चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Saturday, December 01, 2012

एक अहसासों की पोटली और अपनेपन का स्पर्श

आज एक दिसम्बर की चर्चा में आपका स्वागत है………मीठी मीठी ठंड ने दस्तक दे दी है तो हाथ पाँव जल्द गरम हो जायें इसलिये हम सजा लाये हैं आपके लिये चर्चा मंच पर रंग खास खास ………अरे भाई भागेगी सर्दी बस जैसे ही लिंक्स पढने के लिये क्लिक करोगे या कमेंट करने के माउस पकडोगे भूल जाओगे सर्दी ने दी है दस्तक ………तो हाजिर हैं आपके लिये आज के लिंक्स


लघुकथा : फूल और काँटे ...
साथ साथ चलते हैं


परिकल्पना का तीसरा सार्थक कदम

बढे चलो बढे चलो




भगवानने आकर मुझसे कहा
मैं हूँ ना …………अगर समझे तो

 


फेसबुक वालों से इतनी दुश्मनी क्यों ?-- कानून अथवा तानाशाही ?
बिना तानाशाही कौन सा कानून लागू हुआ है 

 


श्रीमद्भगवद्गीता-भाव पद्यानुवाद (४०वीं कड़ी)
एक तू ही तू समाया है


दिन के अंतिम मुहाने पर रखा तेरी चाहत का तिलिस्म

देख तिलिस्म तोडते तोडते मज़ार के दिये भी बुझ गये




हटाओ धूल ये रिश्ते संभाल कर रक्खो

आखिर ज़िन्दगी की तिज़ोरी की यही तो कीमती कुंजी हैं


नज़्म : मर्द और औरत

दो ध्रुव ही रहे


गीतों में कभी कहीं धुप तो कहीं छांव ...

तभी तो मिलेगी ठाँव


दिल से कुछ दूर न हो ...

और तुम पास रहो


चिंतन ...

जरूरी है 

 
लव पैरालल्स ऑन ए ट्रैम्पोलीन
यूँ भी बयाँ होती है मोहब्बत


कविता की सही समालोचना

ऐसे भी होती है


कार्टून कुछ बोलता है- अहम् बैठक


इसमे क्या शक है



दानदाता का नाम..

क्यों बतायें


दुखी हो लेना ही पर्याप्त नहीं है.

तो फिर ?



पाठकों को पोस्ट सुझाएँ Facebook Recommendation Bar से

पाठकों की हो गयी बल्ले बल्ले


सुनो! मृगांका:27: तारे सब बबुना, धरती बबुनिया

सुन रही है ………तुम कहो


how to setup google analytics

तकनीक के दर्शन


अब किसी काम नहीं आयेगी

क्यों?


अशोक कुमार पाण्डेय

अहसासों की पोटली और अपनेपन का स्पर्श 


गुस्ताखियों को कहो ज़रा

गुस्ताख होना छोड दें


2012 में इस दुनिया के अंत की संभावना हकीकत है या भ्रम ??(पहली कडी)

 अब तो बता ही दीजिये 

 

 

अनुभव के मोती  हैं

 

 


अच्छा स्कैच है...



आज की चर्चा को अब विराम ……अगले हफ़्ते फिर मिलते हैं ।

20 comments:

  1. हेमंत सी सुंदर चर्चा और अच्छे लिंक्स ...
    बधाई एवं शुभकामनायें वंदना जी .....

    ReplyDelete
  2. Vandana ji thanks for providing great links.

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सार्थक चर्चा | कार्टूनिस्ट मयंक खटीमा के द्वारा डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) का बनाया स्कैच बहुत भाया | कार्टून कुछ बोलता है- अहम् बैठक भी पसंद आया |

      इसके साथ ही मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए धन्यवाद }

      टिप्स हिंदी में : कोई तो बता दे मेरी पहचान क्या है ?

      Delete
  4. चर्चा और चर्चा में मेरा कार्टून शामिल करने हेतु आपका आभार वंदना जी !

    ReplyDelete
  5. वंदना जी , आपका आभार . शुक्रिया मेरी नज़्म को शामिल करने के लिए. चर्चा मंच बहुत अच्छा बन पड़ा है .. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  6. दुखी हो लेना ही पर्याप्त नहीं है.
    प्रतिभा सक्सेना
    लालित्यम्
    राहें चुन विध्वंस की, मस्त आसुरी शक्ति ।
    धर्म रूप अंकुश कहाँ, जो कर सके विरक्ति ।
    जो कर सके विरक्ति, चाटुकारों की टोली ।
    इर्द-गिर्द थे जमा, एक से थे हमजोली ।
    तोड़ केंद्र बेजोड़, दिया इतिहासिक आहें ।
    चलिए रखें समेट, आज तक पड़ी कराहें ।।

    ReplyDelete
  7. चर्चा में शामिल होकर चारों ओर के हाल-चाल मिले ,आराम से बैठ कर पढ़नेवाले - धन्यवाद वंदना जी !

    ReplyDelete
  8. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स संयोजित किये हैं आपने ... आभार इस प्रस्‍तु‍ति के लिये

    सादर

    ReplyDelete
  9. बढिया चर्चा
    बढिया लिंक्स

    ReplyDelete
  10. सुन्दर लिंक्स...रोचक चर्चा...आभार

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..
    आभार!

    ReplyDelete
  12. बहुत सार्थक चर्चा । अच्छे लिंक्स का संयोजन ।

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन संयोजन .....!!

    ReplyDelete
  14. मीठा और ठंडा दिसम्बर में आपका स्वागत है :)

    ReplyDelete
  15. संक्षिप्त टिप्पणियों के साथ बढ़िया चर्चा!
    आभार!

    ReplyDelete
  16. अच्छा लगा. शुक्रिया.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin