Followers

Saturday, November 02, 2013

"दीवाली के दीप जले" : चर्चामंच : चर्चा अंक : 1417


नई हुई फिर रस्म पुरानी दीवाली के दीप जले
शाम सुहानी रात सुहानी दीवाली के दीप जले
धरती का रस डोल रहा है दूर-दूर तक खेतों के
लहराये वो आंचल धानी दीवाली के दीप जले

नर्म लबों ने ज़बानें खोलीं फिर दुनिया से कहने को
बेवतनों की राम कहानी दीवाली के दीप जले
लाखों-लाखों दीपशिखाएं देती हैं चुपचाप आवाज़ें
लाख फ़साने एक कहानी दीवाली के दीप जले

निर्धन घरवालियां करेंगी आज लक्ष्मी की पूजा
यह उत्सव बेवा की कहानी दीवाली के दीप जले
लाखों आंसू में डूबा हुआ खुशहाली का त्योहार
कहता है दुःखभरी कहानी दीवाली के दीप जले

कितनी मंहगी हैं सब चीज़ें कितने सस्ते हैं आंसू
उफ़ ये गरानी ये अरजानी दीवाली के दीप जले
मेरे अंधेरे सूने दिल का ऐसे में कुछ हाल न पूछो
आज सखी दुनिया दीवानी दीवाली के दीप जले

रात गये जब इक-इक करके जलते दीये दम तोड़ेंगे
चमकेगी तेरे ग़म की निशानी दीवाली के दीप जले
जलते दीयों ने मचा रखा है आज की रात ऐसा अंधेर
चमक उठी दिल की वीरानी दीवाली के दीप जले

)साभार – ‘फ़िराक़’ गोरखपुरी)
नमस्कार  !
मैंराजीव कुमार झाचर्चामंच चर्चा अंक :1417 में,  कुछ चुनिंदा लिंक्स के साथ,आप सबों का स्वागत करता हूँ.  

एक नजर डालें इन चुनिंदा लिंकों पर............................

आशा सक्सेना  
मेरा फोटो



वीरेन्द्र कुमार शर्मा 

मेरा फोटो



कुशवंश   






उपासना सियाग  

My Photo

 



आनंद कुमार द्विवेदी  

मेरा फोटो


विभा रानी श्रीवास्तव  




कुलदीप ठाकुर     

 












पारूल चंद्रा  
   
My Photo


प्रकृति के साथ - विकेश बडोला 
My Photo
   


                                    दीपावली की मंगलकामनाएँ !!                                      
धन्यवाद !!
Photo: शुक्रवार, 1 नवम्बर 2013

" दोहे-धनतेरस" ( डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

धनतेरस के पर्व पर, सजे हुए बाज़ार।
घर में लाओ आज कुछ, नये-नये उपहार।।

झालर-दीपों से सजे, आज सभी के गेह।
मन के नभ से आज तो, बरसे मधुरिम नेह।।

रहे हमेशा देश में, उत्सव का माहौल।
मिष्ठानों का स्वाद ले, बोलो मीठे बोल।।

सरस्वती के साथ हों, लक्ष्मी और गणेश।
तब आएगी सम्पदा, सुधरेगा परिवेश।।

उल्लू बन जाना नहीं, पाकर द्रव्य अपार।
धन के साथ मिले सदा, मेधा का उपहार।।

http://uchcharan.blogspot.in/2013/11/blog-post.html
--
"मयंक का कोना"
--
नील  गगन  से तारे  चुन कर
अंजुलियों  में  जुगनू  भर कर
सुरसरिता  का  कर आवाहन
दिए  प्यार  के  आज  जलाएं
चलो  धरा से  तिमिर  भगाएँ
सोम - सुधा  का  रस बरसाएँ
चलो आज  हम  दीप जलाएं
चलो आज हम ................
--
मधु सिंह : विशालाक्षा (1)
हिमगिरी के वक्ष वितानों पर
जब जली विरह की ज्वाला थी
महाकाल का प्रलय मचा था
महाकाल   की  ज्वाला  थी (1)....
--
मधु सिंह : विशालाक्षा (2)  

धनपति कुबेर के क्रोध अग्नि की
मिला यक्ष को देश निकाला
   भेंट चढ़ गई निर्दोष यक्षिणी
थी राजमहल में जली यक्षिणी (7)...
--
धनतेरस दोहे
 धनतेरस का शुभदिवस ,लाये खुशी अपार 
भाग्यवान सब आप हों, धन की हो बौछार...
गुज़ारिश पर सरिता भाटिया 

--
कैसी अधूरी यह दीवाली

तमाशा-ए-जिंदगी

--
एक दर्द-सा दिल में है कोई
(डायरी से एक और रचना ) 
होठों पे मुस्कान तो है, पर आँखों में वो नूर नहीं; 
कहने को सबकुछ है मगर, न जोश जीने में है कोई | 
एक दर्द-सा दिल में है कोई....
मेरा काव्य-पिटारा पर

ई. प्रदीप कुमार साहनी -
--
दीप दिवाली के ...
डा श्याम गुप्त के दोहे..........
लक्ष्मी गणपति पूजिये, पावन पर्व अनूप, 
बाढ़हि विद्या बुद्धि धन, मानुष हित अनुरूप...
भारतीय नारी

--
कुछ लिंक "आपका ब्लॉग" से
Along with a healthy diet and regular exercise ,
supplementing with vitamin C can be 
an important part of supporting total healthOver 50 percent of the U.S. population takes a dietary supplement  to support wellness, according to the Centers for Diseases Control and prevention (CDC ).That is roughly a 10 % increase from the 1980s .Research shows increasing benefits of vitamins and minerals ,particularly vitamin C.
--
मेरे ये पल अनुराग-भरे

फिर एक कसक बनकर अब क्यों?
तुम कर लेती हो याद मुझे...
--
दीपों का त्यौहार
मंगलमय हो आपको दीपों  का त्यौहार
जीवन में आती रहे पल पल नयी बहार
ईश्वर से हम कर रहे हर पल यही पुकार
लक्ष्मी की कृपा रहे भरा रहे घर द्वार..

--
याद आएंगे केपी सक्सेना
हमेशा याद आएंगे केपी सक्सेना
--
दीवाली

बह हमसे बोले हसंकर कि आज है दीवाली
उदास क्यों है दीखता क्यों बजा रहा नहीं ताली
मैं कैसें उनसे बोलूं कि जेब मेरी ख़ाली
जब हाथ भी बंधें हो कैसें बजाऊँ ताली...

--
दीप जलाना सीखो ....
छाया हो जब घनघोर अँधेरा, तब तुम दीप जलाना सीखो । 
कुछ रोना कुछ हंसना सीखो, कुछ खुद को समझाना सीखो ...
दिल की बातें पर Sunil Kumar 

--
जल उठे दीपक

हायकु गुलशन.

--
प्रीति का एक दीपक जलाओ सखे !......

 प्रीति का एक दीपक जलाओ सखे !
देहरी का सभी तम सिमट जायगा |
प्रीति का गीत इक गुनुगुनाओ सखे !
ये ह्रदय दीप फिर जगमगा जायगा...
डा श्याम गुप्त ....सृजन मंच ऑनलाइन
--
"मैना" 
बालकृति 
"हँसता गाता बचपन" से
बालकविता
"मैना"
मैं तुमको गुरगल कहता हूँ,
लेकिन तुम हो मैना जैसी।
तुम गाती हो कर्कश सुर में,
क्या मैना होती है ऐसी??
--
मीठी बोली से ही तो,
मन का उपवन खिलता है।
अच्छे-अच्छे कामों से ही,
जग में यश मिलता है।।

बैर-भाव को तजकर ही तो,
अच्छे तुम कहलाओगे।
मधुर वचन बोलोगे तो,
सबके प्यारे बन जाओगे।।
हँसता गाता बचपन

33 comments:

  1. छोटी दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें .........

    ReplyDelete
  2. दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं!
    आभार!

    ReplyDelete
  3. शुभ दीपावली....

    ReplyDelete
  4. मित्र !शुभ दीपावली !!आशा है कि आप सपरिवार सकुशल होंगे |
    सुन्दर आकर्षक रचनाओं के संयोजन हेतु साधुवाद !!!

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय-

    आप सभी को --
    दीपावली की शुभकामनायें-

    ReplyDelete
  6. आज तो चर्चा जगमगा रही है
    रोशनी हर तरफ फैला रही है
    आभारी है उल्लूक उसके पन्ने
    दिवाला होना किस चीज का अच्छा होता है
    को ला कर जो दिखा रही है !


    ReplyDelete
  7. sundar charcha . achchhe link mile...badhai

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय-

    आप सभी को --
    दीपावली की शुभकामनायें-

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन चर्चा सजाई है, एक से बढ़कर एक पोस्ट .. आप सबको दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें ..

    ReplyDelete
  10. बढ़िया चर्चा व अच्छे सूत्र , राजीव भाई और चर्चा मंच को दीपावली की शुभकामनाएँ
    नया प्रकाशन --: 8in1 प्लेयर डाउनलोड करें
    पिछला प्रकाशन --: प्रतिभागी - गीतकार के.के.वर्मा " आज़ाद " ---> A tribute to Damini

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन चर्चा, बढ़िया सूत्र |
    मेरी रचना को "मयंक का कोना" में स्थान देने के लिए आभार, आदरणीय शास्त्री जी |
    आप सभी को दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  12. सुंदर व सार्थक चर्चा... दिवाली की शुभकामनाओं के साथ


    धरा मानव से कह रही है...
    दोनों ओर प्रेम पलता है...

    ReplyDelete
  13. सुंदर सूत्रों से सजा बेहतरीन चर्चा मंच ! सभी मित्रों एवँ पाठकों को दीवाली की हार्दिक मंगलकामनायें !

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुन्दर रचनाएं
    दीपावली कि हार्दिक शुभकामनाएँ
    :-)

    ReplyDelete
  15. सुन्दर प्रस्तुति………

    काश
    जला पाती एक दीप ऐसा
    जो सबका विवेक हो जाता रौशन
    और
    सार्थकता पा जाता दीपोत्सव

    दीपपर्व सभी के लिये मंगलमय हो ……

    ReplyDelete
  16. सुन्दर कड़ियों से सजी चर्चा।।
    मेरी प्रस्तुति को "चर्चा मंच" में शामिल करने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद।।

    दीपों के उत्सव दीपावली की हार्दिक बधाईयाँ एवं शुभकामनाएँ।।

    नई कड़ियाँ : भारतीय क्रिकेट टीम के प्रथम टेस्ट कप्तान - कर्नल सी. के. नायडू

    भारत के महान वैज्ञानिक : डॉ. होमी जहाँगीर भाभा

    ReplyDelete
  17. आपको दीपावली की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  18. diwali ke ujjawal pawan awsar pr ek se badh kar ek jhilmil blogs .. kuchh fuljhariya ro kuchh damdaar bam sarikhe ..kuchh diya se path dikhate .. inke madhya meri rachna ko sthan de kar sammanit karne ke liye haardik aabhar Adraniy mayak sir ji :) sadar naman

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपको और आपके पूरे परिवार को दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    स्वस्थ रहो।
    प्रसन्न रहो हमेशा।
    --
    आभार।

    ReplyDelete
  20. आप सबों का हार्दिक आभार एवं दीपोत्सव की मंगलकामनाएं !!

    ReplyDelete
  21. दीपावली पर सुंदर दीपों के कडियों की ये श्रृंखला । गिनते हैं एक एक कडी।

    ReplyDelete
  22. दीपावली के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभ कामनाएं |मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद
    |

    ReplyDelete
  23. सन्दर चयन...दीपावली की शुभकामनाएं ......

    ReplyDelete
  24. मेरी रचना को स्थान देने के लिए आभार,

    ReplyDelete
  25. दीप एक : रंग अनेक
    राजीव कुमार झा
    उत्सव त्रयी मुबारक।बहुत खूब अपनी संस्कृति और परम्परा तथा सीख को दीपक के माध्यम से अभिव्यक्ति दी है इस पोस्ट ने।
    नूरे खुदा है कुफ़ की हरकत पै खंदाजन
    फूकों से ये चिराग बुझाया न जाएगा

    ReplyDelete
  26. जल्दी-जल्दी कदम बढ़ाकर,
    तुम आगे को बढ़ती हो।
    अपनी सखी-सहेली से तुम,
    सौतन जैसी लड़ती हो।।
    फितरत का सुन्दर बखान।
    बढ़िया बाल कविता।
    अर्थपूर्ण उपालम्भ लिए।

    बैर-भाव को तजकर ही तो,
    अच्छे तुम कहलाओगे।
    मधुर वचन बोलोगे तो,
    सबके प्यारे बन जाओगे।।
    हँसता गाता बचपन

    उत्सव त्रयी मुबारक।

    ReplyDelete
  27. असफल खर की चेष्टा, हो बेहद गमगीन |
    लंका जाकर के खड़ा, मुखड़ा दुखी मलीन ||

    रावण बरबस पूछता, क्यूँ हो बन्धु उदास |


    कौशल्या के गर्भ का, करके सत्यानाश ||



    मार्मिक प्रसंग .मुबारक उत्सव त्रयी .

    ReplyDelete
  28. सांस्कृतिक पक्ष को उजागर करते दोहे सुन्दर मनोहर।

    धनतेरस के पर्व पर, सजे हुए बाज़ार।
    घर में लाओ आज कुछ, नये-नये उपहार।

    सांस्कृतिक पक्ष को उजागर करते दोहे सुन्दर मनोहर।

    धनतेरस के पर्व पर, सजे हुए बाज़ार।
    घर में लाओ आज कुछ, नये-नये उपहार।

    ReplyDelete
  29. सांस्कृतिक पक्ष खंगालते दोहे परम्परा के आईने से

    नरकासुर का वध किया ,देव छुड़ाए आज

    धनतेरस दोहे
    धनतेरस का शुभदिवस ,लाये खुशी अपार
    भाग्यवान सब आप हों, धन की हो बौछार...
    गुज़ारिश पर सरिता भाटिया

    बंदी गृह से मुक्त कर कृष्ण बचाई लाज।

    ReplyDelete

  30. मधु सिंह : विशालाक्षा (1)
    हिमगिरी के वक्ष वितानों पर
    जब जली विरह की ज्वाला थी
    महाकाल का प्रलय मचा था
    महाकाल की ज्वाला थी (1)....
    --
    मधु सिंह : विशालाक्षा (2)
    धनपति कुबेर के क्रोध अग्नि की
    मिला यक्ष को देश निकाला
    भेंट चढ़ गई निर्दोष यक्षिणी
    थी राजमहल में जली यक्षिणी (7)...

    सुंदरम मनोहरम दीप शिखा सी ज्योति प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  31. पाव पाव दीपावली, शुभकामना अनेक |

    वली-वलीमुख अवध में, सबके प्रभु तो एक |

    सब के प्रभु तो एक, उन्हीं का चलता सिक्का |
    कई पावली किन्तु, स्वयं को कहते इक्का |


    जाओ उनसे चेत, बनो मत मूर्ख गावदी |
    रविकर दिया सँदेश, मिठाई पाव पाव दी ||


    वली-वलीमुख = राम जी / हनुमान जी
    पावली=चवन्नी

    ReplyDelete
  32. सुन्दर व पठनीय सूत्र..

    ReplyDelete
  33. Nice Blog & Buy Products Electronics online at best price fromOnline Electronics Shopping Site In India

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।