समर्थक

Monday, February 13, 2012

कत्तई नहीं : सोमवारीय चर्चामंच-788

दोस्तों! आप सब को सोमवारीय चर्चामंच पर चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ का नमस्कार! प्रस्तुत है आज की चर्चा का
 लिंक नं. 1- 
Mushayera : मुझे तो मेरी जमीं, मेरा आसमान मिले, शायर- नीरज, प्रस्तुति- डॉ. अनवर जमाल
मेरा फोटो
_______________
2-
काव्य वाटिका
_______________
3-
_______________
4-
मेरा फोटो
_______________
5-
My Photo
_______________
6-
मन चंचल है : गीत अन्तरात्मा के
My Photo
_______________
7-
मेरा फोटो
_______________
8-
मेरा फोटो
_______________
9-
मीठा-मीठा प्यार -डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
उच्चारण
_______________
10-
My Photo
_______________
11-
My Photo
_______________
12-
क्षणिकाएं -महेन्द्र वर्मा
My Photo
_______________
13-
बेसुरम्‌
_______________
14-
भारतीय काव्यशास्त्र-99 -आचार्य परशुराम राय
_______________
15-
प्रेरक प्रसंग-23 : कुर्ता क्यों नहीं पहनते? प्रस्तुतकर्ता- मनोज कुमार
gandhi-wheel-3
_______________
16-
और इक साल गया!! -चला बाहारी ब्लॉगर बनने
मेरा फोटो
_______________
17-
_______________
18-
_______________
19-
_______________
20-
कत्तई नहीं -रश्मि प्रभा!
_______________
21-
वो लम्हा प्रियंका जी!
My Photo
_______________
22-
_______________
23-
________________
24-
बोलो..बोलो क्यों चुप हो ? डॉ. आशुतोष मिश्र जी ‘आशू’!
My Photo
________________
25-
ज़िन्दगी जी ले रितू बंसल!
________________
26-
My Photo
________________
27-
पैगाम -पुरुषोत्तम पाण्डेय
जाले
________________
28-
ज़िन्दगी -डॉ. व्योम
नवगीत
________________
29-
आन क लागै सोन चिरैया, आपन लागै डाइन -बेचैन आत्मा देवेन्द्र पाण्डेय
मेरा फोटो
________________
30-
मेरा फोटो
________________
31-
My Photo
________________
32-
ग़ाफ़िल की अमानत

__________
और अन्त में
33-
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

26 comments:

  1. अरे वाह!
    चर्चा में फोटो भी और लिंक भी!
    आपके श्रम को नमन!
    आभार!

    ReplyDelete
  2. मेरे 3 लिंक हैं तो टिप्पणी दो तो होनी ही चाहिए!
    पुनः धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. अरे इस बार तो काफी कुछ बेपढ़ा मिला

    ReplyDelete
  4. सुसज्जित मंच से मिले अच्छे लिंक्स।
    आभार आपका।

    ReplyDelete
  5. lagbhag sabhi links par apni rai jahir kar di...badhiya links

    ReplyDelete
  6. Sundar links se saji charcha prastuti mein meri blog post shamil karne ke liye aabhar!

    ReplyDelete
  7. अरे वाह!
    चर्चा में मेरे 2 लिंक हैं !

    आभार!

    ek gazal:
    http://mushayera.blogspot.com/2011/12/blog-post_25.html

    ReplyDelete
  8. बढिया चर्चा।
    मेरी पोस्‍ट ''शर्मनाक...शर्मनाक...
    शर्मनाक'' को शामिल करने के लिए शुक्रिया।

    ReplyDelete
  9. bade kamaal kee baat hai
    gaafilji kabhee gaflat
    nahee karte
    sadaa hee khoobsoorat links se charchaa manch ko sajaate

    ReplyDelete
  10. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स का चयन किया है आपने ..आभार ।

    ReplyDelete
  11. थोड़ी व्यस्त हूँ ..फिर भी जब भी समय मिलता है ..लिनक्स पढ़ लेती हूँ..
    मुझको चर्चा मंच में शामिल करने के लिए आभार
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
  12. सुन्दर लिंक संयोजन्।

    ReplyDelete
  13. अच्छी चर्चा है। हमारे ब्लॉग को स्थान देने के लिए भी आभार।

    ReplyDelete
  14. Gafilji,i dont find words to thank you for adding my link in today's charcha manch .This manch is decorated so beautifully . badhaai and thank you on my behalf.

    ReplyDelete
  15. सुन्दर चर्चा... अच्छे लिंक्स...
    सादर आभार..

    ReplyDelete
  16. चर्चा मंच में स्थान देने के लिए आपका बहुत बहुत आभार.

    मित्रों आप सब को पता है कि मैं चुनावी सफर में हूं, लगभग 23 दिन से घर से बाहर हूं और ये क्रम 29 फरवरी तक जारी रहेगा।

    मुझे वाकई अफसोस है कि मैं आप सब के ब्लाग पर नहीं पहुंच पा रहा हूं।

    कई बार अगर मेरे पास समय होता है तो छोटी जगहों पर नेट भी काम नहीं करता है।

    बहुत खराब लग रहा है क्योंकि घर से भी दूर हू अपने ब्लाग परिवार के लिए भी समय नहीं दे पा रहा हूं।

    ReplyDelete
  17. charcha bahut hi sundar dhang se szaai gaee hai,bdhaai ...

    ReplyDelete
  18. प्रिय मिश्र जी ! काफी दिनों बाद चर्चा मंच पर आना हुआ ,कारन अति व्यस्तता , आपके सजाई रंगोली की विविधता ,शुरुचिपूर्ण व मनभावन है , तहे दिल से शुक्रिया /

    ReplyDelete
  19. भई! हमें तो निक्ताचीनी की तमीज़ नहीं :)

    ReplyDelete
  20. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin