Followers

Wednesday, February 29, 2012

" ये "सेक्सी" क्या होता है " चर्चामंच ८०४ :

माफ कीजिये मित्रों थोड़ी व्यस्तता के चलते मै आजकी चर्चा दो बार में लगा रहा हूँ . 
शुरुवात करेंगे शाश्त्री  जी की रचना  निर्वाचन का दौर से , सुनने में आया है एक महिला ने सेक्सी की परिभाषा दी है , आईये  जाने दवे जी के विचार की चांदनी  रात में   "सेक्सी"  और प्यार के लड़ाई में  किसकी  भावनाएं  आहात होती है और दोषी कौन . 


डिप्टीगंज के भोला   हिंदु को   रहमत चाचा  के घोड़े से माफ़ी  किस गलती पे मांगनी पड़ गयी .
कुछ और भी रोचक लिंक देखें :-

आज के लिए इतना ही . 
धन्यवाद!
आपका-
कमल सिंह "नारद"

15 comments:

  1. व्यस्तता में भी चर्चा करने के लिए आपका धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. व्यस्तता में भी सार्थक लिंक धन्यवाद आभार

    ReplyDelete
  3. sankshipt hi kya kahoon ye to ati sankshipt charcha hai.samay ko dekhte hue shandar.narayan.narayan.

    ReplyDelete
  4. sarthak charcha .achchhe links .aabhar .

    ReplyDelete
  5. संक्षिप्त और सुन्दर चर्चा .

    ReplyDelete
  6. संक्षिप पर सुन्दर चर्चा.

    ReplyDelete
  7. सुंदर सार्थक लिंक संयोजन के लिए कमलजी बधाई.

    MY NEW POST...काव्यान्जलि ...होली में...

    ReplyDelete
  8. meree rachnaa ko sthaan dene ke liye dhanywaad

    ReplyDelete
  9. स्तरीय और रोचक सूत्र

    ReplyDelete
  10. संक्षिप्‍त पर बढिया चर्चा।

    ReplyDelete
  11. समय पर न आ सकने कि माफ़ी चाहती हूँ मेरी रचना को पसंद करने और सम्मान देते रहने का मैं आप सभी मित्रगण का तहे दिल दिल से शुक्रगुजार हू |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।