Wednesday, April 03, 2019

"मौसम सुहाना हो गया है" (चर्चा अंक-3294)

मित्रों!
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--

विज्ञान की महिमा 

पत्थर के पेड़ हरे होगें 
मानव  ज्ञान  की  राह  चला 
धरा  का  सीना  छल्ली  कर  
लेने  उस  की     थाह  चला  

न पतझड़ ,न बसंत  का इंतज़ार  
 धरा  का  दामन  होगा  भरा 
      फूलों का होगा ढ़ेर 
  दर्द  में  डूबी  होगी  धरा... 
Anita saini 
--

वक्त के संग 

पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा  
--

मौसम सुहाना हो गया है 

मौसम सुहाना हो गया है,  
समाँ आशिकाना हो गया है।  
जिन रास्तों पर अक्सर आते जाते थे,  
उन पर चले बिना एक जमाना हो गया है... 
जयन्ती प्रसाद शर्मा 
--

क्या है कविता 

Sudhinama पर 
sadhana vaid 
--
--
--

अप्रैल फूल 

मूर्ख बने तो क्या हुआ, रखिए खुद को कूल।  
हँसे-हँसाएँ आप हम, डे  है अप्रैल फूल... 
Himkar Shyam  
--
--
--
अकेला 
तन्हा हूँ पर अकेला नहीं हूँ
तेरी यादों में आज भी जिन्दा हूँ
राहे माना हमारी जुदा थी
दो कदम पर जो साथ चले
कस्ती वो मझधारों की मारी थी
लकीरें क़िस्मत भी दगा कर गयी... 
RAAGDEVRAN पर 
MANOJ KAYAL 
--

शरारत 

Akanksha पर 
Asha Saxena 
--
--

लालकृष्ण आडवाणी शाम को  

प्रधान मंत्री पद की शपथ लेंगे ,  

नरेंद्र मोदी कांग्रेस अध्यक्ष बने 

लालकृष्ण आडवाणी नरेंद्र मोदी आखिर वही हुआ जिस का अंदेशा बीते पांच साल से था। राहुल गांधी को आज कांग्रेस अध्यक्ष पद से बर्खास्त कर दिया गया है । इस के पहले हुआ यह कि अहमद पटेल की सलाह पर सोनिया गांधी आज सुबह श्री हरी कोटा से एमीसैट की लांचिंग के पहले ही नरेंद्र मोदी के घर पहुंचीं। बिना किसी मीडिया के। कांग्रेस पार्टी को बचाने की गरज से। नरेंद्र मोदी को कांग्रेस अध्यक्ष पद प्रस्तावित कर... 
Dayanand Pandey  
--

लघुकथा :  

दूसरा अवसर 

झरोख़ा पर 
निवेदिता श्रीवास्तव 
--
--
--

5 comments:

  1. एक से बढ़कर एक पोस्ट बेहतरीन चर्चा
    मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए आदरणीय श्री का मै आभारी हु

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार शास्त्री जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन चर्चा प्रस्तुति
    शानदार रचनाएँ, मुझे स्थान देने के लिए सहृदय आभार आदरणीय
    सादर

    ReplyDelete
  4. सुंदर चर्चा। आभार मेरी रचना शामिल करने के लिए।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।