Followers

Saturday, December 31, 2011

नदिया की बूंदे ... (चर्चा मंच - 744)


साल का आखिरी दिन और साल की आखिरी चर्चा....... हर ओर खुमारी है........ पूरे साल घरों में दीवार पर टंगा कैलेंडर अब पुराना हो जाएगा और उसकी जगह ले लेगा नया कैलेंडर। 2011 का यह आखिरी दिन और फिर सुबह होगी 2012 की। अपने अपने तरीके हैं सबके पुराने साल की विदाई और नया साल का स्‍वागत करने का। वर्ष 2011 की विदाई के तौर-तरीकों पर बात कर रही हैं अजित गुप्‍ता जी
इसी विषय पर और ही विस्‍तार से बात कर रही हैं पल्‍लवी जी  
 नया साल सबके लिए मंगलमय हो..... सबके लिए शुभ हो.... सब नए साल में फले फूलें.... सबका कल्‍याण हो....... सबके घर खुशियां आयें, सबके लिए दुआएं मांग रही हैं शशि पुरवार जी
देशभक्ति के जज्‍बे के साथ नए साल की खुशियां मनाने की बात कह रहे हैं धीरेन्‍द्र सिंह जी  

चहुंओर खुशहाली हो.... चहुंओर समृध्दि हो.... आने को है नया साल 


समय किसी के लिए नहीं रूकता.... वह निरंतर चलता रहता है.... जिंदगी में हमें समय की कद्र करनी चाहिए और साथ ही उनकी जो हमारी फिक्र करते हैं, इस कडी में सबसे पहला नाम आता है 'मां' । कहते हैं भगवान ने दुनिया बनाई और इसके बाद उसने 'मां' को बनाया, क्‍योंकि वो खुद हर जगह, हर वक्‍त, हर इंसान के साथ नहीं रह सकता था इसलिए उसने 'मां' बनाया। 'मां' को लेकर एक मर्मस्‍पर्शी कहानी काणी मां
वर्ष 2012 के आने से पहले 2011 पर बात की जाए और इस वर्ष में अपने अपने क्षेत्र में छाप छोडने वालों पर बात की जाए तो वर्ष की सबसे सशक्‍त महिला हैं बंगाल शेरनी
और इसी बंगाल शेरनी पर बात हो रही है ममता, माओवाद और आतंक
अब कुछ लिंक सीधे सीधे आप तक ............. 
कहां कहां जाती हैं नदिया की बूंदे
बिलावजह कुछ नहीं होता कोई बात यूं बाहर नहीं जाती
सच कहा है सिर्फ कोहीनूर ही मुकुट में जडे जाते हैं
समझ में नहीं आता कैसी ये जुदाई है 
सात दिनों में सबसे प्‍यारा टूटी चूडी में फंसा हुआ इतवार 
 अरे आप तो चुप रहिए वो कुछ बोलने जा रहे हैं.....
हकीकत कुछ भी हो इन्‍हें चाहिए सबूत  
लोकपाल आंदोलन को करीब से जानिए अन्‍ना की आग में मीडिया का घी 

अखबारों में प्रचार प्रसार का काम देखते पूरी उम्र गुजार चुके एक बुजुर्ग का दर्द है पत्रकारिता का रंग पीला क्‍यों......? 

नए साल की बधाईयों के बीच बधाई दीजिए इनको भी। इनके स्‍मृति रथ के लिए 
नए साल की खुमारी में ही न डूबे रहें सचेत भी रहें क्‍योंकि आ गया है इंसानी दिमाग को हैक करने वाला कम्प्यूटर वायरस  
नए साल पर म्‍यूजिकल ग्रीटिंग भेजना सीखिए यहां

आखिर में आज का सदविचार



27 comments:

  1. बेहद सुलझी हुई ....सटीक व सार्थक चर्चा के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  2. अच्छी चर्चा अतुल जी,
    बहुत सुंदर लिंक्स

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुलझी हुई और अच्छी चर्चा.
    बहुत आभार आपका.

    ReplyDelete
  4. आपके इस पोस्ट पर ब्लॉगप्रहरी से आना हुआ ! इस एग्रीगेटर को हिंदी ब्लॉगिंग की धुरी बना ब्लॉगजगत को पुनः जिवंत करें !! ब्लॉगप्रहरी अब तक का सर्वाधिक सुविधासंपन्न एग्रीगेटर है.इस पर सक्रिय हो अन्य मित्रों की पोस्ट्स को पढ़े-पसंद करें .. प्रतिक्रिया दें ..और हिंदी ब्लॉगजगत को एक मंच पर लाने के प्रयास में शामिल हों.

    ReplyDelete
  5. सुन्दर पठनीय सूत्र, नव वर्ष की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. आप द्वारा प्रदत्त लिंकों पर जाने का प्रयास रहेगा। आभार। शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  7. सभी चर्चाएँ मंच को सुसज्जित कर रही हैं ..चर्चा मंच में शामिल सभी पाठक गणों को नए वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें..
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. Naya saal mubarak ho .
    आप सभी को नए साल २०१२ की मुबारकबाद .मालिक हम सबको हर मुसीबत से बचाए और हरेक नेकी का रास्ता दिखाए ताकि हमारा अंजाम अच्छा हो.आमीन . अब कुछ अच्छे संदेसे Something in your smile which speaks to me, Something in your voice which sings to me, Something in your eyes which says to me, That you are the dearest to me.

    http://www.hbfint.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. मेरी नई पोस्ट --"नये साल की खुशी मनाएं"--को चर्चामंच में शामिल करने के लिए बहुत२ आभार धन्यबाद,....

    नये साल की ढेर सारी शुभकामनाएं बधाई,.....

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर लिंक्स
    .......नववर्ष आप के लिए मंगलमय हो

    शुभकामनओं के साथ
    संजय भास्कर
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर लिंक्स
    .......नववर्ष आप के लिए मंगलमय हो

    शुभकामनओं के साथ
    संजय भास्कर
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. साल की आखीरी चर्चा बहुत शानदार रही।
    नववर्ष 2012 की सभी मित्रों को हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन लिंक्‍स संयोजन ... आभार ।

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर लिंक संयोजन्……………आगत विगत का फ़ेर छोडें
    नव वर्ष का स्वागत कर लें
    फिर पुराने ढर्रे पर ज़िन्दगी चल ले
    चलो कुछ देर भरम मे जी लें

    सबको कुछ दुआयें दे दें
    सबकी कुछ दुआयें ले लें
    2011 को विदाई दे दें
    2012 का स्वागत कर लें

    कुछ पल तो वर्तमान मे जी लें
    कुछ रस्म अदायगी हम भी कर लें
    एक शाम 2012 के नाम कर दें
    आओ नववर्ष का स्वागत कर लें

    ReplyDelete
  15. sundar charcha,sabhi ko nav varsha ki hardik shubhkamnaein

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर प्रस्तुति वाह!...नववर्ष की मंगल कामना

    ReplyDelete
  17. बढ़िया चर्चा ...नववर्ष आगमन पर चर्चा मंडल को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  18. Aap sabhi ko naya saal mubarak ho.
    Bahut hi sundar links lagaye hai.
    Dhanyawad....

    ReplyDelete
  19. अच्छी सार्थक चर्चा |
    नव वर्ष शुभ और मंगलमय हो |
    आशा

    ReplyDelete
  20. वर्ष २०११ की आखिरी चर्चा बहुत बढ़िया उम्दा लिंक्स के साथ देख बहुत अच्छा लगा..
    चर्चामंच प्रस्तुत करने वाले सभी चर्चाकारों के साथ ही सभी ब्लोग्गेर्स साथियों को नववर्ष २०१२ की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  21. बेहतरीन अंदाज़ में चर्चा
    नया साल मुबारक हो

    ReplyDelete
  22. आपको और आपके परिवार को नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...