समर्थक

Thursday, February 16, 2012

चित्र बोलते हैं ( चर्चा मंच - 791 )


आज की मूक चर्चा में आपका स्वागत है ।

मूक चर्चाएँ पहले भी हुई है , सोचा मैं भी इस प्रयोग को करके देखूं , तो लिंक हैं चित्र पर कीजिए चित्र पर क्लिक और पहुँचिए पोस्ट पर 

* * * * *
* * * * *
* * * * *
मेरा फोटो
* * * * *
* * * * *
* * * * *
* * * * *
मेरा फोटो
* * * * *
* * * * *
* * * * *
मेरा फोटो
* * * * *
* * * * *
मेरा फोटो
* * * * *
मेरा फोटो
* * * * *
* * * * *
* * * * *
* * * * *
* * * * *
* * * * * 
मेरा फोटो
* * * * *
* * * * *
मेरा फोटो
* * * * *
* * * * *
मेरा फोटो
* * * * *
Brajesh Kumar
* * * * *
* * * * *
धन्यवाद 

* * * * *

31 comments:

  1. नया प्रयोग, शब्दहीन पर अर्थपूर्ण...

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर और स्तरीय चर्चा!
    मगर यह मूक नहीं है इसमें तो चित्र ही सब कुछ बोल रहे हैं।।
    आभार!

    ReplyDelete
  3. ऊपर से तीसरे नम्बर के चित्र पर लिंक लगने से रह गया है!
    कृपया इस पर लिंक लगा दीजिए।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर लिनक्स का संयोजन ..
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चित्रमय झांकी !

    ReplyDelete
  6. अच्छी चर्चा अच्छे लिंक्स.

    ReplyDelete
  7. :)

    ♥ http://commentsgarden.blogspot.com/2012/02/naturopathy-in-india.html

    ReplyDelete
  8. दिलबाग जी, चर्चामंच मेरी रचना को स्थान देने के लिए बहुत२ आभार,....चित्रों के साथ लिंकों प्रयोग अच्छा लगा,....
    बहुत अच्छी प्रस्तुति,

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    ReplyDelete
  9. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  10. bahut badhiya dilbag ji ..... rachna ko charch amanch me sthan dene ke liye hardik aabhar

    ReplyDelete
  11. वाह, शब्द मौन हैं तो क्या चित्रों की अपनी भाषा है ;पढ़ कर समझ लेंगे लोग - प्रयोग नया है विषय-वस्तु भी चुनिन्दा .आभार आपका !

    ReplyDelete
  12. पता नहीं क्यों मेरे (तीसरे नंबर के ) ब्लॉग के चित्र पर क्लिक करने पर ब्लॉग नहीं खुल रहा है..
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
  13. दिलबाग जी, चर्चामंच पर मेरी रचना को शामिल करने के लिए धन्‍यवाद।

    ReplyDelete
  14. ye andaaz bhi khoob pasand aaya...............

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर चित्रंमयी चर्चा

    ReplyDelete
  16. प्रयोग मौन ... लिंक्स जानदार

    ReplyDelete
  17. bahut sundar bolte links se saji charcha prastuti ke liye dhanyavad..

    ReplyDelete
  18. मूक होकर भी मुखर चर्चा...सुंदर लिंक्स.हाइगा को शामिल करने के लिए आभार|

    ReplyDelete
  19. ऋतु जी असुविधा के लिए खेद है

    देर से ही सही गलती सुधार ली गई है

    आभार

    ReplyDelete
  20. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  21. नयी तरह की प्रस्तुति...
    चित्रों की खूबसूरत प्रदर्शनी..
    हर चित्र कुछ अलग से ज़ज्बात बयाँ करता सा....
    बहुत .खूबसूरत अंदाज़.....

    ReplyDelete
  22. नयी तरह की प्रस्तुति...
    चित्रों की खूबसूरत प्रदर्शनी..
    हर चित्र कुछ अलग से ज़ज्बात बयाँ करता सा....
    बहुत .खूबसूरत अंदाज़.....

    ReplyDelete
  23. क्लिक करो तो जानों.......
    काफी पहले एक फिल्‍म आई थी पुष्‍पक, इस मूक फिल्‍म की तरह यह मूक चर्चा भी शानदार।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin