चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, May 09, 2013

ग्रीष्म ऋतु का प्रकोप शुरू ( चर्चा - 1239 )

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
 
ग्रीष्म ऋतु का प्रकोप शुरू हो गया है । लू से बचने के लिए चेहरों पर नकाब आ गए हैं । बारिश का इन्तजार शुरू हो गया है । उम्मीद है घटाएं छाएंगी और फिर मौसम सुहाना होगा । 
चलते हैं चर्चा की ओर 
आज की चर्चा में बस इतना ही 
धन्यवाद 
दिलबाग 
आगे देखिए..."मयंक का कोना"
(1)
अन्तिम इच्छा

टेक्नोलॉजी के युग में भगवान ने टेब ऑन किया , मेरा मुस्कुराता चेहरा प्रोफ़ाईल में देखकर खुश हो गए ...* *मेरी वॉल पर स्टेटस लिखा- वरदान माँग...* *मैंने मौके की नज़ाकत को समझा और वरदान में अन्तिम इच्छा लिख दी ....
(2)
अँगूठी की कीमत ....
My Photo
पूर्णिमा दुबे
(3)
मेरी आवश्यकता

अभी तक संजोए हुए था अपना एक आकाश और एक धरती लेकिन न जाने कहां से तुम आ गए मेरे जीवन में तोड़ दिए मिथक जीवन... 
(4)
अमेरिका तुम्हे जीने नहीं देगा कांग्रेस तुम्हे मरने नहीं देगी

(5)
माँ

लब -जा  हो कैसा भी 
आहट  बनावट कुछ भी हो 
दिल है तुम्हारा  एक सा 
सूरत सजावट कुछ भी हो 

तुम  चीन में हो या चाँद पर 
दिल तो तुम्हारा घर में है 
चिड़िया हो जैसे दूर पर 
अटका तो दिल शजर में है ...
(6)
2G, 3G ,CA G,जीजा G,मामा G,भांजा G,कब सुधरोगे G? »

आज दो मुख्य फैसले देश की जनता के लिए आए  1.कर्नाटक में बीजेपी ने सत्ता खोई  2.कोयला घोटाला में सुप्रीम कोर्ट की सरकार को फटकार         कर्नाटक में बीजेपी की सरकार को जनता ने नकार दिया येदुरप्पा के भ्रष्टाचार के कारण...
(7)
चन्‍द्र निशा चन्‍द्र निशा अम्‍बर को एक रंग से परिभाष नहीं कर पा रहा हूँ चन्‍द्र सितारों को देखकर स्‍वयं को सतत् शांतिमय निर्मल कर रहा हूँ चन्‍द्रप्रभा मेरी घुटन, कुढ़न विसंगत ह्रदय को असंसार कर गई....

13 comments:

  1. भाई दिलबाग विर्क जी!
    आपने ग्रीष्म ऋतु का प्रकोप शुरू ( चर्चा - 1239 ) में बहुत सुन्दर और सामयिक लिंको का समावेश किया है!
    सादर..आभार!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. गर्मी के कारण बुरा हाल फिर भी अच्छा मंच सजाया है आपने पर्याप्त लिक्स पढ़ने के लिए हैं |मारी रचनाएं शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  3. अच्छे लिनक्स मिले, आभार

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर लिंक्स! इतने सुन्दर सूत्र उपलब्ध कराने हेतु आभार!
    इस अंक में मुझे स्थान प्रदान करने हेतु आपका आभार!

    ReplyDelete
  5. भीषण गर्मी में रंग बिरंगे लिंक आँखों को शीतलता प्रदान कर रहे हैं !
    बहुत आभार !

    ReplyDelete
  6. चर्चामंच एवं आपके के स्नेह की अत्यंत आभारी हूं दिलबाग विर्क जी !

    आपने बहुत मनोरम लिंक्स चुने हैं आज के चर्चामंच के लिए...
    बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब sir आपने वाकई बहुत अछे सूत्र बांधे हैं
    मेरे ब्लॉग पर भी एक निगाह डालें
    http://merisachhibaat.blogspot.in/2013/05/2g-3g-ca-g-g-g-g-g.html
    गुरु जी को प्रणाम ,आपने भी बहुत अछे links जोड़े हैं ,मेरी post लगाने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. आभार मंच देने के लिए ...

    ReplyDelete
  9. बहुत-बहुत धन्‍यवाद आप लोगों का। अच्‍छे लिंक्‍स हैं।

    ReplyDelete
  10. सर्वोत्त्कृष्ट, अत्युत्तम चर्चा बहुत बहुत आभार
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र कुछ नया और रोचक पढने और जानने की इच्‍छा है तो इसे एक बार अवश्‍य देखें,
    लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
    MY BIG GUIDE

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर सूत्र..

    ReplyDelete
  12. आदरणीय शास्त्री जी देर से आने के लिए माफी चाहता हु
    एक से बढ़कर एक अच्छे लींक का सुंदर सूत्रिकरण

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin