चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, February 20, 2012

दर्द आख़िर दर्द है (सोमवारीय चर्चामंच-795)

ग़ाफ़िल की जानिब से आप सबको नमस्कार! 
दोस्तों पेशेख़िदमत है आज की चर्चा का
मेरा फोटो
_______________
1-
खुदा! खैर हो -दिलबाग विर्क
बेसुरम्‌

_______________
2-

_______________
3-
माँगन मरण समान है - नयुग के भिखारी

________My Photo_______
4-
संवेदनाएं मरने लगी हैं ....

________मेरा फोटो_______
5-
सीमांत सोहल जी की नज़र से ............

________My Photo_______
6-
वादा

_______________
7-
मुहब्बत का सबब

_______मेरा फोटो________
8-
कुछ हाइकू

_______________
9-
जिन्दगी तस्वीर या तकदीर.....??

_______मेरा फोटो________
10-
पेड़ की किसी शाख पर कौंधती 
बिजली की तरह जिंदगी

_______________
11-
झोपड़ियों का वेलेंटाइन ....

_______My Photo________
12-
बस...एक दिन 

_______________
13-
वैवाहिक जीवन की सफलता के सात सूत्र 

_______My Photo________
14-
मुसीबत 

_______________
15-
त्रिकोण का विभत्स कोण

_______________
16-
कवि 

_______________
17-
योग्यता की संकल्पना 
( concept of ability )

_______________
18-

अल्बर्ट पिंटो को 

इतना गुस्सा क्यों आ रहा है ! ! ! 

_______My Photo________
19-
जापानी बसंत 

_______________
20-
उपवास 

_______My Photo________
21-
ये इश्क और मेरा आवारापन 

_______________
22-
मुक़ाबला ख़ुद से होना चाहिए... 

_______My Photo________
23-
नीयत में खोंट ! 

_______________
24-
"हर-हर, बम-बम गाओ" 
______________
25-
कार्टून:- मतदान कर आए क्या ? -

27 comments:

  1. सुन्दर चित्र और सुन्दर लिंक ....क्या बात है ॥ मोती खोजना भी आसान काम नहीं

    ReplyDelete
  2. सादी, चित्रमयी और संतुलित चर्चा।

    ReplyDelete
  3. सर्व प्रथम महा शिवरात्रि की मंगल कामनाएं. अच्छे लिंक्स, अभी तो पूरा पढ़ा नहीं क्वाल देख रहा हूँ. लेकिन अवलोकन से ही लग रहा है श्रम और समय दोनों का उपयोग किया है आपने. मेरी रचना को सम्मिलित करने और अपने मंच पर स्थान देने हेतु आभार. अब तो आदत ऐसी हो गयी है कि दिन में दो तीन बार नेट पर बैठे बिना मन नहीं मानता.

    ReplyDelete
  4. khoobsurat chitron ke saath khoobsurat charcha ....vaah gafil ji

    ReplyDelete
  5. चर्चामंच' की चर्चा ही बेमिसाल है...!
    दादू! आपको धन्यवाद है.....!!

    सारे लिंक्स बेहतरीन...

    ReplyDelete
  6. गाफिल जी बहुत सुंदर चित्रों से सुसज्जित चर्चा और बहुत ही सुंदर लिंक्स प्रस्तुत किये हैं आपने शिवरात्रि के दिन. मेरी रचना को चर्चा में शामिल करने के लिये धन्यबाद.

    सभी पाठकों को, आपको और शाश्त्री जी को शिवरात्रि की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  7. अच्छी चर्चा सर..
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका आभार.

    शुक्रिया.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर लिंक संयोजन ………सार्थक चर्चा

    ReplyDelete
  9. कार्टून को भी चर्चा में शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  10. सुन्दर सूत्र सजाये हैं आपने..

    ReplyDelete
  11. गाफिल जी ..शिवरात्रि की शुभ कामनाये ! सभी लिंक सुसज्जित और अथक परिश्रम के परिणाम है ! सभी को पढ़ रहा हूँ ! आभार

    ReplyDelete
  12. शुक्रिया!
    महाशिवरात्रि की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  13. सुन्दर चित्रमयी चर्चा.

    ReplyDelete
  14. अच्छे सूत्र.... बढ़िया चर्चा...
    सादर आभार..

    ReplyDelete
  15. बढ़िया चर्चा ...
    आभार ..

    ReplyDelete
  16. गाफिल जी,..बहुत अच्छी प्रस्तुति, बढ़िया सूत्र
    शिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें!

    MY NEW POST ...सम्बोधन...

    ReplyDelete
  17. बढिया चर्चा।
    बेहतर लिंक्‍स।

    ReplyDelete
  18. शुक्रिया ....

    मेरे लिए तो काफी नए चेहरे हैं यहाँ .....

    देखती हूँ ....

    ReplyDelete
  19. खूबसूरत चित्रमयी चर्चा ।
    शिवरात्रि की शुभकामनायें जी ।

    ReplyDelete
  20. har ek ki kavita ko achi tarah se promote kia hai... nice... :)

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin