समर्थक

Wednesday, April 02, 2014

"स्थायी मूर्ख" चर्चा मंच 1570


 नवरात्रि की मंगलकामनाएं-
स्वास्थ्य समस्या से उबरने कि कोशिश में हूँ-
इसीलिए नियमित नहीं हो पा रहा हूँ ब्लॉग पर-सादर  
-रविकर 


कार्ट्रन:- टोपी भी ले लो झाड़ू भी ले लो और लौटा दो मेरी जमानत

काजल कुमार Kajal Kumar 


वोट नहीं डालोगे तो लानत है तुमपर

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी


"सरस्वती वन्दना" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

खनके चिड़ियों के कंगन

Dr.jagdish vyom

Sandeep Panwar's Life book March 2014 संदीप पवाँर की जीवनी-मार्च २०१४

SANDEEP PANWAR


मोदी का इंटरव्यू किरण बेदी को भी?.... सोमबार शाम को एबीपी कि बड़ी बहस में दिखाया गया मेरा यह कार्टून

IRFAN







हो सके तो ....

Dr (Miss) Sharad Singh 


सेहतनामा

Virendra Kumar Sharma 



"अद्यतन लिंक"

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
पाती 
चोरों के नाम (१,अप्रेल) मेरे अपने चोर बन्धु/बंधुओ, ये दिल से लिखा गया पत्र मैं आपके सहूलियत के लिए लिखकर रखे जा रहा हूँ. मैं हफ्ता-दस दिनों के लिए बाहर जा रहा हूँ, मुझे यकीन है कि आपको अपनी सेंधमारी में मेरे घर पर लटका हुआ ताला इसकी खुली जानकारी दे देगा...

जाले पर पुरुषोत्तम पाण्डेय 
--

विधा - कहानी,कविता,लेख प्रकाशन - कहानी संग्रह- नीले पंखों वाली लड़कियाँ- (स्वराज प्रकाशन) नर्गिस फिर नहीं आएगी- (सामयिक प्रकाशन) गुलमोहर गर तुम्हारा नाम होता-राजकमल प्रकाशन (प्रकाशनाधीन) कविता संग्रह : मौसम भर याद- (सुकीर्ति प्रकाशन) चांद ब चांद- (बोधि प्रकाशन) सम्मान- समाज रत्न, सरस्वती साहित्य सम्मान, महादेवी वर्मा सम्मान स्व0 श्री हरि ठाकुर स्मृति सम्मान, और विक्रमशिला हिन्दी विद्यापीठ से विद्यावचस्पति की मानद उपाधि अनुवाद- रचनाओं का पंजाबी,मलयालम,उर्दू भाषाओं में अनुवाद व मंचन *कवि का काम ही है अपने आस पास की दुनिया के शोषित-वंचित जन की पीड़ा को शब्द देना। ...
पहली बारपरpahlee bar 
--
--
फ़ोन की लम्बी लम्बी बातें कभी वो सुकून नहीं दे सकती जो चिट्ठी के चंद शब्द देते हैं .तुम्हे कभी लिखने का शौक नहीं था और पढने का भी नहीं तो मेरी न जाने कितनी चिट्ठियां मन की मन में रह गई न उन्हें कागज़ मिले न स्याही ...


Fulbagiyaपर हेमंत कुमार

 ईशावास्यं...' के तृतीय भाग .. 

”मा गृध कस्यविद्धनम." 

का काव्य-भावानुवाद..... 

डा श्याम गुप्त..

11 comments:

  1. सुप्रभात
    सूत्रों का सुन्दर संयोजन |
    आशा

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छे लिंक्स के साथ बेहतरीन चर्चा। "फ़ुलबगिया" को भी हिस्सा बनाने के लिये शुक्रिया।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।
    रविकर जी आपका आभार।

    ReplyDelete
  4. सुंदर सूत्र संकलन सुंदर चर्चा ।

    ReplyDelete
  5. आपको ये बताते हुए हार्दिक प्रसन्नता हो रही है कि आपका ब्लॉग ब्लॉग - चिठ्ठा - "सर्वश्रेष्ठ हिन्दी ब्लॉग्स और चिट्ठे" ( एलेक्सा रैंक के अनुसार / 31 मार्च, 2014 तक ) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएँ,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  6. बढ़िया प्रस्तुति के साथ अच्छे सूत्रों का समागम , आ० रविकर सर व मंच को धन्यवाद ! व कामना हैं की जल्द से जल्द रविकर सर का स्वास्थ्य सुधरे !
    ⓘⓐⓢⓘⓗ ( हिन्दी में जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छे लिंक्स का संकलन है. काजल कुम्मर जी की तूलिका व्यंग और यथार्थ पर सोचने को मजबूर करती है.

    ReplyDelete
  9. धन्यवाद ..सुन्दर संकलन....

    ReplyDelete
  10. रविकर जी आप अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

    ReplyDelete
  11. अत्यन्त रोचक सूत्र।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin