Followers

Monday, July 23, 2018

"एक नंगे चने की बगावत" (चर्चा अंक-3041)

सुधि पाठकों!
सोमवार  की चर्चा में 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--

आया सावन 

Akanksha पर Asha Saxena 
--
--
--
--
--

नयी यादें 

प्यार पर Rewa tibrewal  
--
--

दुनिया नहीं कुछ मुझे देने वाली 

नमस्कार, स्वागत है आप सभी का यूट्यूब चैनल "मेरे मन की" पर| "मेरे मन की" में हम आपके लिए लाये हैं कवितायेँ , ग़ज़लें, कहानियां और शायरी| आज हम लेकर आये है कवियत्री रेखा जी का सुन्दर गीत "दुनिया नहीं कुछ मुझे देने वाली"| आप अपनी रचनाओं का यहाँ प्रसारण करा सकते हैं और रचनाओं का आनंद ले सकते हैं... 
Mere Man Kee पर 
Rishabh Shukla  
--

चन्द माहिया : 

क़िस्त 49 

:1:ये इश्क़ है जान-ए-जांतुम ने क्या समझाये राह बड़ी आसां ?
:2:ख़ामोश निगाहें भीकहती रहती हैंकुछ मन की व्यथायें भी
:3:कुछ ग़म की सौगातेंजब से गए हो तुम... 

पका ब्लॉग पर आनन्द पाठक  
--

शीर्षकहीन 

रात के पलछिन और तुम्हारी याद
वो बरसात की रात 
कोर भीग रहे, कुछ सूख रहे
कँपते हाथ पर्दा हटा 
देख रहे चाँद
जैसे दिख रहे तुम
हँस रहे तुम
गा रहे तुम
उस धुन और मद्धम चाँदनी में.. 
स्पर्श पर deepti sharma 
--
--

एक माँ का सपना 

Sunehra Ehsaas पर 
Nivedita Dinkar  
--

9 comments:

  1. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  2. करीने से सजाया गया चर्चा का गुलदस्ता।
    आपका आभार राधा बहन जी।

    ReplyDelete
  3. उम्दा चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद,राधा दी।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति। आभार राधा जी 'उलूक' के चने को जगह देने के लिये।

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  6. उम्दा चर्चा राधाजी |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  7. उम्दा चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद|

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चर्चा. शुक्रिया

    ReplyDelete
  9. नीरजजी के बारे में पढ़ कर मिल कर याद करने का अहसास होता है.
    क्या एक बार पूरी चर्चा उनको समर्पित नहीं हो सकती जिसमें उनके वो संस्मरण हों जो किसी एक जगह संकलित नहीं है.

    राधाजी आपका हार्दिक आभार.
    सभी शामिल लोगों को बधाई.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"नेता बन जाओगे प्यारे" (चर्चा अंक-3071)

मित्रों। बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   ...