की है……………शानदार लिंक्स्।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर लिंक,आभार.

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर चर्चा। चर्चा का यह अन्दाज भाया

    ReplyDelete
  13. अलग अंदाज में चर्चा मंच दिखा...लाजबाब प्रस्तुतीकरण....

    ReplyDelete
  14. कम शब्दों में ज्यादा बात ...शुक्रिया.....

    ReplyDelete
  15. शास्त्री जी आप मेरे ब्लॉग पे आये और चर्चा मंच में
    लिंक दिया इसके लिये आपको बहुत - बहुत धन्यबाद!
    चर्चा मंच पे सारे लिंक का चर्चा बहुत अच्छा लगा!

    मनीष कुमार नीलू
    जीवन पुष्प
    www.mknilu.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. अंदाज नया पर हमेशा की तरह बेहतर चर्चा।
    आभार।

    ReplyDelete
  17. aap sab ko bahut bahut dhanyavadha,

    ReplyDelete
  18. naye tareke ki charcha padhkar achchha laga apne taanka bhi padhe aabhar..

    ReplyDelete
  19. सबके इतने सुन्दर फोटो छापने के लिए आभार ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...