चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Tuesday, August 21, 2012

मंगलवारीय चर्चा (978)--चल उठा कलम कुछ ऐसा लिख

आज की मंगलवारीय चर्चा में राजेश कुमारी का आप सब मित्रों को नमस्कार आप सब का दिन मंगल मय हो |
अब चलते हैं आपके सुन्दर सुन्दर ब्लोग्स पर ------
हमारे पुरखों ने
बरगद का एक पेड़ लगाया था,
आदर्शों के ऊँचे चबूतरे पर,
इसको सजाया था।
कुछ ही समय में,
यह देने लगा शीतल छाया,
परन्तु हमको,
यह फूटी आँख भी नही भाया...

ईद का सूरज - ईद का चाँद तो नहीं देख पाया ईद का सूरज देखा लगा जैसे कह रहा हो ईद मुबारकउगते-उगते छा गया हर तरफ जर्रे-जर्रे को करने लगा रौशन चहकने लगे पंछी सुनहरा हो...
-----------------------------------------------------------------------------------
ईद मुबारक ईद और उम्मीद जगी रहे कुछ तो 
-----------------------------------------------------------------------------------

-----------------------------------------------------------------------------------

हौसला रख - आँसुओं की इस 
-----------------------------------------------------------------------------------

-----------------------------------------------------------------------------------


----------------------------------------------------------------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
कुछ सुहाने पल (चोका) *डॉ जेन्नी शबनम* *मुट्ठी 
----------------------------------------------------------------------------------                                अशोकनामा
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

----------------------------------------------------------------------------------- 
राह पकड़ तू चल अनवरत राह पकड़ तू चल अनव
---------------------------------------------------------------------------------
देखो चाँद आया * मेरे सारे ब्लोगर्स साथियों को 
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

---------------------------------------------------------------------------------
अब तक पता नहीं था अब तक पता नहीं था चुप र
----------------------------------------------------------------------------------
                                                                                                *साधना*
कबीर के श्लोक - ११० *कबीर जो मै चितवऊ ना 
-----------------------------------------------------------------------------------


हमारे बुजुर्ग और हम, समाज को आईना दिखाते शब्द
यहाँ मेरी कवितायें भी और अन्य कवियों के साथ सुनिए अभिषेक ओझा और शेफाली गुप्ता की मधुर वाणी में  
शब्दों की चाक पर - एपिसोड 11 /
radioplaybackindia.blogspot.in/
2012/08/poems-on-theme-hamare-bujurg-aur-hum.html 
-----------------------------------------------------------------------------------

 AlbelaKhatri.com at Albelakhatri.com - i

------------------------------------------------------------------------


---------------------------------------------------------------


      रविकर फैजाबादी at नीम-निम्बौरी 
-------------------------------------------------------------
 by Maheshwari kaneri at अभिव्यंजना -

------------------------------------------------------------------



सतीश सक्सेना at मेरे गीत
---------------------------------------------------------------------
 Mridula Harshvardhan at अभिव्यक्ति 

------------------------------------------------------------------

इसके साथ ही आज की चर्चा समाप्त करती हूँ शुभ विदा बाय- बाय फिर मिलूंगी
***************************************************************  

60 comments:

  1. बहुत अच्छे लिनक्स मिले..... चर्चा में शामिल करने का आभार

    ReplyDelete
  2. सुसज्जित चर्चा...आभार !!

    ReplyDelete
  3. नए रंग लिए चर्चा |
    आशा

    ReplyDelete
  4. सुप्रभात..आपका दिन मंगलमय हों...!
    बहुत सुन्दर लिंकों का चयन किया है आपने आज की चर्चा में!
    आभार!

    ReplyDelete
  5. बहुत कुछ है पढ़ने को...देखतीं हूँ सभी लिंक सिलसिलेवार....
    आभारी हूँ..

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. कई नये सूत्रों से पहचान हुयी..

    ReplyDelete
  7. सुन्दर लिंक्स...
    मुझे शामिल करने के लिए आभार,राजेश कुमारी जी.

    ReplyDelete
  8. बाली साहब आपने कबीर के पदों की व्याख्या करके बड़ा उपकार किया है ,कबीर की साखियाँ कई और चिठ्ठों पर भी प्रकाशित हैं लेकिन वहां व्याख्या पढने को नहीं मिलती हमारे बार बार आग्रह करने पर भी ऐसा नहीं हुआ .आपकी इतनी सरल सहज मनोहर सर्व -ग्राही व्याख्या को पढके मन गद गद हो गया .आभार आपका . *साधना*
    कबीर के श्लोक - ११० - *कबीर जो मै चितवऊ ना कृपया यहाँ भी पधारें -
    मंगलवार, 21 अगस्त 2012
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए

    ReplyDelete
  9. thoughts...डा श्याम गुप्त का चिट्ठा.. -
    बहुत खूब लिख है
    उस पर जोशी जी ने
    सच सच कहा है
    रोने गाने से क्या लाभ !

    ReplyDelete
  10. एक आलेख उनके नाम ही सही ....
    by रश्मि प्रभा... at मेरी भावनायें... -

    गजब लिख दिया
    देखो सब लिख दिया
    क्या क्या लिख दिया
    बहुत अच्छा लिख दिया
    कुछ उसका लिख दिया
    थोड़ा मेरा भी लिख दिया
    मैने तो बस आभार लिख दिया !

    ReplyDelete
  11. ''ईद मुबारक ''


    शिखा कौशिक 'नूतन ' at भारतीय नारी

    ईद की शुभकामनाऎं !

    ReplyDelete
  12. सोनी चर्चा ....विभिन्न रंगों में सजा चर्चा मंच पसंद आया ...शुभकामनायें जी

    ReplyDelete
  13. कई नए लिंक्स से परिचित कराया आपने महोदया - आपका आभार - साथ ही एक सुसज्जित चर्चा

    ReplyDelete
  14. अपने एहसासों अनुभूतियों को आपने कलम की ऊंची परवाज़ दी ,उपकृत हुए पढ़कर .शुक्रिया इस बिंदास अंदाज़ के लिए .

    एक आलेख उनके नाम ही सही ....
    by रश्मि प्रभा... at मेरी भावनायें... - कृपया यहाँ भी पधारें -
    मंगलवार, 21 अगस्त 2012
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए

    ReplyDelete
  15. एक तरफ हिन्दुस्तान और दूसरी तरफ घर का बुजुर्ग बरगद का रूपक दोनों को रूपायित कर गया , हमने काट डाली,
    इसकी एक बड़ी साख,
    और अपने नापाक इरादों से,
    बना डाला एक पाक।
    हम अब भी लगे हैं,
    इस वृक्ष को काटने में,बाज़ नहीं आते आज भी क्षेत्र वाद के बाज़ ,काट रहें हैं शाख पे शाख ,बेंगलूर में कबूतर उड़ा रहें हैं कभी असम में ये बाज़ ....बढ़िया प्रस्तुति शास्त्री जी की .यहाँ "साख "तो ब्रांच (शाखा )के सन्दर्भ में है न की रेप्युटेशन के ,कवि को बेहतर मालूम है हमें तो सिर्फ जिज्ञासा है
    "बरगद का पेड़" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक').कृपया यहाँ भी पधारें -
    ram ram bhai
    सोमवार, 20 अगस्त 2012
    सर्दी -जुकाम ,फ्ल्यू से बचाव के लिए भी काइरोप्रेक्टिक

    ReplyDelete

  16. रिश्तों की क्यारी....नागफनियों के जंगल
    Mridula Harshvardhan at अभिव्यक्ति -
    बहुत खूबसूरती से
    अभिव्यक्त किया है
    रिश्तों की क्यारी है
    फूलों की बारी है
    पर काँटा उग गया है
    सब कुछ ढक गया है !

    ReplyDelete
  17. चल उठा कलम कुछ ऐसा लिख -सतीश सक्सेना

    सतीश सक्सेना at मेरे गीत
    चल उठा कलम कुछ ऐसा लिख,
    जिससे घर का सम्मान बढ़े ,
    कुछ कागज काले कर ऐसे,
    जिससे आपस में प्यार बढ़े

    काश सारे कागज कलम
    आपके हाथ आ जायें
    काले सफेद सब जितने हैं
    इंद्र्धनुष बन बिखर जायें !

    बहुत सुंदर रचना !

    ReplyDelete
  18. डॉ .श्याम गुप्त जिन परिवारों में मैड्स भी हैं वहां भी एक हेड मैड की ज़रुरत आजकल बनी रहती है जो बच्चों की नानी पूरी करती है .बहुएँ(लडकियां )अब अपने माँ बाप को ही रखके खुश रहतीं हैं सास स्वसुर को नहीं भारतीय पतियों का संचालन आजकल बहुलांश में पत्नियों के ही हाथों में शोभा पाता है
    Dr. shyam gupta at श्याम स्मृति..The world of my

    thoughts...डा श्याम गुप्त का चिट्ठा.. - .. कृपया यहाँ भी पधारें -
    मंगलवार, 21 अगस्त 2012
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए

    ReplyDelete
  19. ये जहर उगलते लोग तुम्हे
    आपस में, मरवा डालेंगे !
    ना हिन्दू हैं,ना मुसलमान
    ये मानवता के दुश्मन हैं !
    पहचान करो शैतानों की, जो हम दोनों के बीच रहें !
    तू आँख खोल पहचान इन्हें,जयचंद बहुत दिख जायेंगे !कौमी तराना लेकर आएं हैं सतीश भाई ,प्रतीक कोई "मीर जाफर" का भी बुरा नहीं हमारी कौमों के नासू र हैं ये जय चंद ..इन्हीं के बारे में कहा गया "घर का भेदी लंका ढावे",फिर मुखर हुए राष्ट्री स्वर ,दुन्दुभी वजाई लेखनी ने आपकी ,मुबारक .
    चल उठा कलम कुछ ऐसा लिख -सतीश सक्सेना

    सतीश सक्सेना at मेरे गीत कृपया यहाँ भी पधारें -
    मंगलवार, 21 अगस्त 2012
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए

    ReplyDelete
  20. हमारे बुजुर्ग..

    by Maheshwari kaneri at अभिव्यंजना -
    बहुत सुंदर !

    बुढा़पा कहाँ बोझ होता है
    जिसके लिये होता है
    उसे कहाँ पता होता है
    वो बिना छत के एक
    मकान के नीचे रहता है !

    ReplyDelete
  21. रिश्तों की क्यारी में गलत फ़हमी और एहम के शूल ,मैं मैं के त्रिशूल ..बढ़िया प्रस्तुति है "रिश्तों की क्यारी में उग आया ,नागफनी का जंगल ,.....हर तरफ हुआ अमंगल .रिश्तों की क्यारी....नागफनियों के जंगल



    Mridula Harshvardhan at अभिव्यक्ति - कृपया यहाँ भी पधारें -
    मंगलवार, 21 अगस्त 2012
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए

    ReplyDelete
  22. सब का अपना पाथेय पंथ एकाकी है ,
    अब होश हुआ ,जब इने गिने दिन बाकी हैं .
    एक सक्रीय होबी आपको ज़िंदा रखती है ताउम्र ,अलबत्ता आप आर्थिक रूप से पर तंत्र न हों ,ये ज़रूरी है .आये हो तो कुछ देकर जाओ ,पर -मुख -अपेक्षी क्यों ?हमारे बुजुर्ग..

    by Maheshwari kaneri at अभिव्यंजना -

    ReplyDelete
  23. दोनों रोकें गोल, खेल फिर कौन जिताई-

    रविकर फैजाबादी at नीम-निम्बौरी -

    वाह !
    क्या कछुवा दौड़ाया है
    खरोगोश को फिर से रुलाया है !

    ReplyDelete
  24. Kunwar Kusumesh
    दुनिया ख़ुशी से झूम रही है मना ले ईद - *देखा है

    बहुत खूब !
    हिला ले ईद
    देर में समझ में आया
    जब नीचे से लिखा हुआ
    अर्थ उसका नजर आया !

    ReplyDelete
  25. विस्तृत फलक बड़े कैनवास पे छा रहें हैं ,रविकर जी ,मन भा रहें हैं . .-----------------------------
    दिनेश की दिल्लगी, दिल की सगी

    मिले सेवैंयाँ आज खुब, बस नमाज हो जाय- - "ईद". कृपया यहाँ भी पधारें -
    मंगलवार, 21 अगस्त 2012
    सशक्त (त'गड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए

    ReplyDelete
  26. बेटियां जो आँगन की रंगोली हैं
    बेटियां जो दीवाली और होली हैं
    किस ने आज फिर अपने बदजात होने की पोल खोली है .
    .....?
    ढेर में कूड़े के अपने ही खून से खेली होली है .....ये कैसी आँख मिचौली है ....
    परवाज़...शब्दों के पंख

    कूड़ेदान में मिलती बेटियां -

    ReplyDelete

  27. कबीरा खडा़ बाज़ार में
    सर्दी -जुकाम ,फ्ल्यू से बचाव के लिए भी है काइरोप्रेक्टिक -

    बहुत सुंदर !
    वीरू भाई आये हैं
    जुखाम की शामत
    आज ले के आये हैं !

    ReplyDelete
  28. .देखा है आसमान पे जबसे हिलाले-ईद.

    दुनिया ख़ुशी से झूम रही है मना ले ईद.

    दिल को लुभा लिया है मेरे चाँद-रात ने,

    आ जा कि रूह रूह में तू भी बसा ले ईद....सुंदर भाव गज़लिका Kunwar Kusumesh
    दुनिया ख़ुशी से झूम रही है मना ले ईद - *देखा है
    -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------

    ReplyDelete
  29. मनोज
    चौखटों को फूल क्या भेजें -
    श्यामनारायण मिश्र जी का हर मोती सहेजने लायक है !
    आभार !

    ReplyDelete
  30. दिनेश की दिल्लगी, दिल की सगी
    मिले सेवैंयाँ आज खुब, बस नमाज हो जाय- - "ईद

    बहुत सुंदर !
    हो गयी है नमाज अमन से
    सैवईंया भी खा लिये मन से !
    ईद मुबारक !

    ReplyDelete

  31. My Image
    "बरगद का पेड़" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
    जीते हैं हम आजकल, टुकड़े टुकड़े टूट |
    थी अखंड गुजरी सदी, मची लूट पर लूट |

    मची लूट पर लूट, कूटनीतिज्ञ लूटते |
    मियाँमार सीलोन, सिन्धु बंगाल टूटते |

    हरा भरा संसार, हराया अपनों ने ही |
    नेही था घरबार, काटते पावन देहीं ||

    ReplyDelete
  32. बेचैन आत्मा
    बहुत सुंदर सुंदर चित्र है
    ईद है चाँद है सूरज है
    चैन ही चैन है
    फिर कौन बैचेन है !

    ReplyDelete
  33. इस एक शब्द सेकुलर ने जितना अहित इस भारत भू का किया है इसका एक ही समाधान है इस शब्द को ज़मीन पे लिखकर जूता -पात किया जाए .ये सारा किया धरा इन सेकुलर भाकुवों का ही है संविधान जिनकी रखैल है ,हज जिनके लिए सब्सिडी है ,शाह -बानों बेवा आँख का रोड़ा है ,....इनके एजेंट लालू और मुलायम अली देश का एक बंटवारा और करवाना चाहतें हैं तभी देश में दो कम्पार्टमेंट की बात करतें हैं एक सेकुलर दूसरा कम्युनल .काव्य का संसार

    JAGO HINDU JAGO: ईद कहो या बकरईद मकसद तो एक ही है---

    हिंसा---कत्लोगा... - . कृपया यहाँ भी पधारें -
    मंगलवार, 21 अगस्त 2012
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए
    सशक्त (तगड़ा )और तंदरुस्त परिवार रहिए

    ReplyDelete
  34. "बरगद का पेड़" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
    बहुत सुंदर !
    फिर भी बरगद तो बरगद है !

    ReplyDelete
  35. एक आलेख उनके नाम ही सही ....
    by रश्मि प्रभा... at मेरी भावनायें... -
    अकेले चले थे हम कदम दर कदम हाथ जुड़ते गए कारवाँ बनता गया वहीँ किसी पड़ाव पर हम भी साथ हो लिए

    ReplyDelete
  36. सुन्दर लिंक्स...
    मुझे शामिल करने के लिए आभार,राजेश कुमारी जी.

    ReplyDelete
  37. बढिया वार्ता
    अच्छे लिंक्स

    ReplyDelete
  38. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स ... बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  39. कूड़ेदान में मिलती बेटियाँ,,,,

    बेटियां समाज की धडकन होती है
    दो कुलों के बीच रिश्ता जोड़कर-
    घर बसाती है
    माँ बनकर इंसानी रिश्तों की,
    भावनाओ से जुडना सिखाती है
    पर तुमने-?
    पर जमने से पहले ही काट डाला
    शरीर में जान-?
    पड़ने से पहले ही मार डाला,
    आश्चर्य है.?
    खुद को खुदा कहने लगे हो
    प्रकृति और ईश्वर से
    बड़ा समझने लगे हो
    तुम्हारे पास नहीं है।
    कोई हमसे बड़ा सबूत,
    हम बेटियां न होती-?
    न होता तुम्हारा वजूद......

    ReplyDelete
  40. सतीश सक्सेना जी पोस्ट पर,,,,

    पहचानो ऐसे लोगो की जो रह कर गद्दारी कर जाते
    कुछ ऐसा हो जाए अगर होली और ईद समझ पाते,,,,,

    ReplyDelete
  41. महेश्वरी कनेरी जी की पोस्ट पर,,,,

    बुजुर्गो को बोझ न समझो,तुम पर भी बुढापा आएगा
    जैसा करोगे मात पिता संग ,वैसा ही फल तू पायेगा,,,

    ReplyDelete
  42. मधुर गुंजन पोस्ट पर,,,,

    ईद मुबारक आपको, रचना देती सन्देश
    भाई चारा बना रहे, स्वर्ग बन जाए देश,,,,

    ReplyDelete
  43. साधना वैध जी की पोस्ट पर,,,,

    हिम्मत गर करे इन्सा ,जीत कर आते है
    हौसला बुलंद था ,तभी ताज बन जाते है,,,,,

    ReplyDelete
  44. सही कहा वीरेंद्र जी ...पत्नी महिमा का ज़माना है तो नानीजी की महिमा अपरम्पार होनी ही चाहिए...

    ReplyDelete
  45. लिन्क साधना...कबीर पर....---
    श्लोक सन्स्क्रित में होते हैं ये कबीर के दोहे हैं...

    ReplyDelete
  46. अच्छे लिनक्स, चर्चा में शामिल करने का आभार

    ReplyDelete
  47. अच्छे लिनक्स,चर्चा में शामिल करने का आभार

    ReplyDelete
  48. बहुत सुन्दर चर्चामंच सजाया है राजेशकुमारी जी ! मेरी रचना को आपने इसमें सम्मिलित किया उसके लिये आपका बहुत-बहुत आभार एवं धन्यवाद !

    ReplyDelete
  49. bahut achchhe links .meri post ko yahan sthan dene hetu aabhar

    ReplyDelete
  50. बहुत अच्छे लिनक्स के साथ विविध रंगों में रंगा चर्चा-मंच | आपका बहुत बहुत धन्यवाद की आपने मेरी रचना को आज के चर्चा -मंच में शामिल किया | आभार |

    ReplyDelete
  51. बहुत सुंदर चर्चा...विविध विषयों पर रोचक लिंक्स..आभार !

    ReplyDelete
  52. आप सभी मित्रों का हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  53. सुन्दर लिंक्स...

    ReplyDelete
  54. chgarchamanch ki kyari mein meri rachna ka phool shamil karne ke liye abhaar

    ReplyDelete
  55. शानदार चर्चा...सुन्दर लिंक्स...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin