Followers

Tuesday, February 14, 2012

आ गया प्‍यार का मौसम - चर्चामंच-789

वेलेन्‍टाईन डे ......यानि प्‍यार के इजहार का दिन। हर जगह प्‍यार की खुमारी  है। पिछले कुछ  सालों से मीडिया ने इस दिन को ऐसा कर दिया है, कि हर कोई इस दिन की खुमारी में नजर आता है। बाजार....घर......टेलीविजन सीरियल्‍स.... सब डूबे हैं 14 फरवरी के इस त्‍यौहार में। ... सब डूबे हैं तो फिर ब्‍लाग जगत क्‍यों अछूता रहे.... यहां भी इस दिन की खुमारी सिर चढकर बोल रही है........ तो फिर देर किस बात की... चलिए सैर  करते हैं प्‍यार के रस में डूबी ब्‍लाग पोस्‍टों की ओर.......... 























आखिर में प्रेम दिवस पर मेरे ब्‍लाग में पिछले साल पोस्‍ट की गई प्रेम की यह अभिव्‍यक्ति....... 


अब दीजिए अतुल श्रीवास्‍तव  को इजाजत। मुलाकात होगी अगले मंगलवार.... पर चर्चा जारी रहेगी पूरे सातों दिन....... । 
नमस्‍कार! 


30 comments:

  1. इतने लोग यह दिवस मनाने को उकसा रहे हेज तो मना ही डालेंगे.
    चर्चा के लिए आभार.
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  2. chaliye pata to chala ki इतने ढेर सारे लोग हमारे जैसी सोच वाले हैं

    ReplyDelete
  3. अच्छी रही आज की चर्चा अतुल जी |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    रश्मी जी को जन्म दिन पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  4. अच्छी रही आज की चर्चा अतुल जी |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    रश्मी जी को जन्म दिन पर हार्दिक शुभ कामनाएं |

    ReplyDelete
  5. आदरणीय रश्मि जी को जन्म दिन पर हार्दिक शुभ कामनाएं ||

    ReplyDelete
  6. अतुल जी बेहतरीन चर्चा और रूमानी लिंक्स के लिए शुक्रिया...

    हमारी पोस्ट को मान देने के लिए आपका बहुत आभार..

    आप सभी का दिन शुभ हो....

    शुक्रिया.

    ReplyDelete
  7. संतुलित ,संयमित प्यार पगे मनमोहक सृजन एक पुष्प गुच्छ में सजे सुन्दर लगे ..... बहुत सुन्दर संकलन बधाईयाँ जी

    ReplyDelete
  8. बहुत उम्दा!
    प्रेमदिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  9. अतुल जी,
    चर्चा मंच में मेरी रचना शामिल करने के लिये बहुत बहुत आभार आपका !
    सभी उम्दा पोस्ट लग रहे है जरुर पढने की कोशीश करूंगी !

    ReplyDelete
  10. Nice post.
    http://blogkikhabren.blogspot.com/2012/02/30-sun-spirit.html

    ReplyDelete
  11. गली-गली है चर्चा..प्रेम की..

    ReplyDelete
  12. mai har baar charchamanch par der se aa pati hun , hamare taraf barish ho rahi jis karan net sath nahi de raha . bahut -bahut aabhar prem diwas par prem rachna ko shamil karne ke liye........

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन चर्चा शुक्रिया...

    ReplyDelete
  14. वैलेन्टाइन डे पर बहुत सुंदर प्रेममयी चर्चा...मेरी रचना को शामिल करने के लिये आभार...

    ReplyDelete
  15. बेहतरीन चर्चा मंच
    सभी लिंक्स बहुत ही सुन्दर है ,
    प्रेम दिवस पर सुन्दर प्रस्तुति...
    मेरी रचना को चर्चा मंच पर सम्मिलित करने के योग्य समझा ...
    आपका आभार :-)

    ReplyDelete
  16. pyar hi pyar besumar.....
    sundar prempagi links ke sath sundar charcha prastuti hetu aabhar!

    ReplyDelete
  17. mere dusht badlon ko pyar ke mausam mein jagah dene ke liye abhaar

    sprem

    naaz

    ReplyDelete
  18. मै तो खो गया था, अब राह नजर आयी..
    लंबे अरसे में मेरे घर को मेरी याद आयी..
    दिखा मेरा चेहरा आज चर्चा मंच पर ..
    तब कही मेरे चेहरे ने पहचान पाई..

    धन्यवाद अतुल जी मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए

    ReplyDelete
  19. सुंदर चर्चा,मेरी रचना को शामिल करने के लिये आभार

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर प्रस्तुति ...अच्छा संकलन,...

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    ReplyDelete
  21. bhut hi khubsurat pyar se bhari charcha manch lagaayi hai apne.... meri rachna ko samil karne ke liye bhaut-bhaut dhanywaad.....

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...