Followers

Wednesday, April 04, 2018

"रहने दो सम्बन्ध" (चर्चा अंक-2930)

सुधि पाठकों!
बुधवार की चर्चा में 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--
--

छोड़ोगे जो गरल धरा पर  

क्या तुम नहीं जलोगे? 

तनिक समय अनुकूल हुआ तो 
नाथ! दर्प क्यों इतना नेह विसर्जित 
कर बैठे औ गरल सर्प के जितना? 
छोड़ोगे जो गरल जगत में क्या तुम नहीं जलोगे? 
तुमको भी रहना धरती पर कैसे यहां पलोगे... 
वंदे मातरम् पर abhishek shukla   
--
--
--
--

भारत बंद :  

मेरा नज़रिया 

कल यानी 2 अप्रैल 2018 के भारत बंद के बारे में कुछ बातें : *1.* कल अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के लोगों ने भारत के उच्चतम न्यायालय के एक फ़ैसले जिसमें SC/ST अधिनियम में संशोधन कर दिया गया है के विरोध में अखिल भारतीय बंद का आयोजन किया। *2.* इस भारत बंद की तैयारी माननीय उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद ही शुरू हो गयी थी। व्यापक पैमाने पर अधिक से अधिक लोगों को इस बंद में शामिल होने एवं इसे सफल बनाने के लिए न केवल जागरूक किया गया 
बल्कि उनसे लगातार अपील की गयीं... 
हमारी आवाज़ पर शशिभूषण  
--
--

5 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार सखी
    सादर

    ReplyDelete
  2. सार्थक और संतुलित चर्चा।
    आभार राधा तिवारी जी।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर चर्चा। आभार राधा जी 'उलूक' की भीड़ को आज के पन्ने पर स्थान देने के लिये।

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा. मेरी रचना "खूबसूरत" को स्थान देने हेतु बहूत शुक्रिया...

    https://meremankee.blogspot.in/2018/04/beauty.html

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"चलना सीधी चाल।" (चर्चा अंक-2951)

सुधि पाठकों! बुधवार   की चर्चा में  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। राधा तिवारी (राधे गोपाल)  -- दोहे   "चलना सीधी चाल।&...