Followers

Monday, February 06, 2012

सत्यम शिवम सुंदरम : सोमवारीय चर्चामंच-781

दोस्तों! चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ का आदाब क़ुबूल फ़रमाएं सोमवारीय चर्चामंच पर! पेशे-ख़िदमत है आज की चर्चा का-
 लिंक नं. 1- 
_______________
2-
मेरा फोटो
_______________
3-
उसने कहा था...यात्रा से पहले की कविता -MADHAVI SHARMA GULERI
My Photo
_______________
4-
आप सभी अवश्य बताएं "हो गया क्यों 'रूप' ऐसा" 
उच्चारण
_______________
5-
आशा जी की आकांक्षा है 'प्रतीक्षा'
_______________
6-
इस चुड़ैल की असली कहानी? -राजीव कुलश्रेष्ठ की जुबानी
_______________
7-
सब कुछ सतह से ही दिखता है रश्मि प्रभा जी को
_______________
8-
धूप से संवाद हो रहा है नवगीत पर
नवगीत
_______________
9-
My Photo
_______________
10-
दोहे...प्रेरणा पर -यशवन्त माथुर
मेरा फोटो
_______________
11-
हाइकु मुक्तक -रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'
_______________
12-
My Photo
_______________
13-
बधाई भाई 'निरन्तर' जी! आज के दिन का बड़ा हसीन आगाज़ था
मेरा फोटो
_______________
14-
मेरा फोटो
_______________
15-
तुम्हारी आदत!! -राजेश कुमारी जी!
_______________
16-
_______________
17-
_______________
18-
_______________
19-
अवसर का उपयोग करना जानते हैं महेन्द्र वर्मा जी
My Photo
_______________
20-
प्रेरक प्रसंग-22 : भूल का अनोखा प्रायश्चित -मनोज कुमार
_______________
21-
_______________
22-
_______________
23-
बना है भीड़तन्त्र -दिलबाग विर्क
बेसुरम्‌
________________
24-
ललितडॉटकॉम
________________
25-
राम राम भाई! Struggling with sex when you're overweight 
आज का नीतिपरक दोहा :
नहाए धोये क्या हुआ, जो मन मैल न जाय।
मीन  सदा जल में रहै, धोये बास न जाय॥
                                                                         -वीरूभाई
Struggling with sex when you're overweight
________________
26-
नव गीतिका वेदव्यथित जी द्वारा
मेरा फोटो
________________
27-
मेरा फोटो
________________
28-
एक ग़ज़ल अखिल जी की कलम से
My Photo
________________
29-
सत्यम शिवम सुंदरम... -पल्लवी सक्सेना
________________
और अन्त में
30-
ग़ाफ़िल की अमानत
________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

26 comments:

  1. सुन्दर सार्थक चर्चा । बेहतरीन लिंक्स ।
    आपका बेहद आभार गाफ़िल जी ।

    ReplyDelete
  2. कई नये लिंक अपने फीड में लेकर जा रहा हूँ...

    ReplyDelete
  3. एक बेहतर चर्चा ...अच्छे लिंक्स का संकलन ...!

    ReplyDelete
  4. badhia links ...badhia charcha ...abhar .....meri rachna ko sthan diya ...!!

    ReplyDelete
  5. मेरी कविता को स्थान देने के लिए धन्यवाद ..
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
  6. बहुरंगी चर्चा।
    मुझे स्थान देने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  7. !!!!!बहुत सुंदर प्रस्तुति ,अच्छी चर्चा,मेरी रचना को स्थान देने के लीये बहुत २ आभार

    NEW POST....
    ...काव्यान्जलि ...: बोतल का दूध...

    ReplyDelete
  8. dhanyawaad meree rachnaa ko sthaan dene ke liye

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर लिंक्स...
    शुक्रिया...
    सादर.

    ReplyDelete
  10. इस चहकती-महकती चर्चा का ज़वाब नहीं!
    धन्यवाद ग़ाफ़िल जी!

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  12. bahut mehnat hui he...so result bhi sundar he..

    ReplyDelete
  13. चर्चामंच बहुत सुन्दर सजाया है गाफिल जी ! मेरे आलेख को भी इसमें स्थान दिया आभारी हूँ !

    ReplyDelete
  14. अच्छी चर्चा....ग़ाफ़िल जी!

    ReplyDelete
  15. आज आप ने सब ही लिंक्स को बहुत करीने से सजाया है,सुंदर लग रही है आज की चर्चा ,दिन में आराम से वक्त निकाल कर सब लिंक्स पर जाउंगी,मेरी रचना को भी स्थान देने आभार .....

    ReplyDelete
  16. भाईसाहब हमारे ढूंढ ढूंढ कर हीरे लाइए हैं हमें पढवाएं हैं .हीरे की कद्र जौहरी ही जानता है .बधाई मेहनत और कौशल से तैयार इस चर्चा के लिए .

    ReplyDelete
  17. धन्यवाद कि आपने मुझे भी स्थान दिया।

    ReplyDelete
  18. बहुत बढ़िया लिंक्स के साथ सार्थक चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन भाव पूर्ण सार्थक रचना.....
    खबरनामा की ओर से आभार

    ReplyDelete
  20. सुन्दर सार्थक चर्चा । बेहतरीन लिंक्स ।

    ReplyDelete
  21. ati sundar..behad srijnaatmak samagri ke saath meri rachna ko sthan dene ke liye aadarniya Gafil ji ka bahut bahut abhar..

    ReplyDelete
  22. ःआफ़िल जी आपका बहुत -बहुत आभार!

    ReplyDelete
  23. बहुत ही सुन्दर और बेहतरीन लिंक्स है
    शानदार चर्चा मंच....

    ReplyDelete
  24. bahut achche link mile hain aapki charcha me meri rachna ko shamil karne ke liye haardik aabhar.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।