Followers

Monday, May 06, 2013

फिर एक गुज़ारिश :चर्चामंच 1236

शुभम दोस्तों! 
हाजिर हूँ 
मैं सरिता भाटिया 
अपनी सोमवारीय चर्चा
'फिर एक गुज़ारिश' 
 के साथ!  
लेडीज फर्स्ट 
का जमाना है तो आनंद लीजिए मेरे साथ 
पहले कुछ महिलाओं के ब्लॉग देखिए...!
प्रभु का नाम  
1.
स्वप्न मञ्जूषा 
2.
सोनल रस्तोगी 
3.
और 
बेटे को सरबजीत बनाना होगा 
सरिता भाटिया
4. 
डॉ.शरद सिंह 
5.
अंजू चौधरी 
6.
गजाधर दिवेदी
7.
शशिप्रकाश सैनी 
8.
आनंद कुमार 
9.
डॉ.सुभाष भदौरिया 
10. 
गगन शर्मा 
11.
सुज्ञ
12.
ईश मिश्रा 
ग्रीष्म अवकाश में अपनी यात्रा
सुनिश्चित कीजिये  
13.
मनु त्यागी 
14.
प्रवीण कुमार गुप्ता 
15.
ओम बना धाम 
रत्न सिंह शेखावत 
चलते चलते लीजिए 
कुछ उपयोगी जानकारी 
16.
काजल कुमार 
17.
सनिल सक्सेना 
18.
दिनेश प्रजापति
19. 
आमिर अली दुबई 
एक कार्टून के बिना तो मजा अधूरा है 
20.
कृष भट्ट 
गुरु जी की पतंग ऐसे ही आसमां में उड़ती रहे 
एवं 
हमारा मार्गदर्शन करती रहे 
21. 
मेरी पतंग बड़ी मतवाली 

डॉ.मयंक शास्त्री जी 
दीजिए इजाज़त 
अपनी सरिता भाटिया को  
कीजिए अपनी थकान दूर 
बड़ों को नमस्कार! 
छोटों को प्यार !! 
आगे देखिए..."मयंक का कोना"
(1)
आधुनिक वन मानुष
 खून के रिश्तों को भी हम आज खोते जा रहे हैं। 

वन मानुष के पर्यायवाची ही हम शहरी कहला रहे है। 
(2)
इक अदद सिफ़र - -

न पूछ तन्हाई का आलम बिछुड़ जाने के बाद, 
न सुलग पाए, फिर चिराग़ ए जज़्बात इक बार बुझ जाने के बाद..
(3)
साईकिल की सवारी ..
सोचिये तो बात बहुत छोटी सी है..और अगर विचार करें तो बात बहुत बड़ी, कम से कम मानसिकता का वृहत आकलन तो करती ही है, ये छोटी सी घटना...
काव्य मंजूषा पर स्वप्न मञ्जूषा 

(4)
आप के कंप्यूटर के लिए 150 सॉफ्टवेर वो भी फ्री में..

(5)
पावन धरणी राम की ..........!
पावन धरणी राम की, जिसपे सबको नाज घूम रहे पापी कई, भेष बदलकर आज भेष बदलकर आज, नार को छेड़ें सारे श्वेत रंग पोशाक, कर्म करते हैं कारे नाम भजो श्री राम....
sapne पर shashi purwar

24 comments:

  1. चर्चा की सुन्दर प्रस्तुति...!
    आज सोमवार (06-05-2013) फिर एक गुज़ारिश :चर्चामंच 1236 को आपने बहुत श्रम के साथ सजाया है और संतुलित चर्चा को अंजाम दिया है!
    सरिता भाटिया जी आपका आभार!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. दो दिनों के लिए बाहर जा रहा हूँ!
    बुधवार को फिर आपसे भेंट होगी...!
    सूचनार्थ...!

    ReplyDelete
  3. भारी गुजरेंगे ये दो दिन
    शुभ प्रभात
    एक अच्छी चर्चा में अच्छे लिंक्स
    वाकई में यहां ही लेडीस फर्स्ट का रिवाज है
    सारे गलत काम की शुरुआत लेडीस के साथ ही किये जाते हैं
    सादर

    ReplyDelete
  4. बहुत ही अच्छी चर्चा। मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए आभारी हूँ।
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्‍छी चर्चा ..
    आभार !!

    ReplyDelete
  6. सुन्दर सूत्रों से सजी चर्चा..

    ReplyDelete
  7. बहुत बेहतरीन लिंक्स सुंदर चर्चा ,,,

    RECENT POST: दीदार होता है,

    ReplyDelete
  8. बढ़िया लिंक्स से सजा चर्चा मंच आज का |

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन लिंक्स सुन्दर प्रस्तुतिकरण आदरणीया सरिता जी, हार्दिक आभार.

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन लिंक्‍स संयोजित किये हैं आपने ...आभार

    ReplyDelete
  11. आभार के साथ साथ ...शानदार लिंक्स से सजी पोस्ट

    ReplyDelete
  12. बढिया चर्चा
    सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया लिंक्स-सह- चर्चा प्रस्तुति ...आभार

    ReplyDelete
  14. बढ़िया चर्चा मंच .बढ़िया सेतु चयन और समन्वयन .

    ReplyDelete
  15. सुंदर सूत्रों के साथ बहुत बढ़िया चर्चामंच सजाया है सरिता जी ! बेहतरीन लिंक्स के लिये आपका धन्यवाद !

    ReplyDelete
  16. श्रेष्ठ, उत्कृष्ट, अति उत्तम चर्चा
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये इसे एक बार अवश्‍य देखें,
    लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
    MY BIG GUIDE

    ReplyDelete
  17. प्रिय सरिता जी बहुत सुन्दर सार्थक चर्चा लगाईं है हार्दिक बधाई आपको ।

    ReplyDelete
  18. सरिता जी, आपके ब्लाग गुजारिश पर कई बार जाता हूं,
    पर मेरा कम्प्यूटर ज्ञान बहुत सीमित है, लिहाजा अपनी
    उपस्थिति दर्ज नहीं करा पाता हूं।

    कमेंट का आप्सन साधारण हो जाए तो ज्यादा बेहतर रहता।

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन लिंक्स..........सुन्दर सार्थक चर्चा

    ReplyDelete
  20. सरिता जी,
    उत्कृष्ट सूत्रों से सजाई है आज की चर्चा......
    "क्रोध" पर आलेख को सम्मलित करने के लिए आभार!!

    ReplyDelete
  21. बेहतरीन लिंक्स के लिये आपका धन्यवाद !

    ReplyDelete
  22. सरिता जी बहुत सुन्दर सार्थक चर्चा लगाईं है आपको हार्दिक बधाई,

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...