Sunday, April 14, 2019

"दया करो हे दुर्गा माता" (चर्चा अंक-3305)

रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--

स्नेह की लालिमा 

Screenshot_20190412-193541_Photos
स्नेह की लालिमा फैली  

यूँ धरा पर दूर तलक   
मखमली कोमल अहसासों में  
लिपटा हो जैसे  
जमी से नील फ़लक ... 
गूँगी गुड़िया पर Anita saini 
--

धर्म 

     ******तुझसे  सीखा हे पुरुषोत्तम है  संघर्ष  ही  जीवन- धर्म ।
विमाता को दे कर सम्मानपुत्र धर्म का किया  निर्वहन ।
सिंहासन की चाह न कीकह, वन भी है अपना स्वर्ग... 

--
--

स्वप्न अधूरा रह जाता 

--

एक ग़ज़ल :  

जब भी शीशे का --- 

जब भी शीशे का इक मकां देखा  
पास पत्थर की थी , दुकां देखा  
दूर कुर्सी पे है नज़र जिसकी  
उसको बिकते जहाँ तहाँ देखा... 
आनन्द पाठक 
--

महत्वपूर्ण सबक 

... मतदान के रूप में खड़े जनविरोध को जनसमस्याओ के विरुद्ध जनांदोलन में बदला जा सकता है और बदल देना चाहिए | जनहित के लिए जनांदोलन को बहुआयामी बनाने की शुरुआत अगर ब्रिटिश काल में ब्रिटिश राज विरोधी आंदोलनों से हुई थी तो आज की शुरुआत चुनाव में जनविरोधी नीतियों के जनविरोध की अभिव्यक्ति के साथ ''नोटा '' पर मतदान के रूप में की जा सकती है |
sunil kumar  
--
--
--

एक औरत ..... 

पूजा प्रियम्वदा 

तुम्हारे बच्चों की माँ को
उनके साथ सोता छोड़कर
एक औरत दुनिया में लौटती है
हँसती है
जितना वो चाहें
जब वो चाहें और
पहनती है जो वो चाहें... 
yashoda Agrawal  
--
--

बात है शब्द नहीं हैं -  

रवीन्द्र भ्रमर 

बात है
शब्द नहीं हैं
कैसे खोल दूँ ग्रंथित मन !!

तुम अधीर प्रान हुए कुछ सुनने को
मर्म के उगे दो आखर चुनने को,
प्रीति है
मुक्ति नहीं है,
कैसे तोड़ दूँ सब बंधन ... 
रवीन्द्र भारद्वाज  
--
--
--
--

8 comments:

  1. बहुत सारी सामग्री है मंच पर,धर्म पर लिखी मेरी रचना को स्थान देने के लिये आभार शास्त्री सर।

    ReplyDelete
  2. मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. प्रणाम आदरणीय 🙏🙏
    बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति👌👌
    मुझे स्थान देने के लिए सहृदय आभार आदरणीय
    सादर

    ReplyDelete
  4. सुप्रभात
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद सिय |

    ReplyDelete
  5. सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  6. शुभ प्रभात...
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  7. सुन्दर चर्चा. मेरी कविता शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।