Followers

Monday, August 27, 2012

इक बहाना चाहिए (सोमवारीय चर्चामंच-984)

दोस्तों! चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ का नमस्कार! सोमवारीय चर्चामंच पर पेशे-ख़िदमत है आज की चर्चा का-
 लिंक 1- 
_______________
लिंक 2-
My Photo
_______________
लिंक 3-
डरी-डरी सी ज़िन्दगी -रजनीश तिवारी
My Photo
_______________
लिंक 4-
My Photo
_______________
लिंक 5-
इक बहाना चाहिए -श्यामल सुमन
My Photo
_______________
लिंक 6-
ज्ञान हो गया फ़क़ीर -महेन्द्र वर्मा
My Photo
_______________
लिंक 7-
आज जरूरत है धरती में, शौर्य बीज उपजाने की -डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
_______________
लिंक 8-
जब भी चाहें इक नयी सूरत बना लेते हैं लोग -क़तील, प्रस्तोता डॉ.अनवर जमाल
मेरा फोटो
_______________
लिंक 9-
घर और कमरे -डॉ. हरदीप कौर सन्धु
शब्दों का उजाला
_______________
लिंक 10-
मेरा फोटो
_______________
लिंक 11-
निरामिष
_______________
लिंक 12-
ZEAL
_______________
लिंक 13-
भारतीय काव्यशास्त्र–123 -आचार्य परशुराम राय
_______________
लिंक 14-
सरोकार -उदयवीर सिंह
_______________
लिंक 15-
रैली -पुरुषोत्तम पाण्डेय
मेरा फोटो
_______________
लिंक 16-
_______________
लिंक 17-
तन्हा हूँ पर... -डॉ. निशा महाराणा
My Photo
_______________
लिंक 18-
ब्लाग, बागीचा बवाल और बन्दरों की कृपा -बेचैन आत्मा देवेन्द्र पाण्डेय
मेरा फोटो
_______________
लिंक 19-
गर्म रातों में कैसे पाएं सुकून की नींद? -डॉ. जोगा सिंह कैत ‘जोगी’

_______________
लिंक 20-
_______________
और अन्त में
लिंक 21-
ग़ाफ़िल की अमानत
________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

29 comments:

  1. उम्दा लिंक मिले.

    ReplyDelete
  2. कई लिंक्स से सजा बहुआयामीं चर्चा मंच |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  3. ग़ाफ़िल की अमानत

    कलम देखिये कैसे चहक रहीं है
    वहाँ पर जहाँ हर चीज बहक रही है !

    ReplyDelete
  4. काइरोप्रेक्टिक में भी है समाधान साइटिका का -वीरू भाई
    रोज एक मर्ज की दवा बता रहे हैं
    दर्दे दिल का काइरोप्रेक्टिक कब ला रहे हैं !

    ReplyDelete
  5. गर्म रातों में कैसे पाएं सुकून की नींद? -डॉ. जोगा सिंह कैत ‘जोगी’

    नींद भी क्या चीज है जनाब
    कभी ऎसे ही आ जाती है
    कभी वैसे भी आ जाती है
    कभी ना ऎसे आती है
    ना वैसे आती है!

    ReplyDelete
  6. कई रोचक लिंक्स से रु-ब-रु कराया आपने महोदय - एक सार्थक प्रयास आपका - आभार

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    http://www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. ब्लाग, बागीचा बवाल और बन्दरों की कृपा -बेचैन आत्मा देवेन्द्र पाण्डेय

    भैया बंदर वाली पोस्ट पर
    टिप्पणी का औपशन नहीं मिला
    इसलिये उपर की पोस्ट की बधाई
    में नीचे वाली पर लिख चला !

    ReplyDelete
    Replies
    1. अबके लिखो तो दायें-बाएं देख लेना.....

      Delete
  8. रैली -पुरुषोत्तम पाण्डेय
    हम तो सोच रहे थे
    शहीद हो जायेंगे
    मर कर परिवार के
    किसी सदस्य को जितायेंगे
    आपने तो कहानी के अंत में
    नींद से उठा दिया
    नेता जी नहीं मरे हैं अभी
    बता कर भटका दिया !

    ReplyDelete
  9. सरोकार -उदयवीर सिंह
    उदय जी को वहाँ पढ़ के आते हैं
    टिप्पणी यहाँ कर के जाते हैं
    वहाँ जब भी दे के आ रहे हैं
    वापस अपनी मेल में उसे
    लौटा हुआ ही पा रहे हैं !

    बहुत सुंदर सरोकार है !

    ReplyDelete
  10. भारतीय काव्यशास्त्र–123 -आचार्य परशुराम राय
    बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  11. इस फुलवारी की 500वीं पोस्ट और चालीसवां पड़ाव -दिव्या श्रीवास्तव ZEAL

    चालीस और पाँच सौ दोनो की बधाई
    बात कुछ थोड़ी हमारी भी समझ में आई
    फुलवारी लिखा है और झील(जील) भी है
    आदमी होता तो बगीचा लिखता
    और झील की जगह झेल रहा होता !

    ReplyDelete
  12. जब भी चाहें इक नयी सूरत बना लेते हैं लोग -क़तील, प्रस्तोता डॉ.अनवर जमाल
    कुछ लोग पुरानी सूरत से काम चला लेते हैं
    नयी सूरत को किराये पर चढा़ देते हैं !

    ReplyDelete
  13. आज जरूरत है धरती में, शौर्य बीज उपजाने की -डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
    बहुत सुंदर !
    जैनेटिकेली मौडीफाईड बीज बना ले जायेगा
    आदमी के दिमाग में अगर आ जायेगा !

    ReplyDelete
  14. सजी-धजी चर्चा।
    मुझे शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  15. बहुत प्यारे लिनक्स सजाये हैं आपने.

    शुक्रिया.

    ReplyDelete
  16. Great links Gafil ji, Loving the comments of Sushil ji. Thanks to both of you.

    ReplyDelete
  17. वाह बहुत बढिया लिंक्‍स ... आभार

    ReplyDelete
  18. वाह बहुत बढिया लिंक्‍स ..
    मुझे शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  19. "GAFIL "JI AAPAKE SUNDER KARYA KE LIYR DIL SE AABHAAR

    ReplyDelete
  20. सुन्दर चर्चा ................

    ReplyDelete
  21. मन के आँगन में खुली फिर से नई मधुशाला,
    ख़ुम* का इतराव नया, फिर से नई मधुबाला,
    दौर चलता रहे और साकी तेरा साथ रहे,
    आज पूरी भी हो जो चाह इक पुरानी है॥
    अश आर तेरे सब के सब जाफरानी हैं ,तू सच मुच रात की रानी है .

    ReplyDelete
  22. हवा पचास फीसद नमी लिए हो और ठंडी हो तब मजा आता है नींद का तापमान और हवा की नमी (Humidity)दोनों मिलकर कम्फर्ट लेविल देते हैं .बढिया उपाय बतलाए हैं आपने अच्छी नींद के .
    .. .कृपया यहाँ भी पधारें -

    सोमवार, 27 अगस्त 2012
    अतिशय रीढ़ वक्रता (Scoliosis) का भी समाधान है काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा प्रणाली में
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    ReplyDelete
  23. मगर मैंने किसी वृक्ष को किसी साथी वृक्ष का
    गला दबाते नहीं देखा ,अरे भाई साहब वृक्ष तो खुद अपनी खाद बन जातें हैं ,हमें दफन को चाहिए, तेरह मन लकड़ी ,खजूर के पेड़ हो गएँ हैं कई ब्लोगर -बड़ा हुआ तो क्या हुआ ,जैसे पेड़ खजूर ,पंथी (पंछी )को छाया नहीं फल लागत अति -दूर ..._______________
    लिंक 18-
    ब्लाग, बागीचा बवाल और बन्दरों की कृपा -बेचैन आत्मा देवेन्द्र पाण्डेय .कृपया यहाँ भी पधारें -

    सोमवार, 27 अगस्त 2012
    अतिशय रीढ़ वक्रता (Scoliosis) का भी समाधान है काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा प्रणाली में
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    ReplyDelete
  24. रैली का क्या हुआ ,रैली में अटकी हुई है नेताजी की जान ,रैली ही अब .रह गई नेता की पहचान ....जबरजस्त व्यंग्य इस गोबर गणेश को परिवार क्या अपनी जान की भी चिंता नहीं है .....बिन रैली साब सून .,भैया बिन थैली सब सून . .कृपया यहाँ भी पधारें -

    सोमवार, 27 अगस्त 2012
    अतिशय रीढ़ वक्रता (Scoliosis) का भी समाधान है काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा प्रणाली में
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    ReplyDelete
  25. तन्हा हूँ पर .....पेड़ सुनाता जीवन राग , . .तन्हा तन्हा मत सोचा कर ......औरों को भी कुछ सोचा कर ....बढ़िया पोस्ट ......महाकाल के हाथ पर गुल होतें हैं पेड़ ,सुषमा तीनों लोक की कुल होतें हैं पेड़ ...,जो तोकू काँटा बुवे ,ताहि को बोये , तू फूल ,तोकू फूल के फूल हैं ,वाकू हैं त्रिशूल (तिरशूल ).कृपया यहाँ भी पधारें -

    सोमवार, 27 अगस्त 2012
    अतिशय रीढ़ वक्रता (Scoliosis) का भी समाधान है काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा प्रणाली में
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    ReplyDelete
  26. आप सभी सुहृदों को हृदय से आभार जो यहां पर पधार कर हमारा उत्साह वर्द्धन किया

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...