चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, June 02, 2014

"स्नेह के ये सारे शब्द" (चर्चा मंच 1631)

मित्रों।
सोमवार की चर्चामें मेरी पसंद के लिंक देखिए।
--

रस्म ग़ाफ़िल से निभायी न गयी 

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़ि
--
--

कितना रौशन रौशन उसका चेहरा है 

कितना रौशन रौशन उसका चेहरा है
बैठा उस पर काले तिल का पहरा है...
सत्यार्थमित्र पर सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
--

कितने अनजान थे हम हर्फ़ लुटाते रहे 

कितने अनजान थे हम हर्फ़ लुटाते रहे,
यूँ ही गैरों को हम ये हुनर सिखाते रहे ।
Harash Mahajan
--
--
--

मैं उदास हूँ.. 

पानी में पानी का रंग तलाशना जता देना है 
कि मैं उदास हूँ। 
ख़ुशी में ग़म तलाशना जता देना है कि 
मैं उदास हूँ...
नयी उड़ान + पर Upasna Siag 
--

जिंदगी के रंगमंच पर !!! 

जिंदगी के रंगमंच पर लगाकर आईना जिंदगी ने,
हर लम्‍हा इक नया ही रंग दिखाया है जिंदगी ने ।

ख्‍वाब, हो ख्वाहिश हो या फिर हो कोई जुस्‍तजू,
कदमों का साथ हर मोड़ पे निभाया है जिंदगी ने...
SADA पर  सदा 
--
--
--

डायरी के पन्ने- 21 

My Photo
नीरज कुमार ‘जाट’
--
--
--
--
*सपनें*  

सपनों के करीब 

झिलमिलाते हैं उसके 
कहते हैं कि सपने 
आसमान से आते हैं 
My Photo
--
--
--
--

कार्टून :-  

जब हँसाने वाले मुखौटे डराने लगे ... 

--

"देवालय का सजग सन्तरी" 


देवालय का सजग सन्तरी,
हर-पल राग सुनाता है।
प्राणवायु को देने वाला ही,
पीपल कहलाता है।।

6 comments:

  1. सुप्रभा
    सूत्रों का अच्छा संकलन |
    प्राणवायु मिलती जब कुछ अटका कुछ भटका मन स्थिर होता |
    आशा

    ReplyDelete
  2. बढ़िया चर्चा अच्छे लिंक मिले आभार

    ReplyDelete
  3. बढ़िया चर्चा-
    आभार आपका-

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया लिंक्स के साथ सार्थक चर्चा प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  5. Thanx Mayank Ji.... happy to be here among rainbow collection of links.

    ReplyDelete
  6. बढ़िया प्रस्तुति व लिंक्स , आदरणीय शास्त्री जी व मंच को धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ब्लॉग ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin