Followers

Monday, February 27, 2012

तेरे बिन! सोमवारीय चर्चामंच-802

दोस्तों! चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ का आदाब क़ुबूल फ़रमाएं सोमवारीय चर्चामंच पर! पेशे-ख़िदमत है आज की चर्चा का-
 लिंक नं. 1- 
_______________
2-
सुकून चाहता हूँ -निरंन्तर : अभी से ही भाई!
मेरा फोटो
_______________
3-
गिद्ध, मुर्गियां और इंसान जो न कह सके सुनील दीपक जी
मेरा फोटो
_______________
4-
होली लेकर फागुन आया : डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’
उच्चारण
_______________
5-
माँ मुस्कुराती है जब संगीता जी गुनगुनाती हैं
_______________
6-
"मोह की झफ्फी" बिल्कुल फ्री डॉ. हरदीप कौर सन्धू जी की जानिब से
शब्दों का उजाला
_______________
7-
ऋतुराज को आना पड़ा है आख़िर नवीन सी चतुर्वेदी जी ने जो बुलाया ठाले बैठे
मेरा फोटो
_______________
8-
आश्रम के नियमों का उल्लंघन यह है प्रेरक प्रसंग-25
मेरा फोटो
_______________
9-
भारतीय काव्यशास्त्र-101 -आचार्य परशुराम राय
_______________
10-
यादों को विस्मृत कर देना बहुत कठिन है महेन्द्र वर्मा जी के लिए
My Photo
_______________
11-
कुछ कहना है मेरे अरुण भैया!
_______________
12-
आयो रे बसन्त चहुँ ओर बेचैन आत्मा हो गयी
मेरा फोटो
_______________
13-
चीनी और नमक दोनों खाएं कम-कम : स्वास्थ्य सबके लिए
मेरा फोटो
_______________
14-
_______________
15-
हसरतें : ऊँचे ओहदे पर बैठी वह! -डॉ. अलका सिंह
My Photo
_______________
16-
काव्यांजलि की चिंगारी
_______________
17-
हुस्न की बात धीरेन्द्र जी के साथ
_______________
18-
_______________
19-
चलो चलें माँ : एक लघु कथा साधना वैद्य की
_______________
20-
नवगीतिका प्रस्तुत कर रहे हैं वेदव्यथित जी
मेरा फोटो
_______________
21-
वो टूटता तारा -कविता विकास
My Photo
_______________
22-
अनुशील पर अन्तराल
मेरा फोटो
_______________
23-
सलामती की चाहत है निवेदिता जी को
मेरा फोटो
________________
24-
मेरा फोटो
________________
25-
जाले पर चुहुल कर रहे हैं पुरुषोत्तम पाण्डेय जी
मेरा फोटो
________________
26-
क्यूँ करूँ? -रश्मि प्रभा
________________
27-
तेरे बिन! -मीनाक्षी पन्त
________________
28-
उसने कहा था हे महाजीवन!
My Photo
________________
29-
________________
और अन्त में
30-
ग़ाफ़िल की अमानत
________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

26 comments:

  1. सार्थक प्रयास, आभार

    ReplyDelete
  2. क्या बात है --
    चुन-चुन कर लाये हैं लिंक -
    उत्तम-उत्कृष्ट ||

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत चर्चा।
    मेरी गीतिका सम्मिलित करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर सार्थक चर्चा...

    ReplyDelete
  5. बहुत सार्थक लिंक्स का चयन किया है गाफिल जी ! मेरी लघु कथा को भी इसमें स्थान दिया आभारी हूँ !

    ReplyDelete
  6. बढिया चर्चा।
    बेहतर प्रस्‍तुतिकरण-लिंक्‍स।
    मेरी पोस्‍ट ''लाल क्रान्ति के लिए दो अपने लाल'' को शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर चर्चा .. और चित्रों के साथ... आपने मुझे इत्तला किया था कि मेरा रचना का लिंक यहाँ होगा ..लेकिन शायद आप भूल गए :)) .. फिर भी आपने मेरी पोस्ट का चयन किया था ..आपका सादर शुक्रिया...

    ReplyDelete
  8. सर्वगुणसंपन्न, सभी रसों से भरपूर आपका ये कलेक्सन बहुत सुरुचिपूर्ण है. गाफिल जी को हार्दिक धन्य्वाद्द.

    ReplyDelete
  9. सार्थक चर्चा..
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
  10. bahut sundar charch...koshish karungi sab padh pau...

    ReplyDelete
  11. उत्तम-उत्कृष्ट मनमोहक लिंक्स,मेरी रचनाओं को मंच में स्थान देने के लिए गाफिल जी बहुत२ आभार,..

    ReplyDelete
  12. शुक्रिया चन्द्र भूषण जी ............... बहुत बहुत आभारी हूँ इस चर्चा मंच तक लाने के लिये ............आज सबको पढ रही हूँ . समयाभाव के कारण पिछले अंक पढ नहीं पायी थी

    ReplyDelete
  13. सार्थक चर्चा.......
    मेरी पोस्‍ट को शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  14. गाफ़िल साहब धन्यवाद ! आपके द्वारा चुनी लिंक्स को सहेज लिया है। फुर्सत से शाम को पढ़ूँगा।

    ReplyDelete
  15. सुव्यवस्थित चर्चा.

    ReplyDelete
  16. अच्छी चर्चा...
    सादर आभार.

    ReplyDelete
  17. मैं तो दंग हूं, बड़ी मेहनत करते हैं आप एक-एक अंक के पीछे।

    ReplyDelete
  18. उत्कृष्ट मनमोहक लिंक्स,मेरी रचना को मंच में स्थान देने के लिए गाफिल जी बहुत आभार|

    ReplyDelete
  19. आप सबका बहुत-बहुत आभार और धन्यवाद चर्चामंच तक आने का और हमें प्रोत्साहित करने का

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...